Saturday, Apr 21 2018 | Time 11:31 Hrs(IST)
image
image image
BREAKING NEWS:
  • रवि थापर बने निकारागुआ के नये राजदूत
  • लेह, मुगल रोड फिर से बंद, कश्मीर राजमार्ग वाहनों के लिए शुरू
  • कश्मीर में रेल सेवा फिर से बहाल
  • उ कोरिया ने की मिसाइल, परमाणु परीक्षण नहीं करने की घोषणा
  • यूरोपीय संघ को अमेरिकी टैरिफ से ‘पूर्ण’ छूट की आवश्यकता: मेयर
  • तीन देशों की सफल यात्रा के बाद स्वदेश पहुंचे मोदी
  • आईपीएल में सट्टा लगाने वाले तीन सटोरिये गौतमबुद्धनगर से गिरफ्तार
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 22 अप्रैल)
  • इंडियाना में अप्रैल ‘सिख विरासत माह’ घोषित
  • उ कोरिया अब नहीं करेगा परमाणु परीक्षण
  • हवाई हमले में 20 लोगों की मौत
  • केजरीवाल ने की मालिवाल से हड़ताल समाप्त करने की अपील
  • चांसलर मर्केल के साथ अद्‌भुत रही बैठक: मोदी
  • मोदी और मर्केल ने द्विपक्षीय संबंध बढ़ाने पर दिया जोर
फीचर्स Share

पीठ दर्द को मत करें नजरअंदाज, पड सकता है भारी

पीठ दर्द को मत करें नजरअंदाज, पड सकता है भारी

कानपुर 11 अप्रैल (वार्ता) अनियमित खानपान और भागदौड भरी जिंदगी के बीच तेजी से उभर रही समस्या पीठ दर्द को आमतौर पर लोगबाग अधिक गंभीरता से नही लेते मगर चिकित्सकों का मानना है कि शुरूआती दौर में दर्द को नजरअंदाज करना उम्र बढने के साथ बडी परेशानी का सबब बन सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) के एक सर्वेक्षण के अनुसार देश में 30 साल की उम्र से ऊपर का हर पांचवा व्यक्ति किसी न/न किसी वजह से पीठ दर्द की समस्या से पीडित है। चिकित्सक इसके लिये सडक दुर्घटनाओं की बढती आवृत्ति के अलावा लांग ड्राइविंग और कम्प्यूटर पर एक अवस्था में घंटो बैठकर काम करने की प्रवृत्ति समेत अन्य कारकों को जिम्मेदार मानते हैं। कानपुर स्थित लाला लाजपत राय अस्पताल के अस्थि रोग विभाग के वरिष्ठ चिकित्सक रोहित नाथ ने ‘यूनीवार्ता’ को बताया कि हाल के सालों में पीठ दर्द से ग्रसित मरीजों विशेषकर युवा वर्ग की तादाद में उल्लेखनीय इजाफा हुआ है। बैकपेन से पीडित उनके पास हर रोज आने वाले कई मरीज ऐसे होते हैं जिन्हे सालों पहले कोई चोट लगी थी अथवा उनकी नियमित दिनचर्या में मोटरसाइकिल पर लंबी दौड, कम्प्यूटर पर देर तक काम करने का बोझ के अलावा फास्टफूड का अत्यधिक सेवन आदि शामिल था। उन्होने बताया कि शहरों में ट्रैफिक के बढते बोझ के कारण आयेदिन होने वाली दुर्घटनाओं में खासी बढोत्तरी हुयी है जबकि स्पीड ब्रेकरों की बढती तादाद, लैपटाप अथवा मोबाइल को घंटो एक अवस्था में बैठकर निहारने की प्रवृत्ति, जंक फूड के व्यापक इस्तेमाल से बढता मोटापा हड्डियों पर अतिरिक्त बोझ डाल रहे हैं। इसके अलावा स्कूली बच्चों के कंधो पर भारी भरकम बैग और युवाओं के लैपटाप बैग हड्डी की समस्या को बढावा दे रहे हैं।


डा़ नाथ ने बताया कि हड्डी रोग के शुरूआती लक्षण पता चलते ही इसे व्यायाम अथवा दवाइयों की मदद से दूर किया जा सकता है मगर चिकित्सीय परामर्श में लेटलतीफी अथवा विशेष लक्षणों पर शल्य चिकित्सा अाखिरी विकल्प साबित होती है। मेरूदंड यानी रीढ़ की हड्डी कशेरूका और उनके बीच डिस्क से बनी हैं जिनके बीच में कोशिकायें होती है मेरूदंड दिमाग़ से लेकर पीठ के निचले हिस्से तक जाती हैं। पीठ में होने वाला दर्द आम तौर पर मांसपेशियों, तंत्रिका, हड्डियों, जोड़ों या रीढ़ की अन्य संरचनाओं में महसूस किया जाता है। इस दर्द को अक्सर गर्दन दर्द, पीठ के ऊपरी हिस्से के दर्द, पीठ के निचले हिस्से के दर्द या टेलबोन के दर्द (रीढ़ के आखिरी छोर की हड्डी में) में विभाजित कर सकते हैं। यह लगातार या कुछ अन्तराल पर भी हो सकता है। चिकित्सक ने बताया कि बैकपेन की सर्जरी युवा, अधेड अथवा बुजुर्गो के लिये अलग- अलग हो सकती है। इनके लिये एक सी चिकित्सीय पद्धति कारगर नही होगी। मसलन युवाओं में आमतौर पर पीठ दर्द के पीछे डिस्क प्रोलेप्स कारक होता है जबकि 40 से 60 वर्ष के उम्र के लोगों में स्पांडलाइटिस, कैनाल स्टेनोसिस की समस्या पायी जाती है जबकि बुजुर्गो में हड्डी में चूने की कमी से आमतौर पर आस्टियोपोरोसिस और पीठ के पीछे ज्वाइंट में गठिया यानी आस्टियाे आर्थाइटिस की बीमारी होती है।


डा़ नाथ ने बताया कि डिस्क प्रोलेप्स अथवा स्लिपड डिस्क की समस्या से ग्रसित मरीज को हफ्तों तक कमर के नीचे दर्द बना रहता है। हर दो वर्टेब्रे के बीच में एक डिस्क होती है। डिस्क के अंदरूनी हिस्से को न्यूक्लियस और बाहरी को एन्यूलस कहते हैं। न्यूक्लियस के विकार के कारण नर्व रूट पर पडने वाले दबाव के कारण मरीज काे असहनीय पीडा का अनुभव होता है। विशेष प्रकार के व्यायाम और दवाओं से आराम नही मिलने पर सर्जरी के जरिये डिस्क एक्सिजन किया जाता है जिससे मरीज कुछ ही समय में पहले की तरह स्वस्थ हो जाता है। उन्होने बताया कि साइटिका के मामले में कमर के निचले भाग में मरीज को असहनीय दर्द होता है। स्पांडलाइटिस में डिस्क का अंदरूनी हिस्सा यानी न्यूक्लियस सूख जाता है जबकि कैनाल स्टेनोसिस में नर्व सिकुड जाती है। तीनों ही मामलों में मरीज की शल्य चिकित्सा की स्थिति में कैनाल वाइडनिंग के जरिये मरीज का इलाज किया जाता है। चिकित्सक ने बताया कि उम्र बढने के साथ शल्य चिकित्सा जटिल होती जाती है। बुजुर्गो मे आस्टियो आर्थराइटिस के ज्यादा प्रभावित डिस्क को फ्यूजन के जरिये निकाल दिया जाता है जिससे बाधित नर्व रूट सामान्य हो जाता है और मरीज को आराम मिलता है।


डा़ नाथ ने बताया कि आमतौर पर चिकित्सक शल्य चिकित्सा से परहेज करता है। इसके लिये ए बी सी डी ई फार्मूले को अपनाया जाता है। ए मतलब सिकाई, सिकाई से आराम न/न मिले तो बी मतलब जेल का इस्तेमाल इसके बाद सी यानी व्यायाम और फिर डी मतलब ड्रग्स के जरिये इलाज किया जाता है जबकि आखिर में ई मतलब एपीड्यूरल स्टेरायड इंजेक्शन को मेरूदंड के निचले हिस्से में लगाया जाता है। इस इंजेक्शन से आपस में चिपकी नसें अलग हो जाती है जबकि नसों की सूजन में भी आराम मिलने से दर्द स्वत: गायब हो जाता है। अगर इन उपायों से भी मरीज को आराम न/न मिले तो उस स्थिति में शल्य चिकित्सा अंतिम विकल्प के तौर पर काम में आता है। चिकित्सक ने बताया कि शल्य चिकित्सा माइक्रोडिसेटोमी विधि से की जाती है जिसमें पीठ में एक इंंच का चीरा लगाकर माइक्रोस्कोप के जरिये खराब डिस्क को निकाल दिया जाता है अथवा दबी कोशिकाओं को अलग कर दिया जाता है। आपरेशन में करीब एक घंटे का समय लगता है और एक हफ्ते के आराम के बाद व्यक्ति स्वस्थ हाेकर सामान्य कामकाज निपटा सकता है। यह आपरेशन कम से कम 98 प्रतिशत मामलों में यह कारगर रहता है। प्रदीप नरेन्द्र चौरसिया वार्ता

More News
नये प्रयोगों ने बढ़ाया बच्चों में स्कूल के प्रति लगाव

नये प्रयोगों ने बढ़ाया बच्चों में स्कूल के प्रति लगाव

13 Apr 2018 | 11:17 AM

नैनीताल 13 अप्रैल (वार्ता) उत्तराखंड के सरकारी स्कूलों के बच्चों में रचनात्मकता और कल्पनाशीलता काे बढ़ाने के लिये शुरु किये अभिनव प्रयोगों से न केवल उनमें नयी उमंग का संचार हुआ है बल्कि नयी नयी चीजें सीखने की जिज्ञासा बढ़ी है।

 Sharesee more..
गांधी से बहुत कम याद की जाती हैं कस्तूरबा

गांधी से बहुत कम याद की जाती हैं कस्तूरबा

11 Apr 2018 | 10:47 AM

(प्रसून लतांत) नयी दिल्ली, 11 अप्रैल (वार्ता) दक्षिण अफ्रीका और देश में आजादी के आंदोलन के दौरान साए की तरह राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के साथ रहीं और जनसेवा तथा रचनात्मक कार्यों में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेने वाली कस्तूरबा गांधी को बहुत कम ही याद किया जाता है।

 Sharesee more..
एक मुट्ठी नमक बना गांधी ने ललकारा था अंग्रेज हुकुमत को

एक मुट्ठी नमक बना गांधी ने ललकारा था अंग्रेज हुकुमत को

06 Apr 2018 | 12:55 PM

नयी दिल्ली, 06 अप्रैल (वार्ता) राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का नमक सत्याग्रह केवल नमक कर के खात्मे तक सीमित नहीं था बल्कि इसके जरिये उन्होंने ब्रिटिश हुकूमत को सीधी चुनौती दी और उसे यह अहसास कराया कि उसका शासन ज्यादा दिन टिकने वाला नहीं है।

 Sharesee more..
विवाह में देरी बांझपन का मुख्य कारक

विवाह में देरी बांझपन का मुख्य कारक

01 Apr 2018 | 1:13 PM

लखनऊ 01 अप्रैल (वार्ता) आमतौर पर बांझपन की समस्या के लिये महिलाओं को जिम्मेदार ठहराया जाता है लेकिन चिकित्सकों का मानना है कि अनियमित दिनचर्या,खानपान,तनाव,नशे की लत और विवाह में देरी समेत कई कारकों से देश में पुरूषों में बांझपन की समस्या विकराल रूप धारण कर रही है।

 Sharesee more..
गांधी ने चरखे को बनाया आर्थिक स्वावलम्बन का प्रतीक

गांधी ने चरखे को बनाया आर्थिक स्वावलम्बन का प्रतीक

27 Mar 2018 | 2:21 PM

(प्रसून लतांत से) नयी दिल्ली, 27 मार्च (वार्ता) एक सौ साल पहले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की इच्छा पर खोज निकाला गया चरखा आजादी की लड़ाई में आर्थिक स्वावलम्बन का प्रतीक बना लेकिन आज वह देश में सिर्फ प्रदर्शन की वस्तु बन कर रह गया है जबकि विदेशियों के लिये वह चिंतन और ध्यान का आधार बन रहा है।

 Sharesee more..
image