Wednesday, Jan 22 2020 | Time 22:42 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हवाई अड्डे पर बम रखने का आरोपी मेंगलुरु पुलिस के हवाले
  • ट्रंप के शीघ्र पाकिस्तान दौरे की संभावना : कुरैशी
  • दहेज में बाइक नहीं देने पर विवाहिता की हत्या
  • हेमंत ने सात ग्रामीणों की हत्या की जांच के लिए दिया एसआईटी गठित करने का आदेश
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • महिला सशक्तीकरण पर आधारित फिल्म है ‘छोटकी ठकुराइन’
  • महाराष्ट्र ने 256 पदकों के साथ बरकरार रखा अपना खिताब
  • महाराष्ट्र ने 256 पदकों के साथ बरकरार रखा अपना खिताब
  • मनोरंजन संग संदेश देगी ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ : आयुष्मान
  • राजपथ पर दिखेगी यूपी के सर्वधर्म समभाव की झलक
  • पटना में बनेगा 25 हजार अभ्यर्थियों के बैठने की क्षमता वाला परीक्षा केंद्र
  • धर्मेंद्र प्रधान ने सेल की ‘सर्विस स्कीम’ की लांच
  • पुलवामा में एक आतंकवादी ढेर, दो जवान शहीद
लोकरुचि


धूल फांक रही है सरदार जाफरी की कोठी

धूल फांक रही है सरदार जाफरी की कोठी

बलरामपुर 31 जुलाई (वार्ता) रईस घराने मे जन्म लेने के बावजूद गरीबों,मजलूमों से हमदर्दी रखने वाले ज्ञानपीठ सम्मान से अलंकृत स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एवं मशहूर शायर अली सरदार जाफरी की पुश्तैनी कोठी रखरखाव के अभाव में धूल फांक रही है।

उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जिले में जन्मे अली सरदार जाफरी ने साहित्य के सर्वोच्च पुरस्कार ज्ञानपीठ पाने वाले देश के तीसरी ऐसे अदीब (साहित्यकार) है जिन्हें उर्दू साहित्य के लिए इस पुरस्कार से नवाजा जा है। यह विडंबना ही है कि अली सरदार जाफरी की मौजूदगी मे जहाँ कभी नशिस्तो और मुशायरो की महफिले सजती थी,वहां आज वीरानी पसरी हुई है।

‘एशिया जाग उठा’ और ‘अमन का सितारा’ समेत अनेक कृतियों से हिन्दी-उर्दू साहित्य को समृद्ध बनाने वाले अली सरदार जाफरी का नाम उर्दू अदब के महानतम शायरों में शुमार किया जाता है। उन्होने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान अंग्रेजों की यातनाएं झेलीं तो करने पर जेल का सफर किया,आवाज लगाकर अखबार बेचा तो नजर बंद किये गये।

एक अगस्त 1913 को जिले के बलुहा मोहल्ले में जन्में सरदार जाफरी ने अपने साहित्यिक सफर की शुरुआत शायरी से नहीं बल्कि कथा लेखन से की थी। शुरुआत में उन पर जिगर मुरादाबादी, जोश मलीहाबादी और फिराक गोरखपुरी जैसे शायरों का प्रभाव पडा। जाफरी ने 1933 में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में दाखिला लिया और इसी दौरान वे कम्युनिस्ट विचारधारा के संपर्क में आए। उन्हें 1936 में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से निष्कासित कर दिया गया। बाद में उन्होंने लखनऊ विश्वविद्यालय से स्नातक की शिक्षा पूरी की। जाफरी ने अपने लेखन का सफर 17 वर्ष की ही उम्र में शुरू किया। उनका लघु कथाओं का पहला संग्रह ‘मंजिल’ नाम से वर्ष 1938 में प्रकाशित हुआ। उनकी शायरी का पहला संग्रह ‘परवाज’ नाम से वर्ष 1944 में प्रकाशित हुआ। आप ‘नया अदब’ नाम के साहित्यिक जर्नल के सह-संपादक भी रहे।

एक अगस्त 200 को दुनिया को अलविदा कहने वाले जाफरी प्रगतिशील लेखक आंदोलन से जुड़े रहे। वे कई अन्य सामाजिक, राजनैतिक और साहित्यिक आंदोलनों से भी जुड़े रहे। प्रगतिशील उर्दू लेखकों का सम्मेलन आयोजित करने को लेकर उन्हें 1949 में भिवंडी में गिरफ्तार कर लिया गया। तीन महीने बाद ही उन्हें एक बार फिर गिरफ्तार किया गया।

जाफरी ने जलजला, धरती के लाल (1946) और परदेसी (1957) जैसी फिल्मों में गीत लेखन भी किया। वर्ष 1948 से 1978 के बीच उनका नई दुनिया को सलाम (1948) खून की लकीर, अमन का सितारा, एशिया जाग उठा, पत्थर की दीवार, एक ख्वाब और पैरहन-ए-शरार और लहू पुकारता है जैसे संग्रह प्रकाशित हुए। इसके अलावा उन्होंने मेरा सफर जैसी प्रसिद्ध रचना का भी लेखन किया। उनका आखिरी संग्रह सरहद के नाम से प्रकाशित हुआ।इसी संग्रह की प्रसिद्ध पंक्ति है ”गुफ्तगू बंद न हो बात से बात चले”। वयोवृद्ध शायर ने कबीर, मीर और गालिब के संग्रहों का संपादन भी किया। दो डाक्यूमेंट्री फिल्में भी बनाईं। उर्दू के सात प्रसिद्ध शायरों के जीवन पर आधारित ‘कहकशाँ’ नामक धारावाहिक का भी निर्माण किया। उन्हे वर्ष 1998 में ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वे फिराक गोरखपुरी और कुर्तुल एन हैदर के साथ ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित होने वाले उर्दू के तीसरे साहित्यकार हैं। उन्हें वर्ष 1967 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया। वह उत्तर प्रदेश सरकार के उर्दू अकादमी पुरस्कार और मध्यप्रदेश सरकार के इकबाल सम्मान से भी सम्मानित हुए। उनकी कई रचनाओं का भारतीय एवं विदेशी भाषाओं में अनुवाद हुआ।

साहित्यिक संस्था अभिव्यक्ति के अध्यक्ष डॉ शेहाब जफर ने बताया कि अली सरदार जाफरी एक ऐसा शख्स जो रईस घराने मे पैदा हुआ। मगर गरीबों और मजलूमों से हमददर्दी रखने वाले जाफरी साहब ऐशो आराम की जिन्दगी त्याग कर तहरीके आजादी से जुड गए। जाफरी न सिर्फ एक बेलौस वतन परस्त इंसान थे बल्कि उर्दू अदब का एक ऐसा रौशन सितारा जो दुनिया-ए- अदब के आसमान पर अपनी आबो ताब के साथ आज भी चमक रहा है।

महान शायर ,साहित्यकार व स्वतंत्रता संग्राम सेनानी अली सरदार जाफरी मुम्बई मे एक अगस्त सन 2000 को दुनिया को अलविदा कह गये। सामाजिक कार्यकर्ता और वरिष्ठ अधिवक्ता सैय्यद अनीसुल हसन रिजवी बताते है कि साहित्यिक सेवाओ के चलते दुनिया ने जाफरी साहब को सिर आखों पर बिठाया लेकिन उन्हें जो सम्मान उनके पैतृक शहर मे मिलना चाहिए था वह उन्हें नहीं मिला।

सं प्रदीप

वार्ता

More News
पर्यटको की आमद से इटावा सफारी पार्क हुआ गुलजार

पर्यटको की आमद से इटावा सफारी पार्क हुआ गुलजार

17 Jan 2020 | 4:56 PM

इटावा, 17 जनवरी (वार्ता)उत्तर प्रदेश में चंबल के बीहड़ों में स्थित इटावा सफारी पार्क पर्यटकों को खूब भा रहा है। सफारी पार्क में गत 25 नंबवर से 15 जनवरी तक 34 हजार से अधिक पर्यटको ने अपनी मौजूदगी से सुखद एहसास कराया है।

see more..
योगी ने गोरखनाथ मंदिर में चढ़ायी खिचड़ी

योगी ने गोरखनाथ मंदिर में चढ़ायी खिचड़ी

15 Jan 2020 | 6:50 PM

गोरखपुर 15 जनवरी (वार्ता) सूर्य के बुधवार तड़के मकर राशि में प्रवेश के साथ ही नाथ सम्प्रदाय के प्रसिद्ध शिवावतारी गोरक्षनाथ मंदिर में परम्परागत रूप से खिचड़ी चड़ाने का क्रम शुरू हो गया है।

see more..
बिहार में धूमधाम से मनायी जा रही मकर संक्रांति

बिहार में धूमधाम से मनायी जा रही मकर संक्रांति

15 Jan 2020 | 11:11 AM

पटना 15 जनवरी (वार्ता) बिहार में मकर संक्राति का पर्व धूमधाम से मनाया जा रहा है।

see more..
आध्यात्म, वैराग्य और ज्ञान की ऊर्जा सतत प्रवाहित होती है संगम की रेत में

आध्यात्म, वैराग्य और ज्ञान की ऊर्जा सतत प्रवाहित होती है संगम की रेत में

13 Jan 2020 | 4:59 PM

प्रयागराज, 13 जनवरी (वार्ता) पतित पावनी गंगा, श्यामल यमुना और अन्त:सलीला स्वरूप में प्रवाहित सरस्वती के त्रिवेणी की रेत वैराग्य, ज्ञान और आध्यात्मिक शक्ति से ओतप्रोत है।

see more..
मकर संक्रांति के दिन पतंग उड़ाने की परंपरा आज भी है बरकरार

मकर संक्रांति के दिन पतंग उड़ाने की परंपरा आज भी है बरकरार

13 Jan 2020 | 12:51 PM

पटना,13 जनवरी (वार्ता) मकर संक्रांति के दिन उमंग, उत्साह और मस्ती का प्रतीक पतंग उड़ाने की लंबे समय से चली आ रही परंपरा मौजूदा दौर में काफी बदलाव के बाद भी बरकरार है।

see more..
image