Sunday, May 19 2019 | Time 23:54 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सीरियाई सेना ने रासायनिक हथियार के उपयोग से किया इंकार
  • हिप्र में रिकार्ड 71 प्रतिशत से अधिक मतदान, उम्मीदवारों का भाग्य किया इवीएम में लॉक
  • लोकसभा चुनाव सम्पन्न, करीब 67 प्रतिशत मतदान
  • एग्जिट पोल की लफ्फाजी में विश्वास नहीं: ममता
  • सोनिया ने 24 मई को बुलाई विपक्षी दलों की बैठक
  • इंदौर के पास एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या
  • मध्यप्रदेश में आठ संसदीय सीटों पर 75़ 51 फीसदी मतदान
  • सिर से आपस में जुड़ी दो बहनों ने किया अलग-अलग मतदान
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • मोदी ने ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री को चुनाव में जीत की दी बधाई
  • अमेरिका-ईरान के बीच तनाव कम करने में मध्यस्थता के लिए पाकिस्तान तैयार
  • 23 मई को सारी हकीकत सामने आ जाएगी - कमलनाथ
  • सोनीपत से लाखों की नगदी चोरी करने वाले गिरोह का बदमाश सम्भल से गिरफ्तार
  • देश में मोदी की लहर, तीन सौ से अधिक सीटें मिलेंगी एनडीए को - शिवराज
  • एक्जिट पोल में दिखी मोदी लहर, राजग को पूर्ण बहुमत का अनुमान
राज्य » जम्मू-कश्मीर


कारवां-ए-अमन बस सेवा सातवें सप्ताह भी स्थगित

कारवां-ए-अमन बस सेवा सातवें सप्ताह भी स्थगित

श्रीनगर 15 अप्रैल (वार्ता) जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर अौर पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की राजधानी मुजफ्फराबाद के बीच चलने वाली कारवां-ए-अमन बस सोमवार को लगातार सातवें सप्ताह स्थगित रही।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि आज कोई बस नहीं चलेगी। नियंत्रण रेखा के दोनों तरफ व्यापार भी प्रभावित रहेगा।

आधिकारिक सूत्रों ने यूनीवार्ता को बताया कि जानकारी मिली है कि नियंत्रण रेखा के इस ओर उरी सेक्टर में भारतीय सैनिकों की अंतिम चौकी कमान पोस्ट के समीप अमन सेतु पर मरम्मत का काम अब भी जारी है।

उन्होंने कहा कि मरम्मत का काम पूरा होने पर नियंत्रण रेखा के दोनों तरफ बस सेवा बहाल कर दी जायेगी। इस बस में आज जिन यात्रियों को जाना था, उन्हें इस बारे में सूचना दे दी गयी है।

बस रद्द होने के कारण जो यात्री आज यात्रा नहीं कर पा रहे हैं, उन्हें अगली बस से भेजा जायेगा।

गौरतलब है कि भारत और पाकिस्तान के बीच संबंधों को प्रगाढ़ बनाने के प्रयासों के तहत इस बस सेवा का शुभारंभ सात अप्रैल 2005 को किया गया था। इस यात्रा के लिए अंतराष्ट्रीय पासपोर्ट की जगह दोनों देशों की ओर से यात्रियों के लिए ‘यात्रा परमिट’ जारी किया जाता है। खुफिया एजेंसियों की जांच के बाद ही सीमा पार करने के इच्छुक लोगों को परमिट मिल पाता है। बंटवारे के समय अपने परिवारों से अलग हुए हजारों लोगों को इस बस की वजह से दोबारा अपने परिजनों से मिलने का अवसर मिला है।

 

image