Sunday, Dec 8 2019 | Time 10:25 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • योगी ने रैन बसेरा का किया निरीक्षण ,बांटे कंबल
  • योगी ने रेन बसेरा का किया निरीक्षण ,बांटे कंबल
  • धंधेबाज के मकान से 122 कार्टन विदेशी शराब बरामद
  • रानी झांसी रोड के निकट अनाज मंडी में भीषण आग, 30 से अधिक लोगों की मौत
  • राजदूत नियुक्त करने के अमेरिका और सूडान के निर्णय का स्वागत:सऊदी
  • रानी झांसी रोड़ के निकट अनाज मंडी में भीषण आग, 30 से अधिक लोगों के दम घुटने से मरने की आशंका
  • चीन में ट्रक पलटने से सात लोगों की मौत, दो अन्य घायल
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 09 दिसंबर)
  • इजरायल ने हमास के ठिकानों पर किये हवाई हमले
  • नेतन्याहू-पुतिन ने की सुरक्षा तथा अन्य अहम मुद्दों पर चर्चा
  • ‘अमेरिका कर रहा है हाइपरसोनिक हथियारों के विकास में निवेश’
  • अमेरिकी न्यायिक समिति के महाभियोग को लेकर जारी की रिपोर्ट
  • सीरिया के राष्ट्रपति कार्यालय ने की इटली के न्यूज चैनल की निंदा
  • बगदाद में प्रदर्शनकारियों पर गोलीबारी में मरने वालों की संख्या हुई 23
  • कर्नाटक में भूस्खलन, तीन श्रमिकों की मौत, एक घायल
पार्लियामेंट


रेलवे रियायतों, फ्री पासों के दुरुपयोग पर कैग सख्त

रेलवे रियायतों, फ्री पासों के दुरुपयोग पर कैग सख्त

नयी दिल्ली 02 दिसंबर (वार्ता) नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने रेल यात्री किरायों में रियायतों विशेषकर रेलवे अधिकारियों को मिलने वाले विशेष पास के दुरुपयोग के कारण करोड़ों रुपए के नुकसान के लिए रेलवे को फटकार लगायी है और रियायतों को युक्तिसंगत और उनकी नियंत्रण प्रणाली को प्रभावी बनाने की सिफारिश की है।

संसद के दोनों सदनों में सोमवार को पेश की गयी कैग की रिपोर्ट में कहा गया कि वर्ष 2015-16, 2016-17 और 2017-18 में रेलवे के कुल यात्रियों में से 11.45 प्रतिशत ने विभिन्न प्रकार की रियायतों का उपभोग किया जिसमें रेलवे को किराये से होने वाली आय 8.42 प्रतिशत की कमी दर्ज की गयी। रिपोर्ट के अनुसार इन तीन साल के दौरान लगभग 21.75 करोड़ यात्रियों ने तकरीबन 7418.44 करोड़ रुपए की रियायत हासिल की।

रिपोर्ट के अनुसार सर्वाधिक रियायत वरिष्ठ नागरिक श्रेणी में 52.5 प्रतिशत और रेलवे अधिकारियों एवं मानार्थ पास धारकों को 37.2 प्रतिशत दी गयी। कुल रियायत का अधिकांश लाभ वातानुकूलित श्रेणी में यात्रा करने वाले यात्रियों ने उठाया। ऑडिट के अनुसार 23 प्रतिशत वरिष्ठ नागरिकों ने एसी-2 और एसी-3 में कुल रियायत राशि का 52 प्रतिशत का लाभ उठाया। वरिष्ठ नागरिकों के लिए स्वैच्छिक रूप से रियायत छोड़ने की अपील का कोई खास असर नहीं हुआ।

रिपोर्ट में विशेष पासों पर होने वाली यात्राओं में पास के भारी दुरुपयोग के मामलों का खुलासा हुआ। ऑडिट के अनुसार तीन साल के दौरान 3016 पासों के पर उन्हीं स्टेशनों के बीच अनेक बार बुकिंग के मामले सामने आये हैं। इनमें 30, 567 यात्रियों को आरक्षण दिया गया और 11552 यात्रियों की बुकिंग गड़बड़ पायी गयी। इन 11552 यात्रियों में 487 यात्रियों ने एक ही दिन एक ही खंड पर एक से अधिक गाड़ियों में आरक्षण कराया हुआ था। लेखा रिपोर्ट में ऐसे कई उदाहरण पास नंबर सहित दिये गये हैं। ये पास फर्स्ट क्लास पास के अधिक हैं जो बड़े अधिकारियों के नाम जारी होते हैं।

लेखा रिपोर्ट में अवैध नंबरों वाले पासों से आरक्षण के सैकड़ों मामलों को उजागर किया गया है। कैग ने रेलवे को इस बात के लिए फटकार लगायी है कि उसके पास यात्री आरक्षण प्रणाली (पीआरएस) में पास नंबर के दुरुपयोग को रोकने के लिए कोई तकनीकी प्रावधान नहीं है। रिपोर्ट में कुछ ऐसे मामलों का भी जिक्र किया गया कि कार्ड पास एवं धातु पास के चोरी की पुलिस रिपोर्ट दर्ज करायी गयी और उसके बाद उन पासों पर यात्रा भी की गयी। कैग ने रेलवे से पासों के दुरुपयोग करने वाले रेल अधिकारियों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई करने को कहा है।

कैग ने सिफारिश की है कि वह यात्रियों की जरूरतों के अनुरूप रियायतों को तर्कसंगत बनाये और बेहिसाब रियायतों पर अंकुश लगाये। रेलवे को रियायतों खासकर पीटीओ या मानार्थ पास के दुरुपयोग को रोकने के लिए पीआरएस में प्रभावी नियंत्रण प्रावधान करना चाहिए। रेलवे को अपने राजस्व व्यय दस्तावेजों में पीटीओ एवं मानार्थ पास पर यात्रा लागत को भी प्रदर्शित करना चाहिए।

सचिन.श्रवण

वार्ता

More News

टेलीविजन पर बच्चों को अशोभनीय तरीके से दिखाने पर प्रतिबंध:जावड़ेकर

06 Dec 2019 | 4:25 PM

नयी दिल्ली,06 दिसंबर (वार्ता) सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है टेलीविजन पर दिखाए जाने विज्ञापनोंं में बच्चों को अशोभनीय तरीके से दिखाए जाने पर प्रतिबंध हैं।

see more..
image