Tuesday, Feb 19 2019 | Time 14:24 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उत्तरप्रदेश में पंजीकृत कार से लगभग 11 करोड़ की नगदी बरामद
  • पुलवामा हमले को लेकर भारत की कार्रवाई का जवाब देंगे: इमरान
  • जोकोविच ने चौथी बार जीता लॉरेस विश्व खेल पुरस्कार
  • छोटे मन से कोई बड़ा नहीं होता : मायावती
  • शिक्षकों की भर्ती में छत्तीसगढ़ के लोगो को मिलेगा पर्याप्त मौका- उमेश
  • बुलंदशहर में गल्ला व्यापारी के मुनीम को गोली मारकर पांच लाख लूटे
  • बढ़ेगा चीनी मिलों का मुनाफा, कम होगा किसानों का बकाया: रिपोर्ट
  • दिग्विजय की सिद्धू को सलाह, अपने दोस्त इमरान को समझायें
  • भाजपा, अन्नाद्रमुक गठबंधन की कोशिशों में व्यस्त
  • मिर्जापुर में दो दुर्घटनाओं में चार लोगों की मृत्यु, एक की हत्या
  • आदिवासी परंपराओं, रीति-रिवाजों का सम्मान संवैधानिक दायित्व : वेंकैया
  • मनरेगा की बकाया मजदूरी की राशि केन्द्र से जारी करवाने का प्रयास जारी - सिंहदेव
  • वाहन की टक्कर से तेंदुए की मौत
  • अन्नाद्रमुक-पीएमके के बीच सीटों के बंटवारे के लिए समझौता
  • पाकिस्तान के सीमेंट निर्यात को झटका, भारतीय आयातकों ने कंटेनर वापस मंगाने को कहा
राज्य Share

विद्यार्थियों को कम्प्यूटर द्वारा संशोधित मार्कशीट दी जाये-आनंदीबेन

विद्यार्थियों को कम्प्यूटर द्वारा संशोधित मार्कशीट दी जाये-आनंदीबेन

भोपाल, 06 सितम्बर (वार्ता) मध्यप्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा है कि विश्वविद्यालय परीक्षा के पहले और परीक्षा के बाद होने वाली गड़बड़ियों को दूर करने का गंभीरता से प्रयास करें।

यह बात श्रीमती पटेल ने विश्वविद्यालय समन्वय समिति की 95वीं बैठक में कही। उन्होंने कहा कि कुलपति अध्यादेश और नियमों का सख्ती से पालन करें और इस बात का ध्यान रखें कि किसी काम में गलतियाँ न हों। उन्होंने विश्वविद्यालयों को विद्यार्थियों के लिए कम्प्यूटर द्वारा संशोधित मार्कशीट देने के निर्देश दिये।

इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया, उच्च शिक्षा, वित्त, विधि विभाग तथा वरिष्ठ अधिकारी और शासकीय एवं अशासकीय विश्वविद्यालयों के कुलपति उपस्थित थे।

राज्यपाल ने कहा कि विश्वविद्यालय एक-दूसरे से प्रतिस्पर्धा करते हुए उच्च ग्रेड में आगे बढ़ने की कोशिश करें। यह सभी विश्वविद्यालयों का दायित्व है कि हर विश्वविद्यालय देश के अग्रणी विश्वविद्यालयों की सूची में स्थान प्राप्त करे, ताकि देश-विदेश से छात्र-छात्रायें शिक्षा ग्रहण करने आयें। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश को शिक्षा के क्षेत्र में देश का सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाना है। इसलिए विश्वविद्यालयों को अपने पाठ्यक्रमों के सिलेबस में परिवर्तन करते रहना चाहिए।

उन्होंने कहा कि कई विश्वविद्यालयों में प्रोफसर और लेक्चरर कई वर्षों से स्वयं के तैयार नोट के द्वारा पढ़ाते हैं। इसलिए विद्यार्थियों को नई जानकारी उपलब्ध नहीं हो पाती है। इसके लिए उन्होंने प्रोफेसरों और प्राचार्यो को प्रशिक्षण देने का सुझाव देते हुए कहा कि शिक्षा में गुणवत्ता लाने तथा विश्वविद्यालय को नेक में उच्च स्थान प्राप्त दिलाने के लिए विशेषज्ञों से मार्गर्शन भी प्राप्त करें।

उन्होंने कुलपतियों को प्रधानमंत्री के गांधी-150 वर्ष पर 2 अक्टूबर से पूरे एक वर्ष तक चलने वाले कार्यक्रमों की रूपरेखा तैयार करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि गांधी जी की अफ्रीका यात्रा से लेकर आज की सामाजिक और राष्ट्रीय स्थिति में हो रहे बदलाव के परिप्रेक्ष में गांधी जी के विचार और दर्शन के महत्व को छात्र-छात्राओं को बतायें।

उन्होंने कहा कि कुलपति अपने विदेश और प्रदेश के बाहर के कार्यक्रमों में जाने की जानकारी हर माह राजभवन को भेजें। उन्होंने कहा कि जिन विश्वविद्यालयों में लोकपाल की नियुक्ति नहीं हुई, वहाँ जल्द से जल्द लोकपाल नियुक्त करें।

नाग

वार्ता

image