Friday, Sep 20 2019 | Time 17:11 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दुबई से 20 लाख का अवैध सोना लाते पांच बदमाश गिरफ्तार
  • जेल में बंद सजायाफ्ता कैदी की मौत
  • मैक्स बूपा और इंडियन बैंक की साझेदारी
  • श्रीलंका का पाकिस्तान दौरा तय कार्यक्रम से होगा
  • सीआईआई ने कार्पोरेट टैक्स दरों में कटौती का किया स्वागत, अर्थव्यवस्था को मिलेगी रफ्तार
  • अंतर्राष्ट्रीय क्रेता-विक्रेता सम्मेलन में 08 एम ओ यू पर हस्ताक्षर हुए
  • पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंड़ल से कोई बातचीत नहीं होगी: अकबरुद्दीन
  • चने की दो बेहतर किस्में विकसित
  • गाजियाबाद रन टू ब्रीथ 15 दिसंबर को,10 हजार धावक हिस्सा लेंगे
  • गाजियाबाद रन टू ब्रीथ 15 दिसंबर को,10 हजार धावक हिस्सा लेंगे
  • तीन दिवसीय त्रि सेवा कमांड़र सम्मेलन संपन्न
  • ग्रीनबग बैग से प्लास्टिक थैली का बेहतर विकल्प
  • कॉलेजों में विषय बंद करने के विरोध में प्रदेशभर में आंदोलन चलाएगी एसएफआई
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


एक को बचाने में परिवार के आठ सदस्य डूबे, सभी की मौत

एक को बचाने में परिवार के आठ सदस्य डूबे, सभी की मौत

राजगढ़, 02 मई (वार्ता) मध्यप्रदेश के राजगढ़ जिले के लीमा चौहान थाना क्षेत्र के ग्राम तीतरी के समीप कालीसिंध नदी में बने बांध में आज सुबह हुए एक हादसे में एक ही परिवार के आठ सदस्यों की डूबने से मौत हो गयी। मृतकों में दो महिलाएं, एक बालक और पांच बालिकाएं शामिल हैं।

पुलिस सूत्रों के अनुसार हादसे का शिकार परिवार एक दिन पूर्व किसी शादी समारोह से लौटा था। परिवारजन कालीसिंध नदी में कपड़े धोने और नहाने के लिये बच्चों के साथ गया हुआ था। इसी नदी पर बने कुडालिया डेम के कारण गांव के निकट नदी में पानी की प्रचुर मात्रा था।

पुलिस ने बताया कि दुर्गा बाई और राधाबाई दोनों देवरानी -जेठानी अपने बच्चों के साथ नदी के किनारे कपड़े धो रही थी, तभी सुनील मेघवाल (11) नहाते-नहाते डूबने लगा, तो उसे बचाने उसकी मां दुर्गा बाई आगे आई। नदी में पानी अधिक होने के कारण दुर्गा बाई भी डूबने लगी, तो उसे बचाने देवरानी राधाबाई (40) गयी और दुर्भाग्य से वह भी गहरे पानी में चली गई और डूब गयी।

इस घटनाक्रम को देख नदी किनारे नहा रही बालिकाएं किरण (16), कुलाबाई (15), रवीना (07), शिवाना (05), निकिन्या भी गहरे पानी में चली गयी। इस प्रकार एक के बाद करके सभी आठों नदी में डूब गए और सभी की मौत हो गयी। इनमे से निकिन्या का शव नहीं मिल पाया। शेष सभी शवों को निकालकर सारंगपुर के सिविल अस्पताल में पीएम के लिये भेजा गया है।

घटना की जानकारी लगने पर स्थानीय पुलिस और प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं।

सं बघेल

वार्ता

image