Thursday, Jun 20 2019 | Time 09:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • यमन में संघर्ष में 17 हाउती विद्रोही ढेर
  • जिनपिंग किम जोंग के निमंत्रण पर उत्तर कोरिया रवाना
  • ट्रम्प जी20 सम्मेलन में पुतिन,जिनपिंग से करेंगे भेंट
  • उप्र में पर्यटन के समग्र विकास की कार्य योजना बनाई जाय:योगी
  • कार खाई में गिरी, चार घायल
  • न्यूजीलैंड चौथी जीत के साथ टॉप पर, द अफ्रीका संकट में
  • न्यूजीलैंड चौथी जीत के साथ टॉप पर, द अफ्रीका संकट में
  • ‘एक देश एक चुनाव’ पर आप ने मांगा दृष्टिकोण दस्तावेज
India


विदेशी भाषा के बूते प्रगति नहीं कर सकता देश : वेंकैया

विदेशी भाषा के बूते प्रगति नहीं कर सकता देश : वेंकैया

नयी दिल्ली 14 सितम्बर (वार्ता) उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को कहा कि आज हिंदी सोशल मीडिया और संचार माध्यमों की प्रमुख भाषा बन गई है, लेकिन इसे क्षेत्रीय भाषाओं के साथ रोजी-रोटी से जोड़ने की दिशा में प्रयास किये जाने की जरूरत है क्योंकि विदेशी भाषा के दम पर कोई भी देश विकास नहीं कर सकता।
श्री नायडू ने यहाँ विज्ञान भवन में हिंदी दिवस समारोह को संबोधित करते हुये कहा “भारत में दुनिया की अग्रणी अर्थव्यवस्थाओं में से एक बनने की संभावना है और सभी देशवासियों को अपने सपनों को साकार करने तथा देश के विकास में योगदान देने के लिए सही दिशा में अपने ज्ञान, कौशल और ऊर्जा को लगाना होगा। ऐसा हिंदी और देश की भाषाओं के अधिकाधिक प्रयोग से ही संभव है क्योंकि कोई भी देश विदेशी भाषा के बूते पर प्रगति नहीं कर सकता।”
उन्होंने कहा कि युवाओं को अपनी भाषा में सही शिक्षा, ज्ञान और कौशल प्रदान करके अपनी विशाल युवा आबादी को राष्ट्रीय संपत्ति सर्जकों में परिवर्तित करने की जरूरत है। हिंदी का विस्तार शिक्षा, ज्ञान-विज्ञान, सूचना प्रौद्योगिकी एवं वाणिज्‍य में अधिकाधिक होने से युवा पीढ़ी को विकास के बेहतर अवसर मिल सकेंगे। हिंदी और क्षेत्रीय भाषाओं को लोगों की रोज़ी-रोटी से जोड़ा जाये यानी अपनी भाषाओं के अध्ययन से लोगों को रोजगार के अधिक अवसर मिलने चाहिये।
उपराष्ट्रपति ने हिंदी को पुरातन और आधुनिकता का संगम करार देते हुये कहा कि उसका शब्द भंडार एक तरफ संस्कृत से तो दूसरी तरफ अन्य अनेक देसी-विदेशी भाषाओं के शब्दों से समृद्ध हुआ है। उसकी लिपी देवनागरी दुनिया की सबसे पुरानी एवं वैज्ञानिक लिपियों में से है। उन्होंने कहा कि देश की कई अन्य भाषाएँ हैं जो हिंदी से ज्यादा पुरानी और समृद्ध हैं। संस्कृत तो सभी भारतीय भाषाओं की जननी है और हमारे पास अत्यंत समृद्ध क्षेत्रीय भाषाएँ भी हैं, लेकिन हिंदी सर्व-सुलभ और सहज ग्रहणीय भाषा है, अधिकांश जनता की भाषा है, उसका स्वरूप समावेशी है।
अजीत अरुण
जारी (वार्ता)

More News
मस्तिष्क ज्वर : सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

मस्तिष्क ज्वर : सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

19 Jun 2019 | 10:47 PM

नयी दिल्ली, 19 जून (वार्ता) उच्चतम न्यायालय बिहार के मुजफ्फरपुर जिले और आसपास के इलाकों में मस्तिष्क ज्वर के कारण अब तक कम से कम 145 बच्चों की मौत के मामले में दायर एक जनहित याचिका की सुनवाई आगामी सोमवार को करेगा।

see more..
एस जयशंकर ने रूसी उप प्रधानमंत्री से मुलाकात की

एस जयशंकर ने रूसी उप प्रधानमंत्री से मुलाकात की

19 Jun 2019 | 11:44 PM

नयी दिल्ली,19 जून(वार्ता) विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बुधवार को रूसी उप विदेश मंत्री यूरी तरूतनेव के साथ मुलाकात करके प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की व्लादिवोस्तोक में ईस्टर्न इकॉनामिक फोरम में हिस्सा लेने को लेकर चर्चा की।

see more..
आयुष्मान भारत योजना सफेद हाथी: सिसोदिया

आयुष्मान भारत योजना सफेद हाथी: सिसोदिया

19 Jun 2019 | 9:49 PM

नयी दिल्ली,19 जून(वार्ता) दिल्ली के मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बुधवार काे केन्द्र की राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन(राजग) नीत भारतीय जनता पार्टी )भाजपा) सरकार पर प्रहार करते हुए कहा कि उसकी आयुष्मान भारत योजना का फायदा कमजोर तबकों, मध्यम वर्गों और गरीबों को नहीं मिल पा रहा है क्योंकि इसके दायरे में केवल वहीं लोग आते हैं जिनके पास मोबाइल फाेन और फ्रिज नहीं है।

see more..
बैटरी चालित वाहन होंगे पंजीकरण शुक्ल से मुक्त

बैटरी चालित वाहन होंगे पंजीकरण शुक्ल से मुक्त

19 Jun 2019 | 9:49 PM

नयी दिल्ली, 19 जून (वार्ता) सरकार ने बैटरी चालित चालित वाहनों का प्रचलन बढाने के लिए इनके पंजीकरण को शुल्क मुक्त रखने के संबंध में एक अधिसूचना का मसौदा जारी किया है।

see more..
image