Wednesday, Jun 19 2019 | Time 18:47 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मोर्गन की पिटाई को भुला नहीं पाएंदे राशिद
  • हरियाणाा में तीन एचसीएस अधिकारियों को अतिरिक्त प्रभार
  • भेल की एक हजार एकड़ जमीन काे वापस लिया जाएगा - गोविंद
  • बालिका के अपहरण और हत्या के मामले में दो लड़के गिरफ्तार
  • ‘एक देश एक चुनाव’ पर संसद में चर्चा कराए सरकार : कांग्रेस
  • बंगलादेश, दक्षिण कोरिया के चैनल भारत में दिखेंगे
  • बंगलादेशी श्रमिकों के साथ झड़प में एक चीनी श्रमिक की मौत
  • बंगलादेश के खिलाफ वापसी कर सकते हैं स्टोयनिस
  • बंगलादेश के खिलाफ वापसी कर सकते हैं स्टोयनिस
  • कैप्टन सरकार नशे को काबू करने में बुरी तरह विफल : चीमा
  • वाई वी सुब्बा रेड्डी तिरुपति देवस्थानम के नये अध्यक्ष
  • मध्य नाइजीरिया में बंदूकधारी ने चार लोगों की हत्या की
  • ढाणी दादूपुर बना हरियाणा का पहला पशुधन जोखिम मुक्त गांव
  • कुशीनगर में तस्कर गिरफ्तार, 350 पेटी शराब बरामद
दुनिया


अमेरिकी मदद नहीं मिली तो ताइवान पर कब्जा कर सकता है चीन: जोसेफ वू

अमेरिकी मदद नहीं मिली तो ताइवान पर कब्जा कर सकता है चीन: जोसेफ वू

ताइपे, 23 जुलाई (वार्ता) ताइवान के विदेश मंत्री जोसेफ वू ने कहा है कि अमेरिका से मिलने वाली सैन्य सहायता के बिना ताइवान की सुरक्षा खतरे में पड़ सकती है।

श्री वू ने अमेरिकी न्यूज नेटवर्क सीएनएन को दिए एक साक्षात्कार में कहा कि यदि अमेरिका से मिलनेे वाली सैन्य सहायता बंद कर दी जाती है तो चीन अपनी सैन्य ताकत का इस्तेमाल कर ताइवान पर कब्जा कर सकता है। उन्होंने कहा कि ताइवान की सरकार का ऐसा मानना है कि पिछले कुछ वर्षों के दौरान अमेरिका के साथ उसके संबंध काफी मजबूत हुए हैं। इसके बावजूद अमेरिका को ताइवान की सैन्य सहायता के अलावा कूटनीतिक मदद भी जारी रखना काफी महत्वपूर्ण है।

श्री वू ने कहा कि यदि ताइवान को मिलने वाली अमेरिकी सैन्य सहायता रोक दी जाती है तो चीन इसका लाभ उठाकर ताइवान पर कब्जा करने की कोशिश करेगा।

गौरतलब है कि चीन काफी लंबे समय से ताइवान को फिर से अपने में मिलाने का प्रयास कर रहा है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने इस वर्ष मार्च में अपने एक भाषण में कहा था कि ताइवान को चीन में मिलाना उनके देश के सभी लोगों की आकांक्षा है। अमेरिकी रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस के इस वर्ष जून में चीन दौरे के समय भी चीनी राष्ट्रपति ने अपने एक बयान में कहा कि चीन ‘एक इंच जमीन भी नहीं छोड़ेगा’।

रवि, यामिनी

वार्ता

image