Wednesday, Jul 26 2017 | Time 16:11 Hrs(IST)
image
  • एलबीआई स्थापना में राजस्थान अग्रणी
  • पंजाब में बैंक लूटने वाला आरोपी गिरफ्तार
  • पंजाब में बैंक लूटने वाला आरोपी गिरफ्तार
  • निर्वाचन विभाग का इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन ट्रैकिंग एप शुरू
  • ट्राला की चपेट मे मोटर साइकिल सवार की मौत
  • देशी की सुरक्षा के लिए सेना पूरी तरह सक्षम-मेजर जनरल रावत
  • जहर खाने से दम्पति की मौत , एक अन्य बीमार
  • बयान वापस लें गहलाेत वर्ना अहमद पटेल को वोट नहीं दूंगा - वाघेला
  • विपक्ष के हंगामे के कारण लोकसभा की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित
  • नमस्ते कनाडा में काम करने को रोमांचित हैं परिणीति
  • नमस्ते कनाडा में काम करने को रोमांचित हैं परिणीति
  • भाई-भतीजावाद पर राय नही रखना चाहती हैं विद्या
  • भाई-भतीजावाद पर राय नही रखना चाहती हैं विद्या
  • ....
  • एएफसी ने कतर को क्वालिफायर की दी अनुमति
लोकरुचि Share

देवशिल्पी विश्वकर्मा निर्मित है देव का सूर्य मंदिर

देवशिल्पी विश्वकर्मा निर्मित है देव का सूर्य मंदिर

औरंगाबाद 01 अप्रैल (वार्ता) बिहार के औरंगाबाद जिले में स्थित ऐतिहासिक और पौराणिक स्थल देव के त्रेतायुगीन पश्चिमाभिमुख सूर्य मंदिर अपनी कलात्मक भव्यता के लिए सर्वविदित और प्रख्यात होने के साथ ही सदियों से देशी- विदेशी पर्यटकों, श्रद्धालुओं और छठव्रतियों की अटूट आस्था का केंद्र बना हुआ है। मंदिर की अभूतपूर्व स्थापत्य कला, शिल्प, कलात्मक भव्यता और धार्मिक महत्ता के कारण ही जनमानस में यह किंवदति प्रसिद्ध है कि इसका निर्माण देवशिल्पी भगवान विश्वकर्मा ने स्वयं अपने हाथों से किया है। देव स्थित भगवान भास्कर का विशाल मंदिर अपने अप्रतिम सौंदर्य और शिल्प के कारण सदियों श्रद्धालुओं, वैज्ञानिकों, मूर्तिचोरों , तस्करों एवं आमजनों के लिए आकर्षण का केंद्र है। काले और भूरे पत्थरों की अति सुंदर कृति, जिस तरह ओडिशा प्रदेश के पुरी स्थित जगन्नाथ मंदिर का शिल्प है, ठीक उसी से मिलता-जुलता शिल्प देव के प्राचीन सूर्य मंदिर का भी है। मंदिर के निर्माणकाल के संबंध में उसके बाहर ब्रह्म लिपि में लिखित और संस्कृत में अनुवादित एक श्लोक जड़ा है, जिसके अनुसार 12 लाख 16 हजार वर्ष त्रेता युग के बीत जाने के बाद इलापुत्र पुरूरवा ऐल ने देव सूर्य मंदिर का निर्माण आरंभ करवाया। शिलालेख से पता चलता है कि सन् 2017 ई. में इस पौराणिक मंदिर के निर्माण काल का एक लाख पचास हजार सतरह वर्ष पूरा हो गया है। देव मंदिर में सात रथों से सूर्य की उत्कीर्ण प्रस्तर मूर्तियां अपने तीनों रूपों- उदयाचल-प्रात: सूर्य, मध्याचल- मध्य सूर्य और अस्ताचल -अस्त सूर्य के रूप में विद्यमान है। पूरे देश में देव का मंदिर ही एकमात्र ऐसा सूर्य मंदिर है जो पूर्वाभिमुख न होकर पश्चिमाभिमुख है। करीब एक सौ फुट ऊंचा यह सूर्य मंदिर स्थापत्य और वास्तुकला का अद्भुत उदाहरण है। बिना सीमेंट अथवा चूना-गारा का प्रयोग किये आयताकार, वर्गाकार, अर्द्धवृत्ताकार, गोलाकार, त्रिभुजाकार आदि कई रूपों और आकारों में काटे गये पत्थरों को जोड़कर बनाया गया यह मंदिर अत्यंत आकर्षक एवं विस्मयकारी है।


जनश्रुतियों के आधार पर इस मंदिर के निर्माण के संबंध में कई किंवदतियां प्रसिद्ध हैं जिससे मंदिर के अति प्राचीन होने का स्पष्ट पता तो चलता है लेकिन इसके निर्माण के संबंध में अभी भी भ्रामक स्थिति बनी हुई है। निर्माण के मुद्दे को लेकर इतिहासकारों और पुरातत्व विशेषज्ञों के बीच चली बहस से भी इस संबंध में ठोस परिणाम प्राप्त नहीं हो सका है। जनश्रुति के अनुसार, ऐल एक राजा थे, जो किसी ऋषि के शापवश श्वेत कुष्ठ से पीड़ित थे। वे एक बार शिकार करने देव के वन प्रांत में पहुंचने के बाद राह भटक गये। राह भटकते भूखे-प्यासे राजा को एक छोटा सा सरोवर दिखायी पड़ा जिसके किनारे वे पानी पीने गये और अंजुरी में भरकर पानी पिया। पानी पीने के क्रम में वे यह देखकर घोर आश्चर्य में पड़ गये कि उनके शरीर के जिन जगहों पर पानी का स्पर्श हुआ, उन जगहों के श्वेत कुष्ठ के दाग जाते रहे। इससे अति प्रसन्न और आश्चर्यचकित राजा अपने वस्त्रों की परवाह नहीं करते हुए सरोवर के गंदे पानी में लेट गये और इससे उनका श्वेत कुष्ठ पूरी तरह समाप्त हो गया। राजा ने अपने शरीर में आश्चर्यजनक परिवर्तन देख प्रसन्नचित हो इसी वन प्रांतर में रात्रि विश्राम करने का निर्णय लिया और रात्रि में राजा को सपना आया कि उसी सरोवर में भगवान भास्कर की प्रतिमा दबी पड़ी है। प्रतिमा को निकालकर वहीं मंदिर बनवाने और उसमें प्रतिष्ठित करने का निर्देश उन्हें सपने में प्राप्त हुआ। कहा जाता है कि राजा ऐल ने इसी निर्देश के मुताबिक सरोवर से दबी मूर्ति को निकालकर मंदिर में स्थापित कराने का काम किया और सूर्य कुण्ड का निर्माण कराया लेकिन मंदिर यथावत रहने के बावजूद उस मूर्ति का आज तक पता नहीं है। जो अभी वर्तमान मूर्ति है वह प्राचीन अवश्य है, लेकिन ऐसा लगता है मानो बाद में स्थापित किया गया हो। मंदिर परिसर में जो मूर्तियां हैं, वे खंडित तथा जीर्ण-शीर्ण अवस्था में हैं।

'विस्तृत समाचार के लिए हमारी सेवाएं लें।'
मुख्य समाचार
मोदी ने सैन्य बलों की प्रशंसा की

मोदी ने सैन्य बलों की प्रशंसा की

नयी दिल्ली 26 जुलाई (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने “कारगिल विजय दिवस” के मौके पर सैन्य बलों की देश के लिये त्याग और कौशल की प्रशंसा की है।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 2:25 PM
जेटली के बयान पर विपक्ष का राज्यसभा में हंगामा

जेटली के बयान पर विपक्ष का राज्यसभा में हंगामा

नयी दिल्ली 26 जुलाई (वार्ता) समूचे विपक्ष ने आज राज्यसभा में सदन के नेता अरूण जेटली के विपक्षी नेताओं के बारे में दिये गये एक बयान पर कडी आपत्ति जतायी तथा इसे कार्यवाही से निकाले जाने की मांग की जिससे प्रश्नकाल की कार्यवाही 20 मिनट से भी अधिक समय तक बाधित रही।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 2:24 PM
इराक में लापता 39 भारतीयों की तलाश बंद नहीं होगी -सुषमा

इराक में लापता 39 भारतीयों की तलाश बंद नहीं होगी -सुषमा

नयी दिल्ली 26 जुलाई (वार्ता) विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने संसद को अाज भरोसा दिलाया कि इराक में तीन साल पहले लापता 39 भारतीयों की मृत्यु होने के बारे में जब तक कोई सबूत नहीं मिलता तब तक उनकी फाइल बंद नहीं की जायेगी और ना ही उनकी खोजबीन बंद होगी।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 2:38 PM
कोविंद ने प्रोफेसर यशपाल के निधन पर जताया शोक

कोविंद ने प्रोफेसर यशपाल के निधन पर जताया शोक

नयी दिल्ली 26 जुलाई (वार्ता) राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने प्रख्यात वैज्ञानिक यशपाल के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 12:49 PM
दिल्ली में सड़क हादसे में छह मरे

दिल्ली में सड़क हादसे में छह मरे

नयी दिल्ली.26 जुलाई (वार्ता) पूर्वी दिल्ली से राष्ट्रीय राजमार्ग 24 पर कल्याण पुरी के निकट आज सुबह हुए एक भीषण हादसे में छह लोगों की मौत हो गई और तीन घायल हुए है।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 10:46 AM
जेटली ने कारगिल के शहीदों को दी श्रद्धांजलि

जेटली ने कारगिल के शहीदों को दी श्रद्धांजलि

नयी दिल्ली 26 जुलाई (वार्ता) रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने आज यहां अमर जवान ज्योति पर कारगिल के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 12:49 PM
नायडू पर लगे आरोपों का जवाब दे मोदी : कांग्रेस

नायडू पर लगे आरोपों का जवाब दे मोदी : कांग्रेस

नयी दिल्ली, 26 जुलाई (वार्ता) कांग्रेस ने आज कहा कि तेलंगाना सरकार ने स्वीकार किया है कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन(राजग) के उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार एम वेंकैया नायडू के पुत्र तथा पुत्री को फायदा पहुंचाने के लिए नियमों का उल्लंघन किया गया है इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इसका जवाब देना चाहिए।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 3:05 PM
वाघेला की जगह गुजरात में नये नेता प्रतिपक्ष बने राठवा ने संभाला पदभार

वाघेला की जगह गुजरात में नये नेता प्रतिपक्ष बने राठवा ने संभाला पदभार

गांधीनगर, 26 जुलाई (वार्ता) गुजरात विधानसभा में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के नेता के तौर पर शंकरसिंह वाघेला के इस्तीफे के बाद कांग्रेस के नये नेता प्रतिपक्ष चुने गये मोहनसिंह राठवा ने आज अपना पदभार संभाल लिया।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 1:59 PM
ठाकुर मामले में हंगामा,लोकसभा की कार्यवाही स्थगित

ठाकुर मामले में हंगामा,लोकसभा की कार्यवाही स्थगित

नयी दिल्ली, 26 जुलाई (वार्ता) लोकसभा में भारतीय जनता पार्टी के सांसद अनुराग ठाकुर के कथितरूप से वीडियो बनाने के मामले में विपक्षी सदस्यों ने उनके निलम्बन की मांग करते हुए आज जबरदस्त हंगामा किया जिसके कारण अध्यक्ष सुमित्रा महाजन को सदन की कार्यवाही 12 बजकर 45 तक के लिए स्थगित करनी पड़ी।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 2:45 PM
जम्मू से अमरनाथ यात्रियों का नया जत्था रवाना

जम्मू से अमरनाथ यात्रियों का नया जत्था रवाना

जम्मू 26 जुलाई (वार्ता) दक्षिण कश्मीर में पवित्र गुफा के लिए दर्शन आज यहां यात्री निवास आधार शिविर से 473 श्रद्धालुओं का नया जत्था रवाना हुआ।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 12:49 PM
सांसद स्‍टार्टअप के लिए सहकार्य स्‍थल स्‍थापित करें: सीतारमण

सांसद स्‍टार्टअप के लिए सहकार्य स्‍थल स्‍थापित करें: सीतारमण

28 Jun 2017 | 7:50 PM

नयी दिल्ली 28 जून (वार्ता) केन्द्रीय वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज सभी सांसदों से अपनी स्‍थानीय क्षेत्रीय विकास निधि (एमपीएलएडीएस) से अपने क्षेत्र में स्‍टार्टअप के लिए सह-कार्यस्‍थल/ इन्‍क्‍यूबेटर स्&zwj

भारतीय एवं विश्व इतिहास में 26 जुलाई की प्रमुख घटनाएं

भारतीय एवं विश्व इतिहास में 26 जुलाई की प्रमुख घटनाएं

26 Jul 2017 | 10:46 AM

नयी दिल्ली 26 जुलाई (वार्ता) भारतीय एवं विश्व इतिहास में 26 जुलाई की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं: 1614- जहाँगीर ने मेवाड़ के राणा का स्वागत किया। 1826- लिथुआनिया की हिंसा में कई यहूदी मरे। 1844 - भारत के एक प्रमुख जाने-माने शिक्षाशास्त्री

अजमेर में साइंस पार्क स्थापना की सैद्धान्तिक मंजूरी

अजमेर में साइंस पार्क स्थापना की सैद्धान्तिक मंजूरी

27 Jun 2017 | 7:44 PM

जयपुर, 27 जून (वार्ता) केंद्र सरकार ने राजस्थान के अजमेर में साइंस पार्क की स्थापना के लिये सैद्धान्तिक मंजूरी दी है। केंद्रीय पर्यटन राज्य मंत्री डॉ. महेश शर्मा ने राज्य के शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी के आज नई दिल्ली में उनसे मिलकर

image