Wednesday, Sep 19 2018 | Time 04:31 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अमेरिका और पोलैंड करेंगे सैन्य और खुफिया संबंधों को सुदृढ़
  • आईसीसी ने शुरू की म्यांमार से रोहिंग्याओं के पलायन की जांच
  • हांगकांग को हराने में भारत के पसीने छूटे
  • गाजा में प्रदर्शनकारियों पर गोलीबारी, दो की मौत 46 घायल
  • प्रधानमंत्री से सिक्किम दौरा स्थगित करने की मांग
दुनिया Share

इजरायल में द्रुज समुदाय का प्रदर्शन

इजरायल में द्रुज समुदाय का प्रदर्शन

तेल अवीव 05 अगस्त (रायटर) इजरायल के शहर तेल अवीव में द्रुज समुदाय के हजारों लोगों ने जमा होकर प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की सरकार और इजरायल को यहूदी राष्ट्र घोषित करने वाले कानून के खिलाफ प्रदर्शन किया।

द्रुज प्रदर्शनकारियों ने शनिवार को तेल अवीव के रोबिन चौराहे पर जमा होकर द्रुज झंडे फहराये और इजरायल को यहूदी राष्ट्र घोषित करने वाले कानून को निरस्त करने की मांग की।

द्रुज के आध्यामिक नेता शेख मुवाफक तरिफ ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा, “कोई हमें वफादारी का उपदेश नहीं दे सकता। सेना का कब्रिस्तान इसका गवाह है। हमारी वफादारी के बावजूद सरकार हमें बराबर नागरिक नहीं मानती। हमने जिस तरह सैन्य अधिकारों की लड़ाई लड़ी ठीक वैसे ही समानता और सम्मान की लड़ाई लड़ने के लिए हम दृढ़ संकल्प हैं।”

इजरायल को यहूदी राष्ट्र घोषित करने वाले कानून के खिलाफ अल्पसंख्यक समुदाय द्रुज के लोगों में रोष है। श्री नेतन्याहू इस कानून को लेकर अपनी सरकार का बचाव कर रहे हैं। उनका कहना है कि देश में केवल यहूदियों को ही आत्म निर्णय का अधिकार है। श्री नेतन्याहू ने अरबी भाषा के आधिकारिक भाषा के दर्जे का समाप्त कर दिया है। इसे लेकर उनको देश के भीतर और बाहर कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है।

द्रुज समुदाय इस कानून के पारित होने के बाद अपने आप को छला हुआ महसूस कर रहा है। इस कानून के आने से द्रुक इजरायल में दोयम दर्जे के नागरिक बनकर रह गये हैं। इजरायल में द्रुज की संख्या 1,20,000 है जो आबादी का महज दो प्रतिशत है। द्रुज अरब समुदाय के संबंध रखने वाला एक अल्पसंख्यक समूह है। इनकी सबसे ज्यादा संख्या लेबनान और सीरिया में है।

दिनेश

रायटर

image