Thursday, Feb 21 2019 | Time 23:48 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • पोप ने दुष्कर्म मामलों के समाधान के लिए की बैठक
  • बिहार में अलग-अलग हादसों में दस की मौत, आठ घयल
  • उमर, महबूबा ने संयुक्त बयान का किया स्वागत
  • विद्युत निगम कर्मचारियों का काम का अनिश्चितकालीन बहिष्कार
  • ट्रैक्टर की चपेट में आने से बच्ची की मौत
  • जीप पलटने से एक छात्रा की मौत, दो घायल
  • सुपरटेक पर कार्रवाई, चार गिरफ्तार, 50 हजार जुर्माना
  • तीन तलाक पर रोक सहित चार अध्यादेश जारी
  • थरूर ने कोर्ट से विदेश यात्रा की मांगी इजाजत
  • तेदेपा ने पांच उम्मीदवारों के नाम घोषित किए
  • सिंधी नेताओं का उनके सामाजिक एवं राजनीतिक जीवन में महत्वपूर्ण स्थान रहा है:नाईक
  • इमरान ने सईद नीत जेयूडी पर फिर से पाबंदी लगायी
  • कांग्रेस के निलंबित विधायक 14 दिन की न्यायिक हिरासत में
राज्य Share

सभ्यताएँ युग के साथ बदलती हैं-पवैया

सभ्यताएँ युग के साथ बदलती हैं-पवैया

भोपाल, 11 सितम्बर (वार्ता) मध्यप्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया ने कहा कि आज के समय जनजातीय इतिहास के बीजारोपण की आवश्यकता है और मध्यवर्ती भारत की लोक परम्पराओं को सहेजने की जरूरत है। जनजाति समुदाय ने अपने संस्कृति को आज भी बचाकर रखा है।

श्री पवैया मध्यवर्ती भारत : नये आयाम 'इतिहास-संस्कृति एवं जनजातीय परम्पराएं' विषय पर दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी के शुभारंभ समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि विश्व में जो देश अपनी संस्कृति और इतिहास पर गौरव नहीं करते, उनका पतन निश्चित होता है। जापान में जब संकट आया, तब राजा के आह्वान पर बड़ी आबादी ने अपने सोने जड़ित दांत राज्य को समर्पित कर दिए। उन्होंने कहा कि नागरिकों में राष्ट्र चेतना का प्रबल होना जरूरी है।

उन्होंने कहा कि सभ्यताएँ युग के साथ बदलती हैं, मगर संस्कृति नहीं। उन्होंने लुप्त हो रहे विभिन्न रीति-रिवाजों और परम्पराओं को सहेजने की जरूरत बतायी।

उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के सांस्कृतिक महत्व का पता इस बात से लगता है कि महाभारत काल में भगवान कृष्ण अपने गुरु संदीपनी से ज्ञान प्राप्त करने मध्य भारत आये। रामायण काल मे जब भगवान राम ने अपने भाइयों के पुत्रों में राज्य बंटवारा किया, तब शत्रुघ्न के पुत्र को विदिशा राज्य दिया गया। उन्होंने कहा कि वनवासी समुदाय ने अपने लोक गीतों, बोलियों, परम्परा, संस्कृति, जीवन शैली को आज भी सहेज कर रखा है। आज इतिहास को पश्चिमी नजरिए के बजाय वनवासी समुदाय और संस्कृति को केंद्र में रखकर लिखे जाने की जरूरत है।

नाग

वार्ता

More News
तेदेपा ने पांच उम्मीदवारों के नाम घोषित किए

तेदेपा ने पांच उम्मीदवारों के नाम घोषित किए

21 Feb 2019 | 11:19 PM

अमरावती 21 फरवरी (वार्ता) तेलुगुदेशम पार्टी(तेदेपा) अध्यक्ष एवं आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने आगामी चुनाव के लिए गुरुवार को पांच उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की।

 Sharesee more..
सारस नागरिक विमान परियोजना को वित्त मंत्रालय की  मंजूरी

सारस नागरिक विमान परियोजना को वित्त मंत्रालय की मंजूरी

21 Feb 2019 | 11:07 PM

बेंगलुरु, 21 फरवरी (वार्ता) केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने छह हज़ार करोड़ की लागत वाले सारस नागरिक विमान परियोजना प्रस्ताव को गुरुवार को मंजूरी दे दी। सारस विमान का निर्माण रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) के प्रमुख प्रतिष्ठान राष्ट्रीय एयरोस्पेस प्रयोगशाला (एनएएल) द्वारा किया जाएगा।

 Sharesee more..
image