Wednesday, Sep 26 2018 | Time 12:47 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भाजपा के बंगाल बंद का मिलाजुला असर
  • कुछ शर्तों के साथ आधार कार्ड की संवैधानिक वैधता बरकरार
  • केजरीवाल ने मनमोहन को जन्मदिन की बधाई दी
  • उत्तरी दिल्ली में इमारत गिरी, मलबे में दबे लोग
  • ‘नागराज’ फैसले की समीक्षा की आवश्यकता नहीं : सुप्रीम कोर्ट
  • चेन्नई सर्राफा के शुरुआती भाव
  • मोदी ने एचएएल के 30 हजार करोड़ चुराया: राहुल
  • आभूषण व्यवसायी की गोली मारकर हत्या
  • अमेरिका दे दी ईरान को ‘गंभीर परिणाम’ भुगतने की चेतावनी
  • राहुल ने दी मनमोहन को जन्मदिन की बधाई
  • मोदी ने कोहली, चानू को खेल रत्न की बधाई दी
  • मोदी ने मनमोहन को दी जन्मदिन की बधाई
  • सुषमा ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा सुधार पर की चर्चा
  • पुलिस ने मुठभेड़ के बाद तीन बदमाशों को किया गिरफ्तार
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 27 सितंबर)
India Share

विदेशी भाषा के बूते प्रगति नहीं कर सकता देश : वेंकैया

विदेशी भाषा के बूते प्रगति नहीं कर सकता देश : वेंकैया

नयी दिल्ली 14 सितम्बर (वार्ता) उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को कहा कि आज हिंदी सोशल मीडिया और संचार माध्यमों की प्रमुख भाषा बन गई है, लेकिन इसे क्षेत्रीय भाषाओं के साथ रोजी-रोटी से जोड़ने की दिशा में प्रयास किये जाने की जरूरत है क्योंकि विदेशी भाषा के दम पर कोई भी देश विकास नहीं कर सकता।
श्री नायडू ने यहाँ विज्ञान भवन में हिंदी दिवस समारोह को संबोधित करते हुये कहा “भारत में दुनिया की अग्रणी अर्थव्यवस्थाओं में से एक बनने की संभावना है और सभी देशवासियों को अपने सपनों को साकार करने तथा देश के विकास में योगदान देने के लिए सही दिशा में अपने ज्ञान, कौशल और ऊर्जा को लगाना होगा। ऐसा हिंदी और देश की भाषाओं के अधिकाधिक प्रयोग से ही संभव है क्योंकि कोई भी देश विदेशी भाषा के बूते पर प्रगति नहीं कर सकता।”
उन्होंने कहा कि युवाओं को अपनी भाषा में सही शिक्षा, ज्ञान और कौशल प्रदान करके अपनी विशाल युवा आबादी को राष्ट्रीय संपत्ति सर्जकों में परिवर्तित करने की जरूरत है। हिंदी का विस्तार शिक्षा, ज्ञान-विज्ञान, सूचना प्रौद्योगिकी एवं वाणिज्‍य में अधिकाधिक होने से युवा पीढ़ी को विकास के बेहतर अवसर मिल सकेंगे। हिंदी और क्षेत्रीय भाषाओं को लोगों की रोज़ी-रोटी से जोड़ा जाये यानी अपनी भाषाओं के अध्ययन से लोगों को रोजगार के अधिक अवसर मिलने चाहिये।
उपराष्ट्रपति ने हिंदी को पुरातन और आधुनिकता का संगम करार देते हुये कहा कि उसका शब्द भंडार एक तरफ संस्कृत से तो दूसरी तरफ अन्य अनेक देसी-विदेशी भाषाओं के शब्दों से समृद्ध हुआ है। उसकी लिपी देवनागरी दुनिया की सबसे पुरानी एवं वैज्ञानिक लिपियों में से है। उन्होंने कहा कि देश की कई अन्य भाषाएँ हैं जो हिंदी से ज्यादा पुरानी और समृद्ध हैं। संस्कृत तो सभी भारतीय भाषाओं की जननी है और हमारे पास अत्यंत समृद्ध क्षेत्रीय भाषाएँ भी हैं, लेकिन हिंदी सर्व-सुलभ और सहज ग्रहणीय भाषा है, अधिकांश जनता की भाषा है, उसका स्वरूप समावेशी है।
अजीत अरुण
जारी (वार्ता)

More News
केजरीवाल ने मनमोहन को जन्मदिन की बधाई दी

केजरीवाल ने मनमोहन को जन्मदिन की बधाई दी

26 Sep 2018 | 12:20 PM

नयी दिल्ली 26 सितम्बर (वार्ता) आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को उनके जन्मदिन पर बधाई दी।

 Sharesee more..
‘नागराज’ फैसले की समीक्षा की आवश्यकता नहीं : सुप्रीम कोर्ट

‘नागराज’ फैसले की समीक्षा की आवश्यकता नहीं : सुप्रीम कोर्ट

26 Sep 2018 | 11:47 AM

नयी दिल्ली, 26 सितम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने बुधवार को एक महत्वपूर्ण फैसले में कहा कि अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति (एससी/एसटी) के सरकारी कर्मचारियों को पदोन्नति में आरक्षण के मामले में 12 साल पुराने ‘नागराज’ फैसले पर फिर से विचार करने की आवश्यकता नहीं है।

 Sharesee more..
image