Sunday, Feb 17 2019 | Time 15:19 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दो पटरियों पर चल रही राजग सरकार की विकास यात्रा : मोदी
  • हरियाणा की राष्ट्रपति भवन को मुर्रा भैंस और साहीवाल गाय देने की पेशकश
  • हरियाणा की राष्ट्रपति भवन को मुर्रा भैंस और साहीवाल गाय देने की पेशकश
  • शहीदों के परिजनों से प्रियंका ने बात की, मदद का भरोसा दिया
  • पुणे ने किया जमशेदपुर का नुकसान, बेंगलुरू प्लेआफ में
  • बीसीसीआई शहीदों के परिवारों को दे 5 करोड़ की मदद : सीके खन्ना
  • मुस्लिम फ्रंट ने की पुलवामा हमले की पुरजोर निंदा
  • सोना 170 रुपये महंगा; चांदी स्थिर
  • शंकराचार्य ने अयोध्या के लिए 'रामाग्रह यात्रा' स्थगित की
  • कृषि के क्षेत्र में देश का नेतृत्व करे हरियाणा:कोविंद
  • अफगानिस्तान में बम विस्फोट से तीन लोगों की मौत
  • मोदी ने कहा, जो आग आपके दिल में है, वही आग मेरे दिल में भी
  • कृषि के क्षेत्र में देश का नेतृत्व करे हरियाणा:कोविंद
  • उत्तर प्रदेश में 107 वरिष्ठ पीसीएस अधिकारियों का तबादला
  • जम्मू में कर्फ्यू तीसरे दिन भी जारी, स्थिति सामान्य
खेल Share

इंग्लैंड के चायकाल तक बिना कोई विकेट खोए 20 रन

इंग्लैंड के चायकाल तक बिना कोई विकेट खोए 20 रन

लंदन 09 सितंबर (वार्ता) इंग्लैंड ने भारत के खिलाफ सीरीज़ के पांचवें और अंतिम क्रिकेट टेस्ट के तीसरे दिन रविवार को अपनी दूसरी पारी में चायकाल तक बिना कोई विकेट खोए 20 रन बना लिए जिसके साथ ही उसने कुल 60 रन की बढ़त बना ली।

चायकाल तक एलेस्टेयर कुक 13 रन और कीटन जेनिंग्स 7 रन बनाकर क्रीज पर मौजूद थे।

इससे पहले भारत ने आज ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा (नाबाद 86) और पदार्पण मैच खेल रहे मध्यक्रम के बल्लेबाज हनुमा विहारी(56) के उपयोगी अर्धशतकों की बदौलत अपनी पहली पारी में 292 रन बनाए।

भारतीय टीम के आॅलआउट होने के साथ ही इंग्लैंड ने अपनी 332 रन की पहली पारी के आधार पर 40 रनों की महत्वपूर्ण बढ़त हासिल कर ली थी।

आज सुबह भारत ने कल के 174 रन पर छह विकेट के स्कोर से आगेे खेलना शुरू किया। क्रीज पर मौजूद हनुमा और जडेजा ने 77 रन की अहम साझेदारी की और भारत को कुछ हद तक संभाला। दोनों ही बल्लेबाज़ों ने सुबह संयम के साथ अपनी पारियों को आगे बढ़ाया और लंच तक 79 ओवर में सात विकेट खोकर 240 रन बना लिये।

हालांकि लंच से पूर्व हनुमा मोइन अली की गेंद पर जॉनी बेयरस्टो को कैच थमा बैठे और मेहमान टीम ने सातवां अहम विकेट गंवा दिया तथा इस साझेदारी पर भी ब्रेक लग गया।

राष्ट्रीय टीम की ओर से पहला मैच खेल रहे हनुमा ने 124 गेंदों में सात चौके और एक छक्का लगाकर 56 रन की अर्धशतकीय पारी खेली और पदार्पण मैच को यादगार बना दिया। इस सीरीज़ का पहला मैच खेल रहे अॉलराउंडर जडेजा ने टीम के स्कोर को ऊपर ले जाने की पूरी कोशिश की लेकिन निचले क्रम का कोई भी बल्लेबाज ज्यादा देर तक उनका साथ नहीं दे सका।

हनुमा के आउट होने के बाद जडेजा का साथ देने आए इशांत (4) पिच पर ज्यादा देर न टिक सके और मोइन अली की गेंद पर विकेटकीपर बेयरस्टो को कैच थमा बैठे। इसके बाद मोहम्मद शमी भी जडेजा का ज्यादा साथ न दे सके और राशिद की गेंद पर शॉट खेलने के चक्कर में ब्रॉड को कैच थमा बैठे। शमी केवल एक रन बनाकर पवेलियन लौटे।

11वें नंबर पर बल्लेबाजी करने आए बुमराह ने कुछ देर तक जडेजा का साथ दिया। जडेजा और बुमराह ने अंतिम विकेट के लिए 32 रनों की साझेदारी की।

भारत का अंतिम विकेट बुमराह(0) के रूप में गिरा। बुमराह रन आउट हुए। जडेजा ने 156 गेंदों का सामना करते हुए 86 रनों की अपनी शानदार पारी में 11 चौके और एक छक्का भी लगाया। जडेजा अंत तक नाबाद रहे।

 

image