Sunday, Feb 17 2019 | Time 17:00 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • तुर्की ने चार विदेशी संदिग्धों को हिरासत में लिया
  • मुरादाबाद- कश्मीरी छात्रों के बारे में छानबीन जारी
  • सरकारी चिकित्सा महाविद्यालयों में शिक्षकों के 153 पद भरने के लिए मंत्रिमंडल की स्वीकृति
  • शाह सोमवार को जयपुर आयेंगे
  • संजय तोमर और श्री सीमा बने ‘मैक्स लाइफ इंश्योरेंस - द रन’ के चैंपियन
  • पुल की रेलिंग तोड़ गहरे नाले में गिरी बस, तीन की मौत पचास घायल
  • पुलवामा हमले के दोषियों को बख्शा नहीं जायेगा: नकवी
  • सुरक्षा हमारे लिए कोई मसला नहीं : मीरवाइज
  • पंजाब कांग्रेस भवन में पुलवामा के शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि
  • विश्वेन्द्र ने शहीद के परिजनों को बंधाया ढांढस
  • नारायणस्वामी का धरना पांचवे दिन भी जारी रहा
  • देवरिया में शहीद विजय के घर कल जायेंगे योगी
  • फोटो कैप्शन-पहला सेट
  • मोदी ने ईमानदारी से चलायी है पांच साल सरकार: नकवी
  • चीन में मकान ढहने से तीन लोगों की मौत, 14 घायल
खेल Share

द्रविड़ को जाता है मेरी सफलता का श्रेय : हनुमा

द्रविड़ को जाता है मेरी सफलता का श्रेय : हनुमा

लंदन, 10 सितंबर (वार्ता) मध्यक्रम के बल्लेबाज़ हनुमा विहारी ने अपने पदार्पण मैच में अर्धशतक से भारत की लड़खड़ाती पारी को संभाला लेकिन उनकी इस सफलता के पीछे तारीफ के असल हकदार पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ हैं।

हनुमा ने भारत की पहली पारी में 56 रन की अर्धशतकीय पारी खेली तथा रवींद्र जडेजा के साथ 77 रन की उपयोगी साझेदारी की। हनुमा ने हालांकि पदार्पण अर्धशतक के बाद बताया कि वह मैदान पर उतरने से पहले बहुत घबराये हुये थे इसलिये उन्होंने मैच से पहले द्रविड़ को फोन किया जिन्होंने उन्हें आत्मविश्वास दिलाया।

इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें और आखिरी टेस्ट के लिये अंतिम एकादश में ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या की जगह शामिल किये गये हनुमा ने कहा,“ मैंने अपना पदार्पण करने से पहले राहुल को फोन किया था। उन्होंने मुझसे कुछ मिनट के लिये बात की थी जिससे मुझे कुछ सहज महसूस हुआ। वह एक महान खिलाड़ी हैं और बल्लेबाजी में खासतौर पर उन्होंने मुझे जो बातें सिखायीं उससे मुझे मदद मिली।” पूर्व कप्तान द्रविड़ फिलहाल भारत ए टीम के कोच हैं।

24 वर्षीय बल्लेबाज़ ने कहा,“ द्रविड़ ने मुझसे कहा कि तुम्हारे अंदर प्रतिभा है, खेल की समझ है इसलिये मैदान पर जाओ और केवल खेल का मजा लो। मैं द्रविड़ को अपनी सफलता का सबसे अधिक श्रेय दूंगा क्योंकि भारत ए के साथ मेरा सफर बहुत अहम रहा है और उन्होंने मुझे यहां तक पहुंचाने में सबसे अधिक मदद की। द्रविड़ ने मुझे बेहतर खिलाड़ी बनाया है।”

 

image