Thursday, May 28 2020 | Time 20:20 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हिमाचल में आंधी के साथ बारिश और ओले गिरने से मौसम हुआ सुहावना
  • औरैया में दो और मिले कोरोना पाॅजीटिव,संक्रमितों की संख्या हुई 32
  • कोरोना:दक्षिण रेलवे का मुख्यालय दो दिनों के लिए बंद
  • संबित पात्रा में कोरोना के लक्षण, गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती
  • 1600 प्रवासी लोगों को लेकर विशेष रेलगाड़ी पश्चिम बंगाल रवाना
  • लॉकडाउन ने छीना गरीबों के जीने का सहारा : सोनिया
  • वाराणसी से दुबई निर्यात हुआ दशहरी एवं लंगड़ा आम
  • ओडिशा ने कोरोना मरीजों को बचाने में पूरी दुनिया में बेहतर उदाहरण पेश किया: नवीन
  • वाराणसी में दो और कोरोना पॉजिटिव, संक्रमितों की संख्या 162 हुई
  • छत्तीसगढ़ में शनिवार-रविवार को नही होंगा पूर्ण लाकडाउन
  • आधार आधारित ई केवाईसी से तत्काल ई पैन सुविधा शुरू
  • लखनऊ में यातायात नियमों की अनदेखी करने वाले 1470 लोगों का चालान
  • ओलंपिक चैनल आयोग के सदस्य बने बत्रा
  • भूमि बेचकर जा रहे किसान से बदमाशों ने लूटे नौ लाख रूपये
राज्य » राजस्थान


राजस्थान में अब पार्षद चुनेंगे नगर निकाय प्रमुख

राजस्थान में अब पार्षद चुनेंगे नगर निकाय प्रमुख

जयपुर 14 अक्टूबर (वार्ता) राजस्थान में नगर निकाय प्रमुखों का चुनाव अब अप्रत्यक्ष रुप से कराये जायेंगे, जिसमें पार्षद नगर निगम में महापौर, निकाय सभापति एवं चेयरमैन चुनेंगे।

स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने आज यहां मीडिया को यह जानकारी देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में यह निर्णय लिया गया। श्री धारीवाल ने बताया कि बैठक में फैसला किया गया कि निकाय प्रमुख का चुनाव अब अप्रत्यक्ष रूप से होगा।

उन्होंने कहा कि आज देश में असुरक्षा, जनता में भय आक्रोश एवं हिंसा का माहौल देखने को मिल रहा है तथा

भाजपा जनता को जातिवाद में बांटने की कोशिश कर रही है। एक वर्ग को भी अलग करने की कोशिश की गई। हम चाहते है कि जनता में प्रेम एवं भाईचारा बना रहे। प्रत्यक्ष तरीके से चुनाव हुआ तो हिंसक घटनाएं हो सकती है। इसे रोकने के लिए अप्रत्यक्ष चुनाव करने का निर्णय लिया गया हैं।

उन्होंने कहा कि प्रत्यक्ष चुनाव में सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश की जाती है। लेकिन हम राजस्थान में ऐसा नहीं होने देंगे और ऐसे में अप्रत्यक्ष तरीके से नगर निकाय चुनाव कराने का निर्णय लिया गया है।

उल्लेखनीय है कि तत्कालीन गहलोत सरकार ने ही नगर निकाय प्रमुखों के चुनाव प्रत्यक्ष रुप से कराये जाने का फैसला लिया था और अब इसे मौजूदा गहलोत सरकार ने इसे पलट दिया। आगामी नवंबर में प्रदेश में नगर निकाय एवं निगमों के चुनाव होने वाले है।

जोरा

वार्ता

image