Saturday, Nov 17 2018 | Time 21:01 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पुड्डुचेरी में गाजा को लेकर मंत्रिमंडल की बैठक
  • कर्नाटक के कलुबर्गी जिले के 121 गांवों में पेयजल का संकट
  • बिहार मे अलग-अलग हादसों में नौ लोगों की मौत , दस घायल
  • ‘नीच’ शब्द पर हायतौबा उपेंद्र कुशवाहा की स्तरहीन राजनीति का प्रमाण
  • सबरीमला में तनाव के बीच श्रद्धालुओं का सालाना व्रत शुरू
  • बस की चपेट में आने से बाइक सवार की मौत
  • संसद अखाड़े जैसा, लोकतांत्रिक संस्थाएं कर रही है विश्वसनीयता की कमी का सामना - पूर्व राष्ट्रपति मुखर्जी
  • झारखंड के मूल निवासियों का हक छीन रही रघुवर सरकार : हेमंत
  • अमित शाह ने रोड शो कर भाजपा प्रत्याशियों के लिए मांगे वोट
  • अमित शाह ने रोड शो कर भाजपा प्रत्याशियों के लिए मांगे वोट
  • सोनिया और रानी पिंकी प्री क्वार्टरफाइनल में
  • सोनिया और रानी पिंकी प्री क्वार्टरफाइनल में
  • दानापुर नगर परिषद् के प्रमुख सहायक रिश्वत लेते गिरफ्तार
  • राष्ट्रवादी कांग्रेस की छत्तीसगढ़ इकाई के अध्यक्ष कांग्रेस में शामिल
  • राष्ट्रवादी कांग्रेस की छत्तीसगढ़ इकाई के अध्यक्ष कांग्रेस में शामिल
राज्य Share

सभ्यताएँ युग के साथ बदलती हैं-पवैया

सभ्यताएँ युग के साथ बदलती हैं-पवैया

भोपाल, 11 सितम्बर (वार्ता) मध्यप्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया ने कहा कि आज के समय जनजातीय इतिहास के बीजारोपण की आवश्यकता है और मध्यवर्ती भारत की लोक परम्पराओं को सहेजने की जरूरत है। जनजाति समुदाय ने अपने संस्कृति को आज भी बचाकर रखा है।

श्री पवैया मध्यवर्ती भारत : नये आयाम 'इतिहास-संस्कृति एवं जनजातीय परम्पराएं' विषय पर दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी के शुभारंभ समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि विश्व में जो देश अपनी संस्कृति और इतिहास पर गौरव नहीं करते, उनका पतन निश्चित होता है। जापान में जब संकट आया, तब राजा के आह्वान पर बड़ी आबादी ने अपने सोने जड़ित दांत राज्य को समर्पित कर दिए। उन्होंने कहा कि नागरिकों में राष्ट्र चेतना का प्रबल होना जरूरी है।

उन्होंने कहा कि सभ्यताएँ युग के साथ बदलती हैं, मगर संस्कृति नहीं। उन्होंने लुप्त हो रहे विभिन्न रीति-रिवाजों और परम्पराओं को सहेजने की जरूरत बतायी।

उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के सांस्कृतिक महत्व का पता इस बात से लगता है कि महाभारत काल में भगवान कृष्ण अपने गुरु संदीपनी से ज्ञान प्राप्त करने मध्य भारत आये। रामायण काल मे जब भगवान राम ने अपने भाइयों के पुत्रों में राज्य बंटवारा किया, तब शत्रुघ्न के पुत्र को विदिशा राज्य दिया गया। उन्होंने कहा कि वनवासी समुदाय ने अपने लोक गीतों, बोलियों, परम्परा, संस्कृति, जीवन शैली को आज भी सहेज कर रखा है। आज इतिहास को पश्चिमी नजरिए के बजाय वनवासी समुदाय और संस्कृति को केंद्र में रखकर लिखे जाने की जरूरत है।

नाग

वार्ता

More News

सबरीमाला मंदिर में प्रवेश को लेकर इतनी उत्सुक क्यों हैं महिलाएं: नसरीन

17 Nov 2018 | 8:55 PM

कोच्चि 17 नवंबर (वनार्ता) प्रसिद्ध बंगलादेशी लेखिका तथा महिलाओं के हक की लड़ाई लड़ने वाली तस्लीमा नसरीन ने सबरीमला विवाद पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि उन्हें समझ में नहीं आता है कि महिला कार्यकर्ता विश्व प्रसिद्ध सबरीमला मंदिर में ‘प्रवेश के लिए इतनी उत्सुक’ क्यों हैं?

 Sharesee more..

दुर्घटना-मौत बिहार तीन अंतिम पटना

17 Nov 2018 | 8:51 PM

 Sharesee more..
image