Tuesday, Sep 29 2020 | Time 18:22 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • विंडीज के खिलाफ सीरीज से न्यूजीलैंड करेगा अंतरराष्ट्रीय सत्र की शुरुआत
  • दरभंगा में मकान से भारी मात्रा में विदेशी शराब जब्त
  • राजनाथ ने लॉन्च किया ‘रक्षा भारत स्टार्टअप चैलेंज’
  • कोलंबिया में कोरोना मामले 8 18 लाख के पार
  • जम्मू-कश्मीर में अवैध रूप से प्रवेश कराने के आरोप में 12 गिरफ्तार
  • बास्केटबाल खिलाड़ी दक्षवीर का दिल का दौरा पड़ने से निधन
  • तमिलनाडु में कोरोना के 5546 नये मामले,5501 स्वस्थ
  • महाराष्ट्र में वन अधिकार अधिनियम-2006 संशोधन की अधिसूचना जारी
  • न्यूजीलैंड में कोरोना के दो नये मामले
  • जबरन वसूली के आरोप में भाजपा नेता गिरफ्तार
  • सिसोदिया कोरोना निगेटिव ,अस्पताल से छुट्टी
  • जौनपुर में डेढ़ करोड़ की शराब के साथ तस्कर गिरफ्तार
  • मीराबाई चानू की अमेरिका में विशेष ट्रेनिंग को मंजूरी
  • महबूबा की रिहाई के लिए संघर्ष जारी रहेगा : इल्तिजा
लोकरुचि


बुंदेलखंड में बच्चे भी अलग तरीके से शामिल होते तर्पण में

बुंदेलखंड में बच्चे भी अलग तरीके से शामिल होते तर्पण में

महोबा 11 सितम्बर (वार्ता) पितृ तर्पण में धार्मिक क्रिया कर्म के दुनिया भर मे अपनाए जाने वाले विभिन्न तौर तरीकों से

अलग उत्तर भारत के बुंदेलखंड में प्रचलित महबुलिया एक ऐसी अनूठी परंपरा है जिसे घर के बुजुर्गों के स्थान पर छोटे बच्चे सम्पादित करते हैं। समय में बदलाव के साथ हालांकि अब यह परम्परा यहां गांवों तक ही सिमट चली है।

बुंदेलखंड में लोक जीवन के विविध रंगों में पितृपक्ष पर पूर्वजों के प्रति श्रद्धा और समर्पण का भी अंदाज जुदा है। पुरखों के तर्पण के लिए यहां पूजन,अनुष्ठान,श्राद्ध आदि के आयोजनों के अतिरिक्त बच्चों ,बालिकाओं की महबुलिया पूजा बेहद खास है जो नई पीढ़ी को संस्कार सिखाती है।

पूरे पंद्रह दिन तक चलने वाले इस कार्यक्रम में गोधूलि वेला पर हर रोज पितृ आवाहन और विसर्जन के साथ इसका

आयोजन होता है। इस दौरान यहां के गांवों की गलियां तथा चौबारे में बच्चों की मीठी तोतली आवाज में गाए जाने वाले महबुलिया के पारम्परिक लोक गीतों से झंकृत हो उठते हैं। समूचे विंध्य क्षेत्र में लोकपर्व का दर्जा प्राप्त महबुलिया की पूजा का भी अपना अलग ही तरीका है।

बच्चे कई समूहों में बंटकर इसका आयोजन करते हैं। महबुल को एक कांटेदार झाड़ में रंग बिरंगे फूलों और पत्तियों से सजाया जाता है। विधिवत पूजन के उपरांत उक्त सजे हुए झाड़ को बच्चे गाते बजाते हुए गांव के किसी तालाब या पोखर में ले जाते हैं जहां फूलों को कांटों से अलग कर पानी में विसर्जित कर दिया जाता है।महबुलिया के विसर्जन के उपरांत वापसी में यह बच्चे राहगीरों को भीगी हुई चने की दाल और लाई का प्रसाद बांटते हैं। प्रसाद सभी बच्चे अपने घरों से अलग अलग लाते हैं।

जगनिक शोध संस्थान के सचिव डॉ वीरेंद्र निर्झर ने कहा कि महबुलिया को पूरे बुंदेलखंड में बालिकाओं द्वारा उत्सव के रूप में मनाया जाता है। हर रोज जब अलग अलग घरों में महबुलिया पूजा आयोजित होती है तो उसमें घर की एक वृद्ध महिला साथ बैठकर बच्चों को न सिर्फ पूजा के तौर तरीके सिखाती बल्कि पूर्वजों के विषय में जानकारी देती हैं। इसमें पूर्वजों के प्रति सम्मान प्रदर्शन के साथ सृजन का भाव निहित है।

झाड़ में फूलों को पूर्वजों के प्रतीक के रूप में सजाया जाता है जिन्हें बाद में जल विसर्जन कराके तर्पण किया जाता है।दूसरे नजरिये से देखा जाए तो महबुलिया बच्चों के जीवन मे रंग भी भरती है। इसके माध्यम से मासूमों में धार्मिक एवं सामाजिक संस्कार पैदा होते हैं। उनको फूल पत्ती वनस्पतियों तथा रंगों से परिचित कराने के साथ साजसज्जा करना भी सिखाया जाता है।

समाजसेवी श्रीमती सरस्वती वर्मा ने बताया कि बुंदेली लोक जीवन के विविध रंगों में महबुलिया बिल्कुल अनूठी परंपरा है जो देश के अन्य हिस्सों से अलग है। इसमें बेटियों के महत्व को प्रतिपादित किया गया है और उसे खुशियों का केंद्र बिंदु बनाया गया है। पितृपक्ष में बुजुर्ग जहां सादगी के साथ पुरखों के पूजन तर्पण आदि में व्यस्त रहते हैं और घर माहौल में सन्नाटा पसरा रहता है तब महबुलिया पूजन के लिए बालिकाओं की चहल पहल खामोशी तोड़ती है तथा वातावरण को खुशनुमा बनाती है। सरस्वती वर्मा ने कहा कि सदियों पूर्व से प्रचलित परम्परा की शुरुआत कब हुई इस बात का कहीं कोई उल्लेख नहीं है।

मान्यता है कि पूर्व में कभी महबुलिया नाम की एक वृद्ध महिला थी जिसने इस विशेष पूजा की शुरुआत की थी। बाद में इसका नाम ही महबुलिया पड़ गया। उन्होंने कहा कि बदलते दौर में सांस्कृतिक मूल्यों के तेजी से ह्रास होने के कारण महबुलिया भी प्रायः विलुप्त हो चली है।

सं विनोद

वार्ता

More News
नन्हे घड़ियाल यमुना में भैंस की कर रहे हैं सवारी

नन्हे घड़ियाल यमुना में भैंस की कर रहे हैं सवारी

26 Sep 2020 | 9:33 PM

औरैया, 26 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के औरैया जिले में रिजर्व सेंचुरी क्षेत्र (चंबल) से निकलकर यमुना नदी में आ आये घड़ियाल के बच्चे भैंस पर सवारी करते हुए देखे जा रहे हैं।

see more..
ताजमहल की तरह दुनिया को आकर्षित करेगी यूपी में फिल्म सिटी

ताजमहल की तरह दुनिया को आकर्षित करेगी यूपी में फिल्म सिटी

22 Sep 2020 | 7:32 PM

लखनऊ 22 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी के सिलसिले में विचार विमर्श के लिये लखनऊ आये फिल्मी दुनिया की हस्तियों ने एक सुर में कहा कि उन्हे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की क्षमता पर पूरा भरोसा है और हिन्दी भाषी राज्य में प्रस्तावित फिल्म सिटी सफलता के नये आयाम स्थापित करेगी।

see more..
फिल्मलैंड के लिए मुफीद है चंबल की वादियां

फिल्मलैंड के लिए मुफीद है चंबल की वादियां

22 Sep 2020 | 7:26 PM

इटावा , 22 सितंबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश में फिल्मसिटी के निर्माण के लिये जारी कवायद के बीच इटावा के बाशिंदो काे भरोसा है कि नैसर्गिक सुंदरता की पर्याय चंबल घाटी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के फिल्मलैंड के सपने में चार चांद लगाने में मददगार साबित हो सकती हैं।

see more..
मथुरा के गया घाट में पिंडदान करने से पितरों को मिलता है मोक्ष

मथुरा के गया घाट में पिंडदान करने से पितरों को मिलता है मोक्ष

13 Sep 2020 | 5:03 PM

मथुरा 13 सितम्बर (वार्ता) पितृ पक्ष में ब्रजवासियों के साथ साथ देश के विभिन्न भागों के लोग गया जाने की जगह अपने पितरों के मोक्ष के लिए राधाकुण्ड में ‘गया घाट’ पर पिण्डदान करते हैं।

see more..
आस्ट्रेलिया और स्विटरजरलैंड की खूबसूरती को मात देती है चंबल घाटी

आस्ट्रेलिया और स्विटरजरलैंड की खूबसूरती को मात देती है चंबल घाटी

11 Sep 2020 | 7:31 PM

इटावा, 11 सितम्बर (वार्ता) दशकों तक कुख्यात डाकुओं की शरणस्थली के तौर पर कुख्यात रही चंबल घाटी की नैसर्गिक सुंदरता आस्ट्रेलिया और स्विटरजरलैंड के खूबसूरत पर्यटन स्थलो को भी मात देती है।

see more..
image