Wednesday, Jan 23 2019 | Time 15:26 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पुलिस ने की स्थानीय लोगों से मदद की अपील
  • पात्रता निर्धारित होते ही दिये जायेंगे कर्जमाफी के प्रमाण पत्र-आंजना
  • प बंगाल सरकार राज्यभर में मना रही है ‘सुभाष उत्सव’
  • नार्वे के सांसद हिमांशु गुलाटी सहित 30 लोगों को मिलेगा प्रवासी भारतीय सम्मान
  • ---------------------
  • खुदरा कारोबार कंपनियों की विश्व सूची में रिलायंस रिटेल की 95 पायदान की छलांग
  • भारी हिमपात तथा मूसलाधार बारिश से जनजीवन प्रभावित
  • मोदी ने किया लाल किले में नेताजी संग्रहालय का उद्घाटन
  • उप्र में गठबंधन की घोषणा से पहले सपा-बसपा ने नहीं ली सलाह: बब्बर
  • एयर इंडिया के लिए पाँच वर्ष में सबसे बढ़िया रहा बीता साल
  • महिला सैन्य अधिकारी को प्रताड़ित न करे सरकार: सुप्रीम कोर्ट
  • पर्रिकर ने सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर उनको नमन किया
  • सोना 115 रुपया सस्ता, चाँदी 310 रुपये चमकी
  • प्रियंका-सिंधिया बदलेंगे उत्तर प्रदेश की राजनीतिक तस्वीर: कांग्रेस
  • कांग्रेस सरकार चुनावों में किए सभी वादे करेंगी पूरा- महंत
राज्य » बिहार / झारखण्ड Share

भाई-बहन के स्नेह का प्रतीक है भाईदूज

भाई-बहन के स्नेह का प्रतीक है भाईदूज

पटना 08 नवंबर (वार्ता) भाई-बहन के अटूट प्रेम और स्नेह के प्रतीक का पर्व ‘भैयादूज’ को बहनें अपने भाइयों के स्वस्थ तथा दीर्घायु होने की प्रार्थना करती हैं।

भाईदूज का त्योहार कार्तिक मास की द्वितीया को मनाया जाता है। भाईदूज का त्योहार भाई बहन के स्नेह को सुदृढ़ करता है। यह त्योहार दिवाली के दो दिन बाद मनाया जाता है। भाईदूज पर बहनें भाई की लम्बी आयु की प्रार्थना करती हैं। इस दिन को भ्रातृ द्वितीया भी कहा जाता है। इस पर्व का प्रमुख लक्ष्य भाई तथा बहन के पावन संबंध एवं प्रेमभाव की स्थापना करना है।

भाईदूज के दिन बहनें रोली एवं अक्षत से अपने भाई का तिलक कर उसके उज्ज्वल भविष्य के लिए आशीष देती हैं। साथ ही भाई अपनी बहन को उपहार देता है। यह त्योहार देश भर में धूमधाम से मनाया जाता है। हालांकि इस पर्व को मनाने की विधि हर जगह एक जैसी नहीं है। उत्तर भारत में जहां यह चलन है कि इस दिन बहनें भाई को अक्षत और तिलक लगाकर नारियल देती हैं वहीं पूर्वी भारत में बहनें शंखनाद के बाद भाई को तिलक लगाती हैं और भेंट स्वरूप कुछ उपहार देती हैं। मान्यता है कि इस दिन बहन के घर भोजन करने से भाई की उम्र बढ़ती है।

भाई दूज के दिन बहनें बेरी पूजन भी करती हैं। इस दिन बहनें भाइयों को तेल मलकर गंगा यमुना में स्नान भी कराती हैं। भाई दूज के दिन गोधन कूटने की प्रथा भी है। गोबर की मानव मूर्ति बना कर छाती पर ईंट रखकर स्त्रियां उसे मूसलों से तोड़ती हैं। स्त्रियां घर-घर जाकर चना, गूम तथा भटकैया चराव कर जिव्हा को भटकैया के कांटे से दागती भी हैं।

       भैयादूज के दिन यमराज तथा यमुना जी के पूजन का विशेष महत्व है। धर्म ग्रंथों के अनुसार, कार्तिक शुक्ल द्वितीया के दिन ही यमुना ने अपने भाई यम को अपने घर बुलाकर सत्कार करके भोजन कराया था। इसीलिए, इस त्योहार को यम द्वितीया के नाम से भी जाना जाता है। यमराज ने प्रसन्न होकर यमुना को वर दिया था कि जो व्यक्ति इस दिन यमुना में स्नान करके यम का पूजन करेगा, मृत्यु के बाद उसे यमलोक में नहीं जाना पड़ेगा।

भगवान सूर्य नारायण की पत्नी का नाम छाया था। उनकी कोख से यमराज तथा यमुना का जन्म हुआ था। यमुना यमराज से बड़ा स्नेह करती थी। वह उससे बराबर निवेदन करती कि इष्ट मित्रों सहित उसके घर आकर भोजन करो। अपने कार्य में व्यस्त यमराज बात को टालते रहे। कार्तिक शुक्ला का दिन आया। यमुना ने उस दिन फिर यमराज को भोजन के लिए निमंत्रण देकर, उसे अपने घर आने के लिए वचनबद्ध कर लिया।

यमराज ने सोचा कि मैं तो प्राणों को हरने वाला हूं। मुझे कोई भी अपने घर नहीं बुलाना चाहता। बहन जिस सद्भावना से मुझे बुला रही है, उसका पालन करना मेरा धर्म है। बहन के घर आते समय यमराज ने नरक निवास करने वाले जीवों को मुक्त कर दिया। यमराज को अपने घर आया देखकर यमुना की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। उसने स्नान कर पूजन करके व्यंजन परोसकर भोजन कराया। यमुना द्वारा किए गए आतिथ्य से यमराज ने प्रसन्न होकर बहन को वर मांगने का आदेश दिया।

यमुना ने कहा कि भद्र! आप प्रति वर्ष इसी दिन मेरे घर आया करो। मेरी तरह जो बहन इस दिन अपने भाई को आदर सत्कार करके टीका करे, उसे तुम्हारा भय न रहे। यमराज ने तथास्तु कहकर यमुना को अमूल्य वस्त्राभूषण देकर यमलोक की राह की। इसी दिन से पर्व की परम्परा बनी। ऐसी मान्यता है कि जो आतिथ्य स्वीकार करते हैं, उन्हें यम का भय नहीं रहता। इसीलिए भैयादूज को यमराज तथा यमुना का पूजन किया जाता है।

प्रेम सूरज

वार्ता

More News
85 कार्टन विदेशी शराब जब्त

85 कार्टन विदेशी शराब जब्त

23 Jan 2019 | 2:34 PM

हाजीपुर 23 जनवरी (वार्ता) बिहार में वैशाली जिले के सदर थाना के इजरा गांव के निकट से पुलिस ने ट्रक पर लदी 85 कार्टन विदेशी शराब बरामद की।

 Sharesee more..

ट्रैक्टर की चपेट में आने से महिला की मौत

23 Jan 2019 | 1:51 PM

 Sharesee more..

अपराधी की गोली मारकर हत्या

23 Jan 2019 | 1:37 PM

 Sharesee more..

22 कार्टन विदेशी शराब बरामद

23 Jan 2019 | 1:20 PM

 Sharesee more..
image