Saturday, May 30 2020 | Time 06:59 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चीन में कोरोना के चार नए मामले सामने आए
  • ठाणे के भाजपा निगम पार्षद का निधन
  • ब्राजील में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 27878 पहुंचा
  • फ्रांस में कोरोना से 52 और लोगों की मौत
  • ओमान में कोरोना के 811 नए मामले, कुल 9820 संक्रमित
  • न्यूजीलैंड के विटियांगा में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए
  • ट्यूनीशिया ने स्टेट ऑफ इमरजेंसी छह महीने तक बढ़ायी
  • डब्ल्यूएचओ के साथ संबंध खत्म करेगा अमेरिका : ट्रंप
  • मोरक्को के पूर्व प्रधानमंत्री एबदर्रहमान यूसुफ़ि का निधन
  • मोरक्को में 1 54 टन गांजा बरामद, चार गिरफ्तार
  • पाकिस्तान में 30 मई से शुरु होगी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें : प्रशासन
  • मेघालय में दो भाई नदी में डूबे
  • पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव ने धनखड़ से की मुलाकात
लोकरुचि


वनवासियों द्वारा तैयार पत्तल में बंटता है बुढ़िया माई का भोग प्रसाद

वनवासियों द्वारा तैयार पत्तल में बंटता है बुढ़िया माई का भोग प्रसाद

गाजीपुर 09 अक्टूबर (वार्ता) पूर्वी उत्तर प्रदेश में गाजीपुर स्थित सिद्धपीठ हथियाराम मठ पर विजयदशमी के मौके पर करीब 650 वर्ष पुरानी परंपरा का निर्वहन करते हुये बुढ़िया माई भोग लगा हलवा प्रसाद का वितरण मंगलवार देर शाम किया गया।

महामंडलेश्वर स्वामी श्री भवानी नंदन यति जी महाराज ने प्रसाद वितरण किया। गाजीपुर,आजमगढ़,बलिया समेत समूचे पूर्वांचल से जुटे श्रद्धालुओं ने कतारबद्ध होकर प्रसाद ग्रहण किया।

दिलचस्प है कि प्राचीन परंपरा के अनुसार आज भी उक्त प्रसाद का वितरण वनवासियों द्वारा तैयार पत्तल में पैक कर किया जाता है जिसमें स्थानीय क्षेत्र के शिशवार गांव के दर्जन भर से अधिक वनवासी परिवार शामिल है।

गौरतलब है कि सिद्धपीठ हथियाराम मठ पर विजयादशमी के दिन ध्वज पूजन, शस्त्र पूजन, शास्त्र पूजन, समी वृक्ष पूजन, शिवपूजन, शक्ति पूजन के बाद बुढ़िया माई को भोग लगा हलवा पूड़ी का प्रसाद वितरित किया जाता है। जिसके लिए समूचा शिष्य समुदाय उपस्थित रहता है। खास बात है कि आज के समय तमाम आधुनिक व्यवस्था उपलब्ध हो जाने के बावजूद प्रसाद पैकिंग के लिए जनपद के सिसवार गांव के बनवासी परिवारों से पत्तल मंगाया जाता है। हालांकि उक्त बनवासी परिवार के लोगों द्वारा पत्तल बनाने का काम बंद कर दिया गया है, लेकिन प्रत्येक वर्ष विजयादशमी पर सिद्धपीठ द्वारा 50,000 पत्तल सिसवार गांव के बनवासी उपलब्ध कराते हैं।

इस संबंध में शंकर वनवासी, कांता बनवासी, रामकृत बनवासी और मोती बनवासी ने बताया कि आज के समय में हमारे हाथ से बने पत्तलों की मांग लगभग समाप्त हो जाने से अब हम लोगों ने अपना पारंपरिक काम बंद कर दिया। वह अन्य माध्यमों से अपना रोजी-रोटी चलाने का काम करते हैं लेकिन सिद्धपीठ द्वारा प्रत्येक वर्ष 50 से 60 हजार पत्तल मांगे जाते हैं। जिसके लिए हमारी पूरी बस्ती सहर्ष यह काम करके सिद्धपीठ पर पहुंचाती है, जहां हमें गौरव की अनुभूति होती है। इतने बड़े सिद्धपीठ पर आज भी हम से पत्तल मांगा जाता है जिसकी हम आपूर्ति करते हैं।

सिद्धपीठ के महामंडलेश्वर व पीठाधीश्वर स्वामी श्री भवानीनंदन यति जी महाराज ने कहा कि वनवासी भाई हमारे समाज के अंग हैं। हालिया राजनीतिक स्थिति में हिंदू समाज में भेदभाव बढ़ाने का काम किया जबकि पारंपरिक तौर पर प्राचीन काल से हम एक दूसरे से इन मांगलिक व धार्मिक कार्यों के माध्यम से मजबूती से बंधे हुए थे। ‘मंदिर का भोग हो या शादी का भोज हो’ सब कुछ बनवासी भाइयों के बने पत्तल में हीं किया जाता रहा जिसका आज भी पालन करने की आवश्यकता है।

सं प्रदीप

वार्ता

More News
लॉकडाउन में गुम हुयी खुशियों पर बजने वाली किन्नरों की ताली

लॉकडाउन में गुम हुयी खुशियों पर बजने वाली किन्नरों की ताली

29 May 2020 | 9:41 PM

पटना 26 मई (वार्ता) मांगलिक कार्यों के दौरान लोगों के घरों में जा कर नाचने-गाने और आशीर्वाद देकर आजीविका कमाने वाले किन्नरों की तालियां लॉकडाउन में गुम हो गयी है।

see more..
लाकडाउन ने नट समुदाय को समझाया जड़ का महत्व

लाकडाउन ने नट समुदाय को समझाया जड़ का महत्व

29 May 2020 | 9:39 PM

मुरादाबाद 26 मई (वार्ता) वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण जारी लाकडाउन ने लोगों के जीने के अंदाज को बदल दिया है और इसमें नट समुदाय भी अछूता नहीं है।

see more..
कई कारोबारियों के बिजनेस पार्टनर है ‘ठाकुर’

कई कारोबारियों के बिजनेस पार्टनर है ‘ठाकुर’

29 May 2020 | 9:38 PM

मथुरा 25 मई (वार्ता) व्यापार को चमकाने के लिए ‘ठाकुर’ को ’बिजनेस पार्टनर’ बनाने की निराली परंपरा भक्तों द्वारा ब्रज के मंदिरों में लम्बे समय से अपनाई जा रही है।

see more..
महोबा में जागरूकता अभियान के साथ अनूठे अंदाज में मनाई गई आल्हा की जयंती

महोबा में जागरूकता अभियान के साथ अनूठे अंदाज में मनाई गई आल्हा की जयंती

29 May 2020 | 9:38 PM

महोबा, 25मई (वार्ता) उत्तर प्रदेश के महोबा में बारहवीं शताब्दी के महान योद्धा चंदेल सेनानायक, महाबली आल्हा की जयंती सोमवार को कोरोना जागरूकता अभियान के साथ अनूठे अंदाज में मनाई गई।

see more..
प्रकृति की खातिर हर साल 21 दिन का लॉकडाउन जरूरी: पर्यावरणविद

प्रकृति की खातिर हर साल 21 दिन का लॉकडाउन जरूरी: पर्यावरणविद

24 May 2020 | 4:01 PM

इटावा, 24 मई (वार्ता) कोरोना संक्रमण के चलते देशव्यापी लाकडाउन ने सरकार और आम आदमी की मुश्किलों में इजाफा किया है लेकिन आपदा की इस घड़ी ने प्रकृति के सौंदर्य को बरकरार रखने के लिये नियमित अंतराल में मानव दखलदांजी पर रोक लगाने को लेकर एक नयी बहस को जन्म दे दिया है।

see more..
image