Sunday, Nov 18 2018 | Time 13:19 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कांग्रेस ने 50 वर्षों तक झूठ बोलकर किया देश पर शासन - मोदी
  • निरंकारी समारोह पर बम हमले में तीन लाेगों की मौत, कईं घायल
  • हेरिटेज फूड्स ने लाँच किया गाय का दूध
  • अमृतसर में निरंकारी भवन में बम हमला, कई लोगों की मौत
  • कश्मीर में अज्ञात बंदूकधारियों ने एक और युवक का किया अपहरण
  • वैश्विक संकेतों और कच्चे तेल पर रहेगी निवेशकों की नजर
  • 112वें नंबर की टीम जॉर्डन से कड़े संघर्ष में हारा भारत
  • छत्तीसगढ़ के आखिरी चरण की 72 सीटो पर आज शाम होगा प्रचार समाप्त
  • मंधाना के विस्फोट से ऑस्ट्रेलिया ध्वस्त, भारत टॉप पर
  • मंधाना के विस्फोट से ऑस्ट्रेलिया ध्वस्त, भारत टॉप पर
  • छत्तीसगढ़ के आखिरी चरण की 72 सीटो पर आज शाम होगा प्रचार समाप्त
  • सलिल ने गीतों से देशभक्ति के जज्बे को बुलंद किया
  • सलिल ने गीतों से देशभक्ति के जज्बे को बुलंद किया
  • सलिल ने गीतों से देशभक्ति के जज्बे को बुलंद किया
  • गुरुद्वारे का निर्माणाधीन हिस्सा ढहने से तीन सेवादारों की मौत, तीन घायल
मनोरंजन Share

कॉमेडी किंग महमूद को भी करना पड़ा था संघर्ष

कॉमेडी किंग महमूद को भी करना पड़ा था संघर्ष

.. पुण्यतिथि 23 जुलाई ..

मुंबई 22 जुलाई (वार्ता) अपने विशिष्ट अंदाज .हाव.भाव और आवाज से लगभग पांच दशक तक दर्शकों को हंसाने और गुदगुदाने वाले महमूद ने फिल्म इंडस्ट्री में ..किंग ऑफ कामेडी ..का दर्जा हासिल किया लेकिन उन्हें इसके लिये काफी संघर्ष का सामना करना पड़ा था और यहां तक सुनना पड़ा था कि ..वो न तो अभिनय कर सकते है ..ना ही कभी अभिनेता बन सकते है ..

बाल कलाकार से हास्य अभिनेता के रूप मे स्थापित हुये महमूद का जन्म सितम्बर 1933 को मुंबई में हुआ था । उनके पिता मुमताज अली बाम्बे टाकीज स्टूडियो में काम किया करते थे । घर की आर्थिक जरूरत को पूरा करने

के लिये महमूद मलाड और विरार के बीच चलने वाली लोकल ट्रेनों में टॉफियां बेचा करते थे । बचपन के दिनों से ही महमूद का रूझान अभिनय की ओर था और वह अभिनेता बनना चाहते थे । अपने पिता की सिफारिश की वजह से महमूद को बाम्बे टाकीज की वर्ष 1943 में प्रदर्शित फिल्म ..किस्मत.. मे अभिनेता अशोक कुमार के बचपन की भूमिका निभाने का मौका मिल गया।

इस बीच महमूद ने कार ड्राइव करना सीखा और निर्माता ज्ञान मुखर्जी के यहां बतौर ड्राइवर काम करने लगे क्योंकि इसी बहाने उन्हें मालिक के साथ हर दिन स्टूडियो जाने का मौका मिल जाया करता था जहां वह कलाकारों को करीब से देख सकते थे । इसके बाद महमूद ने गीतकार गोपाल सिंह नेपाली.भरत व्यास.राजा मेंहदी अली खान और निर्माता पी.एल. संतोषी के घर पर भी ड्राइवर का काम किया । महमूद की किस्मत का सितारा तब चमका जब फिल्म ..नादान .. की शूटिंग के दौरान अभिनेत्री मधुबाला के सामने एक जूनियर कलाकार लगातार दस रीटेक के बाद भी अपना संवाद नही बोल पाया । फिल्म निर्देशक हीरा सिंह ने यह संवाद महमूद को बोलने के लिये दिया गया जिसे उन्होंने बिना रिटेक एक बार में ही ओके कर दिया ।

इस फिल्म में महमूद को बतौर 300 रूपये प्राप्त हुये जबकि बतौर ड्राइवर महमूद को महीने में मात्र 75 रूपये ही मिला करते थे । इसके बाद महमूद ने ड्राइवरी करने का काम छोड़ दिया और अपना नाम जूनियर आर्टिस्ट एशोसिएशन मे दर्ज करा दिया और फिल्मों में काम पाने के लिये संघर्ष करना शुरू कर दिया । इसके बाद बतौर जूनियर आर्टिस्ट महमूद ने दो बीघा जमीन.जागृति.सी.आई.डी.प्यासा जैसी फिल्मों में छोटे-मोटे रोल किये जिनसे उन्हें कुछ खास फायदा नही हुआ ।


  इसी दौरान महमूद ने ए.बी.एम के बैनर तले बनने वाली फिल्म मिस मैरी के लिये स्क्रीन टेस्ट दिया । लेकिन ए.बी.एम बैनर ने महमूद को स्क्रीन टेस्ट में फेल कर दिया । महमूद के बारे में ए.बी .एम की राय कुछ

इस तरह की थी कि वह ना कभी अभिनय कर सकते है ना ही अभिनेता बन सकते है । बाद के दिनों में ए.बी.बैनर की महमूद के बारे में न सिर्फ राय बदली साथ ही उन्होने महमूद को लेकर बतौर अभिनेता ..मैं सुदर हूं ..का निर्माण भी

किया ।

इसी दौरान महमूद रिश्तेदार कमाल अमरोही के पास फिल्म में काम मांगने के लिये गये तो उन्होंने महमूद को यहां तक कह दिया कि ..आप अभिनेता मुमताज अली के पुत्र है और जरूरी नहीं है कि एक अभिनेता का पुत्र भी अभिनेता बन सके ।आपके पास फिल्मों में अभिनय करने की योग्यता नही है । आप चाहे तो मुझसे कुछ पैसे लेकर कोई अलग व्यवसाय कर सकते है । इस तरह की बात सुनकर कोई भी मायूस हो सकता था और फिल्म इंडस्ट्री को अलविदा कह सकता था लेकिन महमूद ने इस बात को चैलेंज की तरह लिया और नये जोशो खरोश के साथ काम करना जारी रखा । इसी दौरान महमूद को बी.आर.चोपड़ा की कैंप से बुलावा आया और महमूद को फिल्म ..एक ही रास्ता ..के लिये काम करने का प्रस्ताव मिला ।

महमूद ने महसूस किया कि अचानक इतने बड़े बैनर की फिल्म में काम मिलना महज एक संयोग नही है इसमें जरूर कोई बात है बाद में जब उन्हें मालूम हुआ कि यह फिल्म उन्हें अपनी पत्नी की बहन मीना कुमारी के प्रयास से हसिल हुयी है तो उन्होंने फिल्म एक ही रास्ता में काम करने से यह कहकर मना कर दिया कि वह फिल्म इंडस्ट्री में अपने बलबूते अभिनेता बनना चाहते है ना कि किसी की सिफारिश पर ।

इस बीच महमूद ने संघर्ष करना जारी रखा औरजल्द ही महमूद की मेहनत रंग लायी और वर्ष 1958 मे प्रदर्शित फिल्म ..परवरिश.. में उन्हें एक अच्छी भूमिका मिल गयी। इस फिल्म में महमूद ने राजकपूर के भाई की भूमिका निभायी । इसके बाद उन्हें एल वी प्रसाद की फिल्म ..छोटी बहन ..में काम करने का अवसर मिला जो उनके सिने करियर के लिये अहम फिल्म साबित हुयी ।

फिल्म छोटी बहन में बतौर पारश्रमिक महमूद को 6000 रूपये मिले । फिल्म की सफलता के बाद बतौर अभिनेता महमूद फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में सफल हो गये । फिल्म में उनके अभिनय को देख एक अखबार ..टाइम्स ऑफ इंडिया ..ने उनकी जमकर सराहना की । वर्ष 1961 में महमूद को एम.वी.प्रसाद की फिल्म ..ससुराल.. में काम करने का अवसर मिला । इस फिल्म की सफलता के बाद बतौर हास्य अभिनेता महमूद फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने मे सफल हो गये । फिल्म ससुराल में उनकी जोड़ी अभिनेत्री शुभा खोटे के साथ काफी पसंद की गयी । इसी वर्ष महमूद ने अपनी पहली फिल्म ..छोटे नवाब ..का निर्माण किया। इसके साथ ही इस फिल्म

के जरिये महमूद ने आर.डी. बर्मन उर्फ पंचम दा को बतौर संगीतकार फिल्म इंडस्ट्री में पहली बार पेश किया ।

अपने चरित्र में आई एकरूपता से बचने के लिये महमूद ने अपने आप को विभिन्न प्रकार की भूमिका मे पेश किया इसी क्रम में वर्ष 1968 में प्रदर्शित फिल्म ..पड़ोसन .. का नाम सबसे पहले आता है । फिल्म पड़ोसन मे

महमूद ने नकारात्मक भूमिका निभाई और दर्शकों की वाहवाही लूटने मे सफल रहे । फिल्म में महमूद पर फिल्माया एक गाना ..एक चतुर नार करके श्रृंगार .. काफी लोकप्रिय हुआ ।

वर्ष 1970 मे प्रदर्शित फिल्म ..हमजोली ..में महमूद के अभिनय के विविध रूप दर्शकों को देखने को मिले । इस फिल्म मे महमूद ने तिहरी भूमिका निभायी और दर्शकों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया । महमूद ने कई फिल्मों का निर्माण और निर्देशन किया। महमूद ने कई फिल्मों मे अपने पार्श्वगायन से भी श्रोताओं को अपना दीवाना बनाया । महमूद को अपने सिने कैरियर मे तीन बार फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया । अपने पांच दशक से लंबे सिने कैरियर में करीब 300 फिल्मों में अपने अभिनय का जौहर दिखाकर महमूद 23 जुलाई 2004 को इस दुनिया से हमेशा के लिए रूखसत हो गये ।



वार्ता

 

More News
मुन्ना भाई 3 की स्क्रिप्ट तैयार: हिरानी

मुन्ना भाई 3 की स्क्रिप्ट तैयार: हिरानी

18 Nov 2018 | 12:57 PM

मुंबई 18 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड निर्देशक राजकुमार हिरानी का कहना है कि मुन्ना भाई सीरीज की तीसरी फिल्म की स्क्रिप्ट तैयार है और जल्द ही इसपर काम शुरू होगा।

 Sharesee more..
अक्षय ने वीडियो में 2.0 के लिये दिखाया ट्रान्सफर्मेशन

अक्षय ने वीडियो में 2.0 के लिये दिखाया ट्रान्सफर्मेशन

18 Nov 2018 | 12:45 PM

मुंबई 18 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार ने अपनी आने वाली फिल्म 2.0 के लिये अपना ट्रान्सफर्मेशन दिखाया है।

 Sharesee more..
सलिल ने गीतों से देशभक्ति के जज्बे को बुलंद किया

सलिल ने गीतों से देशभक्ति के जज्बे को बुलंद किया

18 Nov 2018 | 12:29 PM

मुंबई 18 नवंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में सलिल चौधरी का नाम एक ऐसे संगीतकार के रूप मे याद किया जाता है,जिन्होंने अपने संगीतबद्ध गीतों से लोगों के बीच देशभक्ति के जज्बे को बुलंद किया।

 Sharesee more..
जीनत ने अभिनेत्रियों को दिलायी विशिष्ट पहचान

जीनत ने अभिनेत्रियों को दिलायी विशिष्ट पहचान

18 Nov 2018 | 12:07 PM

मुंबई 18 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड में जीनत अमान को ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है,जिन्होंने अपने खास अंदाज से परंपरागत ढ़र्रे पर चलने वाले मुख्यधारा के सिनेमा में परिवर्तन का सूत्रपात किया और अभिनेत्रियों को विशिष्ट पहचान दिलायी।

 Sharesee more..
image