Thursday, May 28 2020 | Time 11:59 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अरुणाचल प्रदेश में कोरोना के तीसरे मामले की पुष्टि
  • झांसी: तीन नये कोरोना पॉजिटिव, एक की मौत
  • औरंगाबाद में कोरोना के 35 नये मामले, संक्रमितों की संख्या 1400 के करीब
  • देश में ड्रीमलाइनर की पहली उड़ान
  • पुलवामा में वाहन से विस्फोटक बरामद, बड़े हमले की योजना विफल
  • सरकारों को प्रवासी मजदूरों की बिल्कुल चिंता नहीं : मायावती
  • पेट्रोल-डीजल के भाव
  • नासिक में कोरोना संक्रमण के 48 नये मामले
  • शुरुआती कारोबार में 400 अंक चढ़ा सेंसेक्स
  • संतूर आश्रम के जीर्णोद्धार के लिए ग्लोबल म्यूजिक फेस्टिवल का आयोजन
  • जमुई में गोलीबारी कांड का आरोपी गिरफ्तार
  • नासिक में कोरोना संक्रमण के 48 नये मामले
  • बक्सर में कोरोना संदिग्ध प्रवासी मजदूर की मौत
  • सेंसेक्स 400 अंक और निफ्टी 120 अंक उछला
  • मोदी ने जयंती पर वीर सावरकर को किया नमन
राज्य » बिहार / झारखण्ड


शैक्षणिक कैलेण्डर का अनुपालन विश्वविद्यालयों की सर्वोच्च प्राथमिकता हो: राज्यपाल

शैक्षणिक कैलेण्डर का अनुपालन विश्वविद्यालयों की सर्वोच्च प्राथमिकता हो: राज्यपाल

पटना, 21 अक्टूबर (वार्ता) बिहार के राज्यपाल सह कुलाधिपति फागू चौहान ने आज कहा कि शैक्षणिक एवं एकेडमिक कैलेण्डर का अनुपालन विश्वविद्यालयों की सर्वोच्च प्राथमिकता होनी चाहिए।

श्री चौहान ने यहां पटना के मौलाना मजहरूल हक अरबी-फारसी विश्वविद्यालय एवं नालंदा खुला विश्वविद्यालय की शैक्षणिक गतिविधियों की समीक्षा बैठक में कहा कि विश्वविद्यालयों में गुणवत्ता-विकास के लिए निर्धारित एजेन्डे पर तेजी से अमल करना होगा। उन्होंने जोर देकर कहा कि शैक्षणिक एवं एकेडमिक कैलेण्डर का अनुपालन विश्वविद्यालय की सर्वोच्च प्राथमिकता होनी चाहिए। विश्वविद्यालयों की शैक्षणिक प्रगति के लिए निर्धारित मानक अत्यन्त स्पष्ट हैं, जिनपर विश्वविद्यालयों को तत्परतापूर्वक कार्य करना है और राष्ट्रीय स्तर पर अपने को बेहतर रूप में सिद्ध करना है।

कुलाधिपति ने कहा कि मौलाना मजहरूल हक अरबी-फारसी विश्वविद्यालय द्वारा संचालित सभी ‘ज्ञान संसाधन केन्द्रों’ को आधुनिक रूप में विकसित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इनकी आधारभूत संरचना शीघ्र विकसित की जाये तथा वहां के पुस्तकालयों एवं प्रयोगशालाओं को भी शीघ्र सुदृढ़ीकृत किया जाये।

बैठक में राज्यपाल के अपर मुख्य सचिव ब्रजेश मेहरोत्रा के अलावा संबंधित विश्वविद्यालयों के कुलपति, प्रतिकुलपति, कुलसचिव सहित विश्वविद्यालय प्रशासन एवं राज्यपाल सचिवालय के सभी संबंधित वरीय अधिकारी उपस्थित थे।

सतीश

वार्ता

image