Monday, Nov 18 2019 | Time 12:24 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दिल्ली में पेयजल को लेकर मंत्रियों के बयान विरोधाभासी : आप
  • जेएनयू विवाद समाधान के लिए वी एस चौहान की अगुवाई में उच्च स्तरीय समिति गठित
  • बस - ट्रक भिड़ंत में 11 लोगों की मौत, 28 घायल
  • उद्वव का अयोध्या दौरा स्थगित
  • वडोदरा में पांच जुआरी गिरफ्तार
  • आईएनएस मीडिया जमानत मामला : सुप्रीम कोर्ट चिदंबरम की याचिका पर मंगलवार को करेगा सुनवाई।
  • अंसाजे के प्रत्यर्पण को लेकर लंदन कोर्ट में सुनवाई
  • कांग्रेस विधायक तनवीर पर जानलेवा हमला
  • जौनपुर में मुठभेड़ में 25 हजार का इनामी बदमाश घायल
  • बलरामपुर में कार पलटने से तीन की मौत
  • प्रख्यात नृत्यांगना सोनल मानसिंह सम्मानित
  • ट्रक के पलटने से छह बच्चों की मौत
  • सभी मुद्दों पर खुलकर चर्चा के लिए तैयार : मोदी
  • महाराष्ट्र में मोटरसाइकल- टेम्पू की टक्कर में तीन की मौत
  • आरसेप से हटना भारत की ऐतिहासिक चूक:चीनी थिंक टैंक
राज्य » राजस्थान


निजी स्वार्थों के चलते गंगा के सबसे मैली नदी होने का भ्रम फैलाया-शेखावत

निजी स्वार्थों के चलते गंगा के सबसे मैली नदी होने का भ्रम फैलाया-शेखावत

झुंझुनू, 13 अक्टूबर (वार्ता) केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्रसिंह शेखावत ने कहा है कि कुछ लोगों ने अपने व्यक्तिगत स्वार्थ के चलते देश में भ्रम फैलाया कि गंगा सबसे मैली नदी है, जबकि ऐसा नहीं है।

श्री शेखावत ने आज राजस्थान में झुंझुनू में सम्मान समारोह में शिरकत करने के बाद पत्रकारों से कहा कि गंगा के समान लंबाई की विश्व की सबसे साफ 10 नदियों में गंगा शामिल है और इसमें भी वह पहले स्थान पर है। ढाई हजार किलोमीटर लंबी गंगा नदी में एक-दो जगहों पर ही गंगा की शुद्धता मानक स्तर के नीचे है। उन्होंने कहा कि गंगोत्री से लेकर ऋषिकेश तक उन्होंने खुद नदी के पानी में राफ्टिंग की है। इस दूरी में गंगा नदी पूरी तरह से आचमन योग्य है।

उन्होंने कहा कि नमामि गंगे अभियान के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि गंगा की अविरलता और निर्मलता को सुनिश्चित करने के लिए जल शक्ति मंत्रालय काम कर रहा है। श्री शेखावत ने दावा कि कि आने वाले दो साल में नमामि गंगे अभियान का असर दिखने लगेगा, साथ ही उन्होंने गंगा के साफ होने के सवाल पर कहा कि गंगा की अविरलता और निर्मलता की कोई भी तारीख तय नहीं हो सकती। यह सतत चलने वाली प्रक्रिया है, लेकिन इसमें हर व्यक्ति अपनी जिम्मेदारी समझेगा, तो ही इस दिशा में कोई काम हो सकता है। इसे जन आंदोलन बनाना पड़ेगा।

सवालों के जवाब में श्री शेखावत ने कहा कि 1984 से गंगा को लेकर प्रयास प्रारंभ हुए थे, लेकिन इसे गम्भीरता से नहीं लेने के चलते यह काम सिरे नहीं चढ़ पाया। वहीं राज्यों का मामला होने के कारण भी दिक्कतें आईं, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले पांच सालों में इस काम को मिशन मोड पर लिया है और उसका परिणाम आने वाले दो साल में दिखने लगेगा। उन्होंने बताया कि यमुना का पानी पहले नहर के जरिए शेखावाटी में आना था, लेकिन राज्य सरकार ने जो प्रस्ताव भिजवाया, उसमें एक पाइपलाइन के जरिए लाने का प्रस्ताव दिया है। जिसकी लागत बेहद ज्यादा आ रही है। इसलिए केंद्र ने वो प्रस्ताव राज्य सरकार को वापिस भिजवाया है, ताकि वे नए सिरे से दूसरे जरिए से पानी लाने का प्रस्ताव भिजवाएं। उन्होंने यह भी साफ किया कि हरियाणा और राजस्थान में पानी को शेखावाटी में लाने के लिए करार पर हस्ताक्षर हो चुके हैं।

सर्राफ सुनील

वार्ता

More News
बस - ट्रक भिड़ंत में 10 लोगों की मौत, 25 घायल

बस - ट्रक भिड़ंत में 10 लोगों की मौत, 25 घायल

18 Nov 2019 | 11:04 AM

बीकानेर, 18 नवंबर (वार्ता) राजस्थान में बीकानेर जिले के सेरुणा थाना क्षेत्र में आज एक बस और ट्रक की टक्कर से 10 से अधिक लोगों की मौत हो गई जबकि करीब 25 लोग घायल हो गये।

see more..
दक्षिण पश्चिम कमान के प्रमुख ने राज्यपाल से मुलाकात की

दक्षिण पश्चिम कमान के प्रमुख ने राज्यपाल से मुलाकात की

17 Nov 2019 | 9:57 PM

जयपुर, 17 नवम्बर (वार्ता)राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र से रविवार को राजभवन में भारतीय सेना की दक्षिण पश्चिम कमान के कमाण्डिग-इन-चीफ लेफ्लिनेन्ट जनरल आलोक कलेर ने मुलाकात की।

see more..
image