Monday, Feb 18 2019 | Time 04:26 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ‘नयी सुविधाओं’ से जवानों के काफिले को सुरक्षित बनाया जाएगा: भटनागर
  • फ्रांस में सरकार विरोधी प्रदर्शन के तीन महीने पूरे
  • लीबिया में खुफिया विभाग के पूर्व प्रमुख डोरडा हुआ रिहा
  • केरल में युवक कांग्रेस के दो कार्यकर्ताओं की हत्या
  • गृह मंत्रालय ने जम्मू-श्रीनगर क्षेत्र में सीआरपीएफ जवानों के लिए हवाई सुविधा मामले में स्पष्टीकरण दिया
दुनिया Share

सिख दंगों में कांग्रेस शामिल नहीं थी .राहुल

सिख दंगों में कांग्रेस शामिल नहीं थी .राहुल

लंदन 25 अगस्त (वार्ता) कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद 1984 में हुए जनसंहार को बेहद दुखद त्रासदी करार देते हुए कहा कि वह इस हिंसा में शामिल लोगों को सजा दिए जाने को पूर्ण समर्थन देंगे।

ब्रिटेन की यात्रा पर आये श्री गांधी शुक्रवार से हाउस आफ कामंस परिसर में “ भारत एवं विश्व” परिचर्चा कार्यक्रम में 1984 के सिख विरोधी दंगों में कांग्रेस पार्टी की ‘ संलिप्तता’ के बारे में सवाल पूछा गया था, जिसका उत्तर देते हुए उन्होंने कहा, यह घटना ‘बेहद पीड़ादायक त्रासदी’ थी और वह इस बात से सहमत नहीं है कि कांग्रेस इसमें ‘शामिल’ थी।”

श्री गांधी ने कहा, “ मेरा मानना है कि किसी के खिलाफ की गयी कोई भी हिंसा को उचित नहीं ठहराया जा सकता। इस मामले में कानूनी प्रक्रियाएं चल रही हैं और जहां तक मेरा मानना है उस समय हुई किसी भी गलती के लिए सजा मिलनी चाहिए. मैं इसमें पूरी तरह से शत प्रतिशत समर्थन दूंगा।”

श्रीमती गांधी की हत्या के बाद हुए इन दंगों में 3000 हजार से अधिक सिख मारे गए थे और दिल्ली में स्थिति बहुत भयावह थी।

एक अन्य कार्यक्रम में दिल्ली में सिख दंगों पर पूछे गए सवाल पर श्री गांधी ने कहा, “ जब पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इस संबंध में कहा तो वह हम सबकी तरफ से बोले, मैं पहले भी कह चुका हूं मैं हिंसा का पीड़ित हूं और इसका दंश मैं जानता हूं।”

श्री गांधी 1991 में उनके पिता पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की लिट्टे द्वारा की गयी हत्या का उल्लेख कर रहे थे। उन्होंने कहा, “ मैं इस धरा पर किसी के विरुद्ध किसी भी तरह की हिंसा के खिलाफ हूं., किसी को आहत होते देखने पर मैं परेशान हो जाता हूं और इसलिए मैं हिंसा की शत प्रतिशत निंदा करता हूं।”

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि जिन लोगों का हिंसा से सामना नहीं हुआ है, उन्हें तो यही महसूस होता है कि हिंसा वही है जो फिल्मों में मारधाड़ में दिखते हैं। उन्होंने कहा, “ ऐसा नहीं है, जिन्हें मैं बहुत चाहता था, मैंने उन लोगों को मरते देखा है। मेरे पिता को जिसने मारा था मैंने उस प्रभाकरण को भी मरते देखा है। श्रीलंका के जाफना में जब प्रभाकरण को मृत देखा तो उसके लिए भी मुझे पीड़ा हुई, चूंकि प्रभाकरण के स्थान पर अपने पिता को देखा और अपनी जगह उसके बच्चों को समझा।”

मिश्रा.श्रवण

वार्ता

image