Monday, Jun 24 2024 | Time 19:58 Hrs(IST)
image
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


तेलंगाना से पेट नहीं भरा तो 'आप' के साथ शराब घोटाले में शामिल हो गई बीआरएस : यादव

तेलंगाना से पेट नहीं भरा तो 'आप' के साथ शराब घोटाले में शामिल हो गई बीआरएस : यादव

भोपाल, 25 मई (वार्ता) मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने भारत राष्ट्रवादी समिति (बीआरएस) पर हमला बोलते हुए कहा कि पार्टी का तेलंगाना को लूटने से मन नहीं भरा था, इसलिए वो दिल्‍ली जाकर दूसरी भ्रष्‍ट पार्टी आम आदमी पार्टी (आप) के साथ शराब घोटाले में शामिल हो गई है।

डॉ यादव कल रात तेलंगाना के हनमकोंडा – वारंगल में प्रबुद्धजन सम्‍मेलन को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस और बीआरएस पर जमकर हमले किए।

उन्होंने वहां उपस्थित लोगों से कहा कि बीआरएस के चन्‍द्रशेखर राव के कारनामे यहां के लोग उनसे ज्‍यादा जानते हैं। श्री राव की पुत्री दिल्‍ली शराब घोटाले में जेल में हैं। उन्होंने कहा कि ताज्‍जुब इस बात का है कि कि बीआरएस का तेलंगाना को लूटने से मन नहीं भरा था तो वो दिल्‍ली जाकर दूसरी भ्रष्‍ट पार्टी 'आप' के साथ शराब घोटाले में शामिल हो गई।

उन्होंने कहा कि झारखण्‍ड के मुख्‍यमंत्री जेल में हैं। दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री जेल हो आए हैं और जमानत पर हैं। दिल्‍ली शराब घोटाले की आरोपी बीआरएस की कविता भी जेल में हैं। कांग्रेस का राज परिवार तो जमानत पर है ही। कांग्रेस ने 50-60 साल तक पूरे देश को ठगा और बीआरएस ने पिछले दो दशक में तेलंगाना को। कांग्रेस-बीआरएस के नेता और उनकी सरकारें भ्रष्टाचार के दलदल में अखंड डूबी हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस का नया शिगूफा धर्म आधारित वोट जिहाद है| वोट के लिए कांग्रेस की ऐसी कुत्सित मानसिकता को सिरे से उखाड़ फेंकना है। कांग्रेस दलित पिछड़ों का आरक्षण कम करके मुस्लिमों को देना चाहती है।

कांग्रेस के नेतृत्व में इंडी गठबंधन की सरकार बनी तो वो देश भर में कर्नाटक जैसा ही आरक्षण मॉडल लागू करेंगे, लेकिन मोदी जी गारंटी देते हैं कि दलित-पिछड़ों का आरक्षण न कभी खत्म होगा और न ही धर्म के नाम पर बँटेगा।

उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में भाजपा की सरकार ने नक्सलवाद का खात्मा कर दिया है। श्री मोदी की सरकार अगले 5 साल में पूरे देश से नक्सलवाद के खात्मे के लिए प्रतिबद्ध है।

डॉ यादव ने कहा कि मोदी सरकार 'नेशन फर्स्ट' के सिद्धांत पर चलती है, जबकि कांग्रेस और बीआरएस, 'फ़ैमिली फ़र्स्ट' के सिद्धांत को सर्वोपरि रखते हैं।

गरिमा

वार्ता

image