Tuesday, Jan 23 2018 | Time 15:48 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मोदी ने बालासाहेब ठाकरे को दी श्रद्धांजलि
  • पद्मावत के विरोध के मद्देनजर सिनेमाहालों की सुरक्षा के व्यापक इंतजाम
  • त्रिपुरा में अर्धसैनिक बलों की 75 कंपनियां पहुंची
  • आजाद हिंद फौज के सेनानियों के परिजन सम्मानित
  • पाकिस्तान में मीडिया, न्यायपालिका स्वतंत्र नहीं: अब्बासी
  • मारुति स्विफ्ट उद्योग का हरियाणा से पलायन प्रदेश सरकार की विफलता का प्रमाण : सुरजेवाला
  • 314 कारतूस के साथ तीन हथियार तस्कर गिरफ्तार
  • मोदी की ‘अनूठी शैली ’ के दावाेस में सब हुए कायल
  • बिहार में नेताजी की जयंती पर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गई
  • टेलीमेडिसीन सेवा से जुड़ेंगे देश के 50 मेडिकल कॉलेज
  • डैटसन के एएमटी माॅडल की डिलीवरी शुरू
  • ओ पी सिंह ने पुलिस महानिदेशक का पदभार किया ग्रहण, कहा कानून व्यवस्था हर हाल में रहेगी बेहतर
  • त्रिपुरा में भाजपा अपने 7 में 6 विधायकों को मैदान में उतारेगी
  • बांधवगढ़ के एक और बाघ का शव बरामद
  • महाराष्ट्र सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी' फडनवीस
लोकरुचि Share

मलूक दास के दोहे मानवीय मूल्यों के लिये आज भी प्रासंगिक

मलूक दास के दोहे मानवीय मूल्यों के लिये आज भी प्रासंगिक

कौशाम्बी 13 अप्रैल (वार्ता) मध्य युगीन हिन्दी साहित्य में सन्त परम्परा की अन्तिम कड़ी के रूप में प्रसिद्ध सन्त शिरोमणि मलूक दास के दोहे मानवीय मूल्यों को स्थापित करने तथा सामाजिक सरसता को बनाये रखने में आज भी बहुत प्रासंगिक है। सन्त मलूक दास का जन्म पुरातन में वत्स देश की राजधानी रही वर्तमान कौशाम्बी जिले के ऐतिहासिक स्थान ‘कड़ा’ में सम्वत् 1631 में वैशाख बदी पंचमी को हुआ था। 108 वर्ष का लम्बा जीवन जीकर इस सन्त ने वैशाख बदी चतुर्दशी सम्वत् 1739 को इस संसार से महा प्रयाण किया। भक्ति भावना से अभिभूत अपनी जिन अभिभूतियों को इस सन्त ने पदनात्मक रूप मे गाया। वे दाेहे इतने लोकप्रिय साबित हुए कि दूर दूर तक कुछ भी न जानने वाले किसान मजदूरों से भी उन्हे आज भी सुना जाता है। अजगर करे न चाकरी पंछी करै न काम। दास मलूका कह गए सब का दाता राम।। मलूकदास का यह दोहा सम्पूर्ण विश्व मे अपनी सारगर्भिता को लेकर साहित्यकारों के बीच कौतुहल का विषय बना हुआ है। उपरोक्त दोहे को लेकर लोग इस संत को न केवल याद करते हैं, बल्कि उनकी स्मृति को अपने जेहन मे सहेज कर रखे हुए हैं। सं नरेन्द्र राज जारी वार्ता

More News
मुर्गे होंगे अदालत के सामने पेश

मुर्गे होंगे अदालत के सामने पेश

17 Jan 2018 | 7:33 PM

बैतूल, 17 जनवरी (वार्ता) मध्यप्रदेश के बैतूल जिले में एक अनोखा मामला सामने आया है। यहां पुलिस अदालत के सामने दो मुर्गों को पेश करने की तैयारी कर रही है।

 Sharesee more..
माघी अमावस्या पर प्रयाग में होता है देवों एवं पितरों के संगम

माघी अमावस्या पर प्रयाग में होता है देवों एवं पितरों के संगम

16 Jan 2018 | 12:49 PM

इलाहाबाद, 16 जनवरी (वार्ता) तीर्थराज प्रयाग में चल रहे माघ मेले के मुख्य स्नान मौनी अमावस्या के दिन आज गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती के संगम तट पर लाखों श्रद्धालुओं ने डुबकी लगायी।

 Sharesee more..
वाराणसी में आज भी मकर संक्रांति, गंगा में पवित्र डुबकी लगा रहे हैं श्रद्धालु

वाराणसी में आज भी मकर संक्रांति, गंगा में पवित्र डुबकी लगा रहे हैं श्रद्धालु

15 Jan 2018 | 4:46 PM

वाराणसी, 15 जनवरी (वार्ता) उत्तर प्रदेश की प्राचीन धार्मिक नगरी वाराणसी में आज दूसरे दिन भी बड़ी संख्या में देशी-विदेशी श्रद्धालु गंगा में पवित्र डुबकी लगा रहे हैं।

 Sharesee more..
श्रीराम ने भी उड़ाई थी पतंग

श्रीराम ने भी उड़ाई थी पतंग

15 Jan 2018 | 11:39 AM

इलाहाबाद,15 जनवरी (वार्ता) देश में पतंग उड़ाने की प्रथा की शुरुआत का कोई एेतिहासिक प्रमाण नहीं मिलता,लेकिन मान्यताओं की शुरुआत भगवान श्री राम ने भी माघ मास में मकर संक्रांति के दिन यहां पतंग उड़ाई थी।

 Sharesee more..
image