Friday, Sep 20 2019 | Time 12:57 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जरदारी और उनकी बहन पर भ्रष्टाचार मामले में चार अक्टूबर को तय होंगे आरोप
  • अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए सरकार के बड़े ऐलान: कंपनी कर दर घटाकर 22 फीसदी
  • अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए सरकार के बड़े ऐलान: कंपनी कर दर घटाकर 22 फीसदी
  • अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए सरकार के बड़े ऐलान: कंपनी कर दर घटाकर 22 फीसदी
  • दर्शकों के दिल में खास पहचान बनायी ताराचंद ने
  • दर्शकों के दिल में खास पहचान बनायी ताराचंद ने
  • दर्शकों के दिल में खास पहचान बनायी ताराचंद ने
  • बैडमैन के नाम से मशहूर है गुलशन ग्रोवर
  • बैडमैन के नाम से मशहूर है गुलशन ग्रोवर
  • बैडमैन के नाम से मशहूर है गुलशन ग्रोवर
  • अगले वर्ष मुन्नाभाई सीरीज की शूटिंग शुरू करेंगे संजय
  • अगले वर्ष मुन्नाभाई सीरीज की शूटिंग शुरू करेंगे संजय
  • अगले वर्ष मुन्नाभाई सीरीज की शूटिंग शुरू करेंगे संजय
  • भंसाली की फिल्म में गंगूबाई बनेंगी आलिया!
  • भंसाली की फिल्म में गंगूबाई बनेंगी आलिया!
लोकरुचि


घाडियालो के बच्चो से चंबल गुलजार

घाडियालो के बच्चो से चंबल गुलजार

इटावा, 08 जून (वार्ता) चिलचिलाती गर्मी के बीच उत्तर प्रदेश के इटावा में चंबल नदी इन दिनो हजारों की तादाद में जन्में घडियालों के बच्चों से गुलजार हो गयी है ।

प्रजनन के बाद जन्में घडियालों के बच्चों से वन्य जीव प्रेमिंयो में खुशी दौड़ गयी है। लगभग 2100 वर्ग मीटर में फैले नेशनल चंबल घड़ियाल सेंचुरी में वर्ष 1989 से घड़ियालों को संरक्षण देना शुरू हुआ था।

चंबल सेंचुरी के जिला वनाधिकारी (डीएफओ) आंनद कुमार ने यूनीवार्ता को बताया कि जितनी तादादण्त मे घडियाल के बच्चे चंबल मे नजर आ रहे उसे देख कर यही कहा जा सकता है कि यह दुर्लभ प्रजाति के जलचर के लिये शुभ संकेत है।

उन्होंने बताया कि इटावा रेंज के खेड़ा अजब सिंह और कसऊआ गांव में 34 घोसलों में से 14 की हैचिंग हो चुकी है । यहां पर लगभग 300 नन्हें घड़ियाल जन्म ले चुके हैं। पिनाहट रेंज के रेहा घाट पर 300 नन्हें घड़ियालों ने जन्म लिया है। विप्रावली में लगभग 200 घड़ियाल अंडों से निकल चुके हैं। इधर पिनाहट में दो दर्जन घड़ियाल हैचिंग कर चुके हैं। चंबल की रेतिया में 500 नन्हें घड़ियाल अटखेलियां करते नजर आ रहे हैं । ऐसे ही बाह के कैंजरा, हरलालपुरा और नंदगंवा में भी लगभग दो दर्जन घड़ियालों की हैचिंग अगले एक-दो दिन में होने की संभावना है। ऐसे में जल्द ही चंबल नदी के किनारे घड़ियालों की नयी फौज अटखेलियां करती दिख सकती है ।

राष्ट्रीय चंबल सेंचुरी के अफसरो की माने तीन राज्यो मे पसरी चंबल नदी मे एक अनुमान के मुताबिक 5000 के आसपास घडियाल के छोटे छोटे बच्चे पानी मे तैरते हुए दिखलाई दे रहे है । उत्तर प्रदेश मध्यप्रदेश और राजस्थान मे प्रवाहित चंबल नदी मे दुर्लभ प्रजाति के घडियालो को संरक्षण के मददेनजर चंबल नदी को संरक्षित कर रखा गया है। कसाऔ मे चंबल नदी के किनारे एक ऐसा मनोरम दश्य देखने को मिला हुआ है जहॉ पर एक विशालकाय घाडियाल अपनी पीठ पर सैकडो की तादात मे अपने मासूम बच्चो को बैठाये हुए है । उसे देखने के बाद इंसानी बच्चो के दुलार की याद आ जाती है । यह एक ऐसा घडियाल है जो बडे आराम से अपनी पीठ पर बच्चो को बैठाये रहता है जब कोई हरकत उसको सुनाई देती है तो वह अपने बच्चो को पीठ से उतारता है अन्यथा सभी बच्चे उसकी पीठ पर बैठ कर ही आंनद लेते रहते है । सुबह शाम यह दृश्य गांव वालो के लिए बडे ही आंनद का विषय इस समय बना हुआ है ।

चंबल मे साल 2007 से फरवरी 2008 तक जिस तेजी के साथ किसी अनजान बीमारी के कारण एक के बाद एक करके करीब सवा अधिक तादात में घडियालों की मौत हुई थी उसने समूचे विश्व समुदाय को चिंतित कर दिया था । ऐसा प्रतीत होने लगा था कि कहीं इस प्रजाति के घडियाल किसी किताब का हिस्सा न बनकर रह जाएं ।

घडियालों के बचाव के लिए तमाम अंतर्राष्ट्रीय संस्थाएं आगे आई और फ्रांस, अमेरिका सहित तमाम देशों के वन्य जीव विशेषज्ञों ने घडियालों की मौत की वजह तलाशने के लिए तमाम शोध कर डाले। घडियालों की हैरतअंगेज तरीके से हुई मौतों में जहां वैज्ञानिकों के एक समुदाय ने इसे लीवर क्लोसिस बीमारी को एक वजह माना तो वहीं दूसरी ओर अन्य वैज्ञानिकों के समूह ने चंबल के पानी में प्रदूषण की वजह से घडियालों की मौत को कारण माना । वहीं दबी जुबां से घडियालों की मौत के लिए अवैध शिकार एवं घडियालों की भूख को भी जिम्मेदार माना गया।

पर्यावरणीय संस्था सोसायटी फार कंजरवेशन आफ नेचर के सचिव एवं वन्य जीव विशेषज्ञ संजीव चौहान बताते हैं कि पंद्रह जून तक घडियालों के प्रजनन का समय होता है जो मानसून आने से आठ-दस दिन पूर्व तक रहता है। घडियालों के प्रजनन का यह दौर ही घडियालों के बच्चों के लिए काल के रुप में होता है क्योंकि बरसात में चंबल नदी का जलस्तर बढ़ जाता है। परिणामस्वरूप घडियालों के बच्चे नदी के वेग में बहकर मर जाते हैं। वे कहते हैं कि महज दस फीसदी ही बच्चे बच पाते हैं जबकि 90 फीसदी बच्चों की पानी में बह जाने से मौत हो जाती है।

दुनियाभर में लुप्तप्राय स्थिति में पहुंचे घड़ियालों का चंबल नदी में संरक्षण हो रहा है। पहले घड़ियालों के अंडों को हैचिंग के लिए कुकरैल प्रजनन केंद्र लखनऊ ले जाना पड़ता था । अब 10 साल से चंबल नदी में प्राकृतिक (अंडे सेने की प्रक्रिया) हैचिंग हो रही है। 65 से 70 दिन का हैचिंग का समय शुरू होने पर वन विभाग ने घोसलों पर लगी जाली हटा दी है । बता दें कि नेस्टिंग के टाइम पर वन विभाग ने जीपीएस से लोकेशन ट्रेस कर जाली लगाई थी ताकि वन्यजीव इनके अंडों को नष्ट न कर सकें ।

सं प्रदीप

वार्ता

More News
मथुरा में अनन्त चतुर्दशी पर 12 सितम्बर को होगा प्रथम छप्पन भोग महोत्सव

मथुरा में अनन्त चतुर्दशी पर 12 सितम्बर को होगा प्रथम छप्पन भोग महोत्सव

08 Sep 2019 | 2:24 PM

मथुरा, 08 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मथुरा में इस वर्ष का प्रथम छप्पन भोग महोत्सव अनन्त चतुर्दशी के अवसर पर 12 सितंबर को गिर्राज जी की तलहटी में आयोजित किया जा रहा है।

see more..
राधारानी का मंदिर खुलने पर सैंकड़ों श्रद्धालुओं ने किए दर्शन

राधारानी का मंदिर खुलने पर सैंकड़ों श्रद्धालुओं ने किए दर्शन

06 Sep 2019 | 3:32 PM

विदिशा, 06 सितंबर (वार्ता)मध्यप्रदेश के विदिशा में वर्ष भर के इंतजार के बाद राधाष्टमी पर आज राधारानी मंदिर के पट खुलने पर सैंकड़ों श्रद्धालुओं ने दर्शन किए।

see more..
राधाष्टमी की पूर्व संध्या पर बरसाना में श्रद्धालुओं का रेला

राधाष्टमी की पूर्व संध्या पर बरसाना में श्रद्धालुओं का रेला

05 Sep 2019 | 2:26 PM

मथुरा, 5 सितंबर (वार्ता) राधाष्टमी पर वैसे तो ब्रज का कोना कोना राधामय हो जाता है पर राधारानी की क्रीडास्थली होने के कारण बरसाना में तीर्थयात्रियों का जमघट लग जाता है। राधाष्टमी छह सितंबर को इस बार मनाई जा रही है।

see more..
जख्मी और बेसहारा पशुओं की मदर टेरेसा हैं झांसी की निर्मला वर्मा

जख्मी और बेसहारा पशुओं की मदर टेरेसा हैं झांसी की निर्मला वर्मा

04 Sep 2019 | 2:51 PM

झांसी 04 सितम्बर (वार्ता) “ मदर टेरेसा” एक ऐसा नाम जिसके सामने में आते ही असीम ममता और मानव सेवा की भावना से परिपूर्ण एक ऐसी महिला की छवि जहन में उभरती है जिसने नि:स्वार्थ भाव से अपना पूरा जीवन लोगों की मदद में गुजार दिया।

see more..
इटावा सफारी के लिये करना होगा इंतजार

इटावा सफारी के लिये करना होगा इंतजार

02 Sep 2019 | 6:34 PM

इटावा, 02 सितम्बर (वार्ता) चंबल की छवि बदलने को बेताब इटावा सफारी पार्क का दीदार के लिये दर्शकों को अभी और इंतजार करना पड़ सकता है।

see more..
image