Saturday, Aug 24 2019 | Time 01:29 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • तिरुपति मंदिर के पास के इलाकों में रेड अलर्ट घोषित
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अबू धाबी पहुंचे
  • रहाणे के 81 और जडेजा के 58 से भारत के 297
  • रहाणे के 81 और जडेजा के 58 से भारत के 297
  • नेशनल डोप टेस्टिंग लैब निलंबित, भारत करेगा अपील
लोकरुचि


तितलियों ने चंबल घाटी में बिखेरी इंद्रधनुषी छटा

तितलियों ने चंबल घाटी में बिखेरी इंद्रधनुषी छटा

इटावा, 05 फरवरी (वार्ता) शहरीकरण की अंधाधुंध रफ्तार के बीच लगभग गायब हो चुकी रंग बिरंगी तितलियों ने चंबल घाटी को सतरंगी बना रखा है। चंबल क्षेत्र में यकायक तितलियों की बढ़ी तादाद ने पर्यावरणविदों के चेहरों पर मुस्कान ला दी है वहीं पर्यटकों के लिये ये आकर्षण का केन्द्र बनी हुयी हैं।

पर्यावरण की दिशा में काम कर रही संस्था ‘सोसायटी फॉर कंजरवेशन ऑफ नेचर’ के महासचिव संजीव चौहान का कहना है कि चंबल घाटी में इस समय काफी संख्या में तितलियां नजर आ रही हैं । इन तितलियों को देख कर लोग खुश हो रहे हैं क्योंकि शहरी इलाकों से करीब-करीब पूरी तरह से तितलियां गायब हो चुकी हैं।

इटावा के प्रभागीय वन निदेशक सत्यपाल सिंह का कहना है कि शहरीकरण ने आम इंसान को भले ही लाभ दिया हो लेकिन तितली जैसे जीव का खासा नुकसान हो रहा है और लगातार एक के बाद एक गायब होती चली जा रही हैं । चंबल घाटी से जुड़े इटावा में बीहड़ के भ्रमण के दौरान करीब 20 से अधिक प्रजाति की अनगिनत तितलियां नजर आई हैं ।

उन्होने कहा कि तितलियों की इतनी बड़ी तादाद हाल के दिनों में कभी भी नहीं देखी गयी। बड़ी संख्या में तितलियों के एक ही जगह आना किसी आश्चर्य से कम नहीं है । इटावा में करीब 22 से अधिक प्रजाति की तितलियां देखी जा रही हैं जिनमें प्लेन टाइगर, स्ट्रिट टाइगर, ब्लू टाइगर, कामन क्रो, पेपीलियो और बुसेफुटेड नाम की तितलियां हैं। मवेशियों को चराने वाले ग्रामीणों के मुताबिक वे करीब सात से आठ घंटे बीहड़ में रहते हैं। इस दौरान हवा में तैरती हुई सैकड़ों की तादाद में नजर आने वाली तितलियां खासा मन बहलाती रहती हैं। कभी-कभी तिललियां भैंस या बकरी के ऊपर बैठ जाती है तितलियों के झुंड के झुंड बीहड़ के वातावरण को खुश मिज़ाज करता रहता है।

श्री चाैहान ने बताया कि तितली कीट वर्ग का सामान्य रूप से हर जगह पाया जाने वाला प्राणी है। यह बहुत सुन्दर तथा आकर्षक होती है। तितली एकलिंगी प्राणी है अर्थात नर व मादा अलग-अलग होते हैं। तितली का जीवनकाल बहुत छोटा होता है। ये ठोस भोजन नहीं खातीं, हालांकि कुछ तितलियां फूलों का रस पीती हैं। दुनिया की सबसे तेज उड़ने वाली तितली मोनार्च है। यह एक घंटे में 17 मील की दूरी तय कर लेती है।

प्रकृति के विचार के लिए अपार सुंदरता, कोमलता, कल्याण, प्रेरणा का अक्षय स्रोत व्यक्त कवियों, लेखकों, संगीतकारों, कलाकारों एक तितली पंख भगवान की महिमा का सबूत है। तितलियों बीटल कीड़े की दूसरी सबसे अनेक क्रम हैं । वे विभिन्न आकार, रंग, जीवन, और प्रकृति में घटना महत्व के स्थान हैं।

उन्होने बताया कि तितलियों की आँखें होती हैं इसलिए वो देख तो सकती हैं लेकिन उनकी यह क्षमता सीमित होती है। इनकी आंखे बड़ी और गोलाकार होती हैं। इनमें हजारों सेंसर होते हैं जो अलग- अलग कोण में लगे रहते हैं। इसका मतलब यह हुआ कि तितलियां ऊपर, नीचे, आगे, पीछे, दाएँ, बाएँ सभी दिशाओं में एक साथ देख सकती हैं लेकिन इसका यह नुकसान भी होता है कि वे किसी चीज पर अपनी दृष्टि एकाग्र नहीं कर पातीं और उन्हे धुंधला सा दिखाई देता है।

More News
श्रीकृष्ण की विश्राम स्थली वृन्दावन में अब नही दिखती जन्माष्टमी पर जगमग

श्रीकृष्ण की विश्राम स्थली वृन्दावन में अब नही दिखती जन्माष्टमी पर जगमग

21 Aug 2019 | 1:33 PM

इटावा , 21 अगस्त(वार्ता)भगवान श्रीकृष्ण की विश्रामस्थली के रूप में विख्यात उत्तर प्रदेश के इटावा स्थित वृन्दावन में मुगलकालीन शिल्पकला से निर्मित विशाल गगनचुम्बी मंदिर आवासीय परिसरों में तब्दील हो जाने के बावजूद आज भी लोगों को अपनी ओर आकृष्ट कर रहे हैं ।

see more..
पुष्प तेजोमहल में दर्शन देंगे कान्हा

पुष्प तेजोमहल में दर्शन देंगे कान्हा

20 Aug 2019 | 6:43 PM

मथुरा, 20 अगस्त (वार्ता) श्रीकृष्ण जन्मस्थान के भागवत भवन में अनूठे तरीके से बनाए गए ‘पुष्प तेजोमहल’ में विराजमान होकर ठाकुर इस बार श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर भक्तेां को दर्शन देंगे।

see more..
जौनपुर में कजगांव का ऐतिहासिक कजली मेला मनाया गया

जौनपुर में कजगांव का ऐतिहासिक कजली मेला मनाया गया

20 Aug 2019 | 12:40 PM

जौनपुर , 20 अगस्त(वार्ता)उत्तर प्रदेश के जौनपुर में स्थित कजगांव और राजेपुर के कजरी का ऐतिहासिक मेला सोमवार को हर्षोल्लास से मनाया गया।

see more..
वृंदावन के चार मंदिरों में दिन में मनाया जाता है कृष्ण जन्मोत्सव

वृंदावन के चार मंदिरों में दिन में मनाया जाता है कृष्ण जन्मोत्सव

18 Aug 2019 | 4:55 PM

मथुरा, 18 अगस्त (वार्ता) देश के अन्य देव स्थानों की तरह ब्रज के अधिसंख्य मंदिरों में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी रात में मनाई जाती है वहीं यशोदा भाव से सेवा होने के कारण वृन्दावन के चार मंदिरों में दिन में ही कान्हा का जन्मोत्सव मनाया जाता है। इस बार ब्रज में जन्माष्टमी 24 अगस्त को मनाई जाएगी।

see more..
एक करोड़ से ज्यादा भक्तों ने किए अती वरदार भगवान के दर्शन

एक करोड़ से ज्यादा भक्तों ने किए अती वरदार भगवान के दर्शन

17 Aug 2019 | 4:49 PM

चेन्नई, 17 अगस्त (वार्ता) चेन्नई के कांचीपुरम में चल रहे भगवान अती वरदार उत्सव के आख़िरी दिन पाँच लाख से भी ज्यादा श्रद्धालु शामिल हुए। यह त्योहार 40 सालों में एक बार 48 दिनों तक मनाया जाता है।

see more..
image