Tuesday, Dec 1 2020 | Time 14:04 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जाट ने किया चलो किसानों दिल्ली चलो का आह्वान
  • नायडू ने दी बीएसएफ को शुभकामनायें
  • ट्रम्प के कोविड-19 विशेष सलाहकार का इस्तीफा
  • वार्नर के पहले टेस्ट से पहले फिट होने पर संदेहः लेंगर
  • वार्नर के पहले टेस्ट से पहले फिट होने पर संदेहः लेंगर
  • कश्मीर में डीडीसी चुनाव का दूसरा चरणः 11 बजे तक 15 64 प्रतिशत मतदान
  • उत्तर प्रदेश में निवेश बढ़ाने कल मुम्बई जायेंगे योगी
  • सेना के नायब सूबेदार ने आत्महत्या की
  • मुनेश गर्जर ने समस्याओं के शीघ्र निवारण के दिए निर्देश
  • क्लीन स्वीप से बचने उतरेगी विराट सेना
  • क्लीन स्वीप से बचने उतरेगी विराट सेना
  • नड्डा ने दी बीएसएफ के स्थापना दिवस पर शुभकामनाएँ
  • नागालैंड के स्थापना दिवस पर प्रदेशवासियों को कोविंद की बधाई
राज्य » उत्तर प्रदेश


हाथरस मामले की सीबीआई जांच गुमराह का तरीका : लल्लू

हाथरस मामले की सीबीआई जांच गुमराह का तरीका : लल्लू

लखनऊ 04 अक्टूबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश कांग्रेस अजय कुमार लल्लू ने हाथरस मामले की सीबीआई जांच के आदेश को देश की जनता को इस संवेदनशील मसले से गुमराह करने का प्रयास करार दिया है।

श्री लल्लू ने रविवार को कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा गठित एसआईटी की जांच पर किसी को भरोसा नहीं था और अब सीबीआई की जांच सिर्फ देश और प्रदेश की जनता को गुमराह करने का प्रयास भर है। पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कल हाथरस के पीड़ित परिजनों से मुलाकात की थी। परिजन चाहते है कि घटना की न्यायिक जांच कराई जाए, ऐसे में कांग्रेस की मांग है कि सम्पूर्ण घटना की उच्चतम न्यायालय के सिटिंग जज की निगरानी में सीबीआई जांच करायी जाये।

कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा‘मोना’ ने पत्रकारों से कहा कि राहुल और प्रियंका पीड़ित परिजनों से मुलाकात करने गये तो उन्होने पांच मांगें रखीं जिसमें घटना की न्यायिक जांच,डीएम की बर्खास्तगी शामिल है। परिवार जानना चाहता है कि बिना उनकी अनुमति के बेटी का शव रात्रि में क्याें जलाया गया। बार-बार पीड़ित परिवार को क्यों डराया धमकाया जा रहा है। मृतका के पिता ने कहा है कि उन्होने जो चिता जली है उससे वह फूल चुनकर लाये हैं लेकिन उन्हें यह नहीं पता कि यह फूल उनकी ही बेटी के हैं या किसी और की। इन पांचों सवालों का जवाब प्रदेश के मुख्यमंत्री को देना ही होगा।

श्री लल्लू ने कहा कि यूपी महिला अपराधों में नम्बर एक है। हाथरस की बेटी न्याय के लिए गुहार लगा रही थी, इलाज के लिए विलख रही थी उसका परिवार न्याय के लिए सरकार से गुहार लगा रहा था पर निष्ठुर योगी सरकार उस बेटी को न्याय और चिकित्सा दे नहीं पायी उल्टे उस बेटी के लिए न्याय की लड़ाई लड़ने वाले लेागों का दमन करना शुरू कर दिया।

उन्होने कहा कि प्रदेश सरकार जांच पर जांच और छोटी मोटी कार्यवाही करके जनता को गुमराह नहीं कर सकती। मैनपुरी की नवोदय विद्यालय की छात्रा हो, कानपुर में संजीत यादव,यूपीएससी की सीबीआई जांच कराये जाने की सिफारिश हो, यह सभी जांचें अभी तक केन्द्र में लम्बित है। इसलिए इस मामले की सुप्रीम कोर्ट के जज की देखरेख में न्यायिक जांच कराई जाए। बुलन्दशहर, बलरामपुर, हरदोई की बेटियों के साथ जो हुआ है वह पीड़ादायक है। आखिर यह सब कब तक चलता रहेगा।

इस बीच गोरखपुर में हाथरस के डीएम की बर्खास्तगी को लेकर बड़ा मार्च निकाला गया। सोनभद्र, आजगढ़, मेरठ, सहारनपुर, गाजियाबाद, बरेली, मुरादाबाद, रामपुर, शाहजहांपुर, सीतापुर, लखीमपुरखीरी, हरदोई, बाराबंकी, बहराइच, गोण्डा, कुशीनगर, फैजाबाद, देवरिया, अम्बेडकरनगर, वाराणसी, बस्ती, झांसी, ललितपुर, महोबा, हमीरपुर, जालौन, कानपुर देहात सहित प्रदेश के सभी जिलों में व्यापक पैमाने पर प्रदर्शन किया गया।

प्रदीप

वार्ता

image