Monday, Jan 21 2019 | Time 19:31 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • झारखंड में बजटीय आवंटन का महज 52 16 प्रतिशत ही हुआ खर्च
  • नंबर एक हालेप बाहर, सेरेना और जोकोविच क्वार्टरफाइनल में
  • कुएं में गिरी शेरनी को जीवित निकाला गया
  • राकांपा का ‘निर्धार परिवर्तन संकल्प यात्रा’ पहुंचा औरंगाबाद
  • श्रीनगर नगर निगम की बैठक में उप महापौर पर हमला
  • इसरो करेगा नये स्पेस टेलीस्कोप का प्रक्षेपण
  • आईएमएफ ने भारत का विकास अनुमान बढ़ाया
  • केएफसी का एलेक्सा से करार
  • साक्षी-ओमेलचेंको मुक़ाबला होगा मुख्य आकर्षण
  • नरसिंह डोपिंग मामले में सीबीआई दायर करे अपना जवाब: हाईकोर्ट
  • फोनपे से जुड़े 10 लाख ऑफ़लाइन व्यापारी
  • बजाज ऑटो अगले वर्ष उतार सकती है इलेक्ट्रिक स्कूटर
  • तीन वर्षाें में 50 लाख मोटरसाइकिल निर्यात करेगी बजाज ऑटो
  • विवेक डोभाल ने पत्रिका के खिलाफ मानहानि केस दर्ज कराया
  • कांग्रेस विधायक आनंद सिंह गंभीर चोटों के कारण अस्पताल में भर्ती
राज्य Share

झारखंड के खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में निवेश के लिए आगे आए चीन : रघुवर

झारखंड के खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में निवेश के लिए आगे आए चीन : रघुवर

रांची 05 सितंबर (वार्ता) झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने चीन की कंपनियों को राज्य के खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में निवेश के लिए आमंत्रित करते हुये आज कहा कि प्रदेश में इस क्षेत्र में निवेश की अपार संभावना है।

मुख्यमंत्री श्री दास ने चीन में हेनान प्रांत के कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चीन के पार्टी सचिव श्री वॉन के साथ द्विपक्षीय वार्ता के दौरान कहा कि हेनान में खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में 30 हजार से अधिक कंपनियां काम कर रही हैं। झारखंड में इस क्षेत्र में निवेश की अपार संभावनाएं है, जिसे देखते हुये चीन की कंपनियों को निवेश के लिए आगे आना चाहिए।

श्री दास ने झारखंड में इस वर्ष 29-30 नवंबर को होने वाले विश्व कृषि एवं खाद्य सम्मेलन में भाग लेने के लिए आमंत्रित करते हुये बताया कि इस सम्मेलन में दुनिया के कई देशों की खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में काम करने वाली कंपनियां शरीक होंगी।

मुख्यमंत्री ने कहा, “चीन के हेनान प्रांत से भारत की यात्रा पर आने वाले ह्वेनसांग और फाह्यान हमारे देश के इतिहास के अमिट हस्ताक्षर हैं। झारखंड के इटखोरी से ही भगवान बुद्ध की आध्यात्मिक यात्रा की शुरुआत हुई थी। हेनान प्रान्त से हमारे अतीत के बेहतर रिश्तों की तरह भविष्य में भी बहुत बेहतर संबंध की अपेक्षा है। झारखंड भगवान बुद्ध का बहुत बड़ा केंद्र बन सकता है। ईटखोरी में भगवान बुद्ध की आध्यात्मिक यात्रा की शुरुआत हुई थी। बौद्ध धर्म के दृष्टिकोण से हेनान प्रांत का झारखंड से काफी गहरा नाता स्थापित हो सकता है।

सूरज शिवा

जारी (वार्ता)

image