Monday, Feb 18 2019 | Time 17:29 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जिसों में टिकाव
  • वंदे भारत एक्सप्रेस के आधुनिक तकनीक वाले कोच बनायेगा एमसीएफ
  • रुपया 13 पैसे लुढ़का
  • लखनऊ से माल कस्बा शादी में गये व्यक्ति की धारदार हथियार से हत्या
  • टीम फोर्स ने जीता टीडीएस क्वींस आॅफ नार्थ इंडिया खिताब
  • शिक्षा के व्यवसायीकरण के खिलाफ रैली
  • नई दिल्ली मैराथन में चमक बिखेरेंगे धोनी, रशपाल, मोनिका और ज्योति
  • छत्तीसगढ़ के तीन शहरों से विमान सेवा शुरू करने की अनुमति- भूपेश
  • दक्षिणी कश्मीर के शोपियां में घेराबंदी और तलाश अभियान शुरू
  • शहीद जवानों के परिवार की मदद के लिए आगे आए शमी
  • शारदा चिटफंड : नलिनी चिदम्बरम को फौरी राहत
  • अनुराग ठाकुर के नाम पर विधानसभा में बवाल
  • इस्तीफे के एक माह बाद भी मंत्री पद पर है अगप का विधायक
  • विश्व कप में पाकिस्तान से नहीं खेले भारत : सीसीआई
  • देवबंद छोड़ें कश्मीरी छात्र वरना हम भेजेंगे वापस: बजरंग दल
India Share

बच्चे ढूँढ़ेंगे स्थानीय समस्याओं के हल, ‘आइडियेट’ चुनौती शुरू

बच्चे ढूँढ़ेंगे स्थानीय समस्याओं के हल, ‘आइडियेट’ चुनौती शुरू

नयी दिल्ली 06 दिसंबर (वार्ता) सरकार ने स्कूली बच्चों में नवाचार को बढ़ावा देने तथा उन्हें स्थानीय समस्याओं के हल ढूँढ़ने के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से ‘आइडियेट फॉर इंडिया’ चुनौती की शुरू की है।
इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आज यहाँ इस कार्यक्रम की शुरुआत करते हुये कहा कि डिजिटल इंडिया की सफलता के लिए आम आदमी की भागीदारी जरूरी है। युवाओं के भारत को अवसर चाहिये। अवसर मिलता है तो लगन और प्रतिभा सामने आती है। यह परिवर्तनकारी पहल है।
‘आइडियेट फॉर इंडिया - क्रियेटिव सॉल्यूशंस यूजिंग टेक्नोलॉजी’ कार्यक्रम में छठी से 12वीं कक्षा तक के बच्चे हिस्सा ले सकते हैं। वे राष्ट्रीय ई-प्रशासन विभाग की वेबसाइट एनईजीडीडॉटजीओवीडॉटइन या जिटलइंडियाडॉटजीओवीडॉटइन पर पंजीकरण करा सकते हैं। पंजीकरण के बाद छात्रों को अपने आस पास समस्याओं की पहचान कर उनका समाधान ढूँढ़ना होगा। समाधान के बारे में 90 सेकेंड का वीडियो बनाकर इन वेबसाइटों पर अपलोड करना होगा।
वीडियो के आधार पर हर राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेश से 10-10 छात्रों का चयन किया जायेगा। इन छात्रों को दक्षिण, पूर्व, उत्तर, पश्चिम और पूर्वोत्तर क्षेत्रों में आयोजित होने वाले पाँच बूट शिविरों में मेंटरों द्वारा समाधान को प्रोटोटाइप में बदलने का प्रशिक्षण दिया जायेगा।
प्रोटोटाइप तैयार होने के बाद छात्र वापस अपने इलाकों में जाकर उन समाधानों के क्रियान्वयन का प्रयास करेंगे। आखिरी चरण के लिए देश भर से 50 छात्रों का चयन किया जायेगा। उन्हें राष्ट्रीय स्तर पर नयी दिल्ली में अपने समाधान के प्रदर्शन का मौका मिलेगा।
श्री प्रसाद ने कहा कि जब समाधान में प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल होता है तो वह रचनात्मक समाधान बन जाता है। उन्होंने कहा कि रचनात्मक समाधान का समावेशी और आम लोगों को सशक्त करने वाला होना जरूरी है। साथ ही यह ऐसा होना चाहिये जो नये आयाम खोले।
अजीत संजीव
वार्ता

More News

शिक्षा के व्यवसायीकरण के खिलाफ रैली

18 Feb 2019 | 5:19 PM

 Sharesee more..
बातचीत का समय बीत चुका है: मोदी

बातचीत का समय बीत चुका है: मोदी

18 Feb 2019 | 5:17 PM

नयी दिल्ली, 18 फरवरी (वार्ता) भारत और अर्जेंटीना ने आतंकवाद के खात्मे के लिए मिलकर काम करने की सोमवार को प्रतिबद्धता व्यक्त की तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पुलवामा हमले ने साफ कर दिया है कि बातचीत का समय अब बीत चुका है।

 Sharesee more..
पटेल के मूर्तिकार रामसुतार समेत तीन को मिला टैगोर अवार्ड

पटेल के मूर्तिकार रामसुतार समेत तीन को मिला टैगोर अवार्ड

18 Feb 2019 | 5:07 PM

नयी दिल्ली, 18 फरवरी (वार्ता) राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने सोमवार को यहां गुजरात में सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा बनाने वाले पद्मभूषण से सम्मानित वयोवृद्ध मूर्तिकार राम सुतार, मणिपुरी नृत्य के गुरु राजकुमार सिंघनजीत सिंह और बंगलादेश की प्रसिद्ध सांस्कृतिक संस्था 'छायानट' को कला एवं संस्कृति के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए टैगोर अवार्ड से सम्मानित किया।

 Sharesee more..
image