Friday, Nov 15 2019 | Time 18:58 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • एनएमडीसी की माईनिंग लीज बढ़ाएगी छत्तीसगढ़ सरकार
  • बेंगलुरु ने स्टेन सहित 12 खिलाड़ियों को किया रिलीज
  • सूरत-मुंबई क्रूज फेरी सर्विस शुरू
  • दो मामलों में विधायक अनंत सिंह के खिलाफ पेशी वारंट
  • अक्टूबर में निर्यात गिरा
  • विदेशी मुद्रा भंडार 447 80 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर
  • फिरोजाबाद में फर्जी डिग्री से नौकरी पाने वाले 30 शिक्षक बर्खास्त
  • कोलकाता ने उथप्पा और लिन को किया रिलीज
  • उच्च न्यायालय ने सिविल न्यायाधीश के पद की प्रवेश परीक्षा एवं परिणाम को किया निरस्त
  • हरियाणा मंत्रिमंडल की बैठक 18 नवम्बर को
  • विदेशी मुद्रा भंडार 1 72 अरब डॉलर बढ़कर 447 80 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर
  • भूपेश सरकार समर्थन मूल्य पर धान खरीद को लेकर कर रहीं हैं राजनीति – रमन
  • अंतरराष्ट्रीय कबड्डी टूर्नामेंट के लिए भारतीय टीम का चयन 18 नवम्बर को
  • एसटीएफ ने गोरखपुर से पकड़े छह वन्य जीव तस्कर, 500 तोते बरामद
राज्य » अन्य राज्य


कश्मीर घाटी में बंद पड़े मंदिरों के फिर से खुलेंगे कपाट: रेड्डी

कश्मीर घाटी में बंद पड़े मंदिरों के फिर से खुलेंगे कपाट: रेड्डी

बेंगलुरु,23 सितम्बर(वार्ता) जम्मू कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा खत्म करने और अनुच्छेद 370 के कुछ प्रावधानों को हटाए जाने के बाद केंद्र सरकार राज्य में वर्षों से बंद पड़े मंदिरों के कपाट फिर से खोलने की तैयारी कर रही है ।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने सोमवार को यहां मीडिया से बातचीत में कहा कि कश्मीर घाटी में पिछले कई वर्षों से करीब 50 हजार मंदिरों के कपाट बंद पड़े हैं । इन मंदिरों में से कुछ का ढांचा भी तोड़ दिया गया था और मूर्तियों को भी नुकसान पहुंचाया गया था । केंद्र सरकार कश्मीर घाटी में ऐसे मंदिरों का जल्दी ही सर्वेक्षण करवाने जा रही है और जल्द ही इनको फिर से खोलने पर काम शुरु किया जायेगा।

श्री रेड्डी ने बताया कि कश्मीर में बंद पड़े विद्यालयों को फिर से खोले जाने पर भी काम शुरु किया जायेगा। घाटी में बंद पड़े स्कूलों की सही जानकारी के लिए सर्वेक्षण कराया जा रहा है । सर्वेक्षण के लिए समिति गठित की गई है । समिति की रिपोर्ट के बाद स्कूलों को फिर से खोलने के लिए कदम उठाये जायेंगे।

श्री रेड्डी ने बताया कि दशकों तक घाटी में आतंकवाद की वजह से हजारों की संख्या में पंडितों को पलायन के लिए मजबूर होना पड़ा था । आतंकवादियों ने बड़ी संख्या में कश्मीरी पंडितों की हत्याएं भी की थी । इस दौरान वहां के कई प्रसिद्ध मंदिरों समेत हजारों मंदिरों के ढांचे और मूर्तियों को नुकसान पहुंचाया गया था । उन्होंने कहा केंद्र सरकार जम्मू कश्मीर में आतंकवाद के खात्मे के लिए प्रतिबद्ध है। आतंकवाद का सफाया करने के लिए अभियान भी जारी है । सरकार घाटी से नफरत की भावना को जड़ से खत्म करके ही शांत बैठेगी।

गौरतलब है कि 90 के दशक में जम्मू कश्मीर में आतंकवाद का दौर शुरु होने के बाद वहां रहने वाले कश्मीरी पंडितों को पलायन करना पड़ा था । कश्मीरी पंडितों को मारने के अलावा आतंकवादियों ने मंदिरों को भी नुकसान पहुंचाया था। बंद पड़े मंदिरों में कई मशहूर हैं ।

मिश्रा टंडन

वार्ता

More News
रक्षा मंत्री ने बुमला में अग्रिम सैन्य चौकियों का दौरा किया

रक्षा मंत्री ने बुमला में अग्रिम सैन्य चौकियों का दौरा किया

15 Nov 2019 | 4:59 PM

इटानगर,15 नवंबर (वार्ता) अरुणाचल प्रदेश की दो दिनों की यात्रा पर आए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को भारत -चीन सीमा पर तवांग के निकट बुमला में भारतीय अग्रिम सैन्य चौकियों का निरीक्षण किया।

see more..
image