Wednesday, Oct 16 2019 | Time 22:17 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सायना और श्रीकांत पहले दौर में बाहर, समीर प्रीक्वार्टर में
  • कांग्रेस के कर्नाटक से रास सदस्य राममूर्ति का इस्तीफा
  • बेंगलुरु को चित कर दिल्ली पहली बार फाइनल में
  • संसद का शीतकालीन सत्र 18 नवम्बर से शुरू होने की संभावना
  • उप्र में त्यौहारों के मद्देनजर 30 नवम्बर तक अधिकारियों का अवकाश नहीं हो स्वीकृत
  • जालौन:ट्रक ने मारी बाइक को टक्कर , दो की मौत एक घायल
  • बिहार में नहरों, तटबंधों और जलाशयों की ड्रोन से होगी निगरानी
  • झारखंड विधानसभा चुनाव में 21 सीटों पर प्रत्याशी खड़े करेगा फॉरवर्ड ब्लॉक
  • बिहार में युवती की सिर कटी लाश समेत छह शव बरामद
  • फोटो कैप्शन: दूसरा सेट
  • भारत को महान देश बनाने में महाराष्ट्र का बहुत बड़ा योगदान: मोदी
  • सेल्फी लेने के चक्कर में पार्वती नदी में गिरीं दो लड़कियां, एक लापता
  • शाओमी ने नोट 8 सीरीज के फोन लांच किये
  • जस्टिस मिश्रा को सुनवाई से अलग करने की अर्जी पर बुधवार को फैसला
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


देवेन्द्र फडनवीस ने भगवान विट्ठल और रुक्मणी की पूजा की

देवेन्द्र फडनवीस ने भगवान विट्ठल और रुक्मणी की पूजा की

पंढरपुर,(महाराष्ट्र) 12 जुलाई (वार्ता) महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस ने शुक्रवार को परंपरानुसार आषाढ़ी एकादशी के दिन राज्य की जनता की ओर से सोलापुर जिला के पंढरपुर में भगवान विट्ठल और रुक्मणी की पूजा की।

महाराष्ट्र में विधानसभा का चुनाव समीप है और उनकी पंढरपुर में भगवान विट्ठल और रूक्मणी के मंदिर में उपस्थिति का अलग संकेत है।

श्री फडनवीस ने पिछले कुछ समय से मराठा आरक्षण और किसानों की समस्या को बड़े अच्छे ढंग से हल किया और हाल ही में लोकसभा चुनाव में उन्हें अच्छी विजय भी मिली।

महाराष्ट्र में कई लोग 21 दिन की पैदल यात्रा कर पंढरपुर पहुंचते हैं। श्री फडनवीस ने बारिश के महीने काे ध्यान में रखते हुए इन श्रद्धालुओं को लगभग पांच लाख रेनकोट वितरित किये। पूजा में शामिल हजारों लोगों को मुख्यमंत्री द्वारा बांटे गये पीले रंग के रेनकोट को पहने हुए देखा गया। आषाढ़ी एकादशी के दिन लगभग 10 लाख श्रद्धालु पंढरपुर पहुंचे थे।

त्रिपाठी.श्रवण

वार्ता

image