Thursday, Nov 15 2018 | Time 22:12 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • गाजा चक्रवात: चित्तूर में शुक्रवार को सभी स्कूलों में छुट्टी की घोषणा
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • मध्यप्रदेश में 2907 प्रत्याशी चुनाव मैदान में
  • स्कूल के शौचालय से युवक का शव बरामद
  • बिहार में सड़क दुर्घटना में आठ लोगों की मौत , सात घायल
  • दहेज हत्या मामले में पति और ससुर को आजीवन कारावास
  • नाबालिग के साथ दुष्कर्म
  • पंसारे हत्या मामले में अमोल आठ दिन की एसआईटी हिरासत में
  • अखाड़ा भवन ध्वस्तीकरण मामले में नगर निगम आयुक्त एवं पुलिस को नोटिस
  • विकास लक्ष्य हासिल नहीं कर सका झारखंड : झाविमो
  • 84 के सिख दंगा पीड़ितों को मुआवजे के भुगतान पर सरकार से जवाब तलब
  • जौनपुर बिजली विभाग के बिल घोटाले की जांच करेंगी एमडी
  • विजयी पदार्पण चाहेंगी मनीषा, दिग्गज सरिता वापसी पर उत्साहित
  • वाल्मीकि टाइगर रिजर्व में ईको टूरिज्म का शुभारंभ 18 नवंबर को
खेल Share

ध्यानचंद जैसी हॉकी खेलना हर खिलाड़ी का सपना: हरचरण सिंह

ध्यानचंद जैसी हॉकी खेलना हर खिलाड़ी का सपना: हरचरण सिंह

झांसी 29 अगस्त (वाता) वर्ष 1975 की विश्व विजेता हॉकी टीम के सदस्य ब्रिग्रेडियर हरचरण सिंह ने कलाइयों के बाजीगर मेजर ध्यानचंद को विश्व रत्न की संज्ञा से नवाजते हुए कहा कि उन्होंने इस खेल में ऐसे ऊंचे मापदंड स्थापित किये कि आज भी हर युवा खिलाड़ी उनके जैसी हॉकी खेलने का सपना भर देखता है।

मेजर ध्यानचंद की 113वीं जयंती के अवसर पर बुधवार को उनकी कर्मस्थली झांसी में हॉकी के बड़े बड़े खिलाड़ी उन्हें श्रद्धांजलि देने पहुंचे। इस अवसर पर ब्रिगेडियर सिंह ने कहा, “ध्यानचंद जी के बारे मे कुछ भी बोलना सूरज को दिया दिखाने जैसा है न केवल हॉकी बल्कि हमारे देश में खेलों को महत्व दिलाने में उनके योगदान की कोई तुलना ही नहीं की जा सकती है। उस जमाने में अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त खिलाड़ी होने के बावजूद अहंकार उनको छू कर भी नहीं निकला था। ऐसा खिलाडी जिसके खेल की मिसालें पूरी दुनिया में दी जाती हैं वह आखिरी समय तक जमीन से जुडा रहा । व्यवहार और खेल दोनों ही क्षेत्रों मे वह हर एक के लिए अनुकरणीय व्यक्तित्व रहे।”

उत्तर मध्य रेलवे के सीनियर रेलवे इंस्टीट्यूट में आयोजित मुख्य कार्यक्रम में पद्मश्री और राजीव गांधी खेलरत्न पुरस्कार से सम्मानित धनराज पिल्लै,1975 हॉकी विश्वकप विजेता टीम के सदस्य अशोक दीवान, ओमकार सिंह ,ब्रिगेडियर एच जे एस चिमनी,ब्रिगेडियर हरचरण सिंह ,अजीतपाल सिंह ,वीरेंद्र सिंह के साथ साथ अर्जुन पुरस्कार विजेता मेजर ध्यानचंद के सुपुत्र अशोक ध्यानचंद,1980 मास्को ओलम्पिक की विजेता टीम के कप्तान वी भास्करन, जफर इकबाल, अर्जुन पुरस्कार विजेता एम पी गणेश,जूनियर वर्ल्डकप चैम्पियनशिप 2016 के सदस्य अरमान कुरैशी के साथ साथ झांसी के अंतररराष्ट्रीय हॉकी खिलाडी जगदीश यादव, अब्दुल अजीज,सुबोध खांडेकर, वीरेंद्र सिंह, जमशेर खान,नेहा सिंह,तुषार खांडेकर और केपीयादव भी शामिल रहे।

ब्रिगेडियर सिंह ने वर्तमान और पुराने जमाने की हॉकी के विषय में पूछे गये एक सवाल के जवाब में कहा, “आज के जमाने और हमारे जमाने की हॉकी में जमीन आसमान का बदलाव आ गया है। हमारे जमाने मे कलात्मक हाॅकी खेली जाती थी वह हुनर का खेल था। हमारे जमाने में हर खिलाड़ी एक निर्धारित रोल मे खेलता था और परफेक्शन के लिए खेलता था । आज की हॉकी फ्री हॉकी है, एस्ट्रोटर्फ ने खेल में इतनी अधिक गति बढा दी है कि अब यह पावर गेम हो गया है। एस्ट्रोटर्फ पर अगर हमारे 1970 के बैच ने हॉकी खेली होती तो यकीनन जो आज हॉकी खेली जा रही है हम उससे बेहतर खेलते।”

धनराज ने कहा कि दद्दा के विषय में कुछ भी कहना शुरू किया तो व्याख्यान खत्म होने में कई दिन बीत जायेंगे । उनके बारे में यह ही कहना है कि हॉकी खेलने का सपना देखने या खेलने वाला हर खिलाडी का सपना होता है कि वह मेजर ध्यानचंद जैसी हॉकी खेले । वह सदियाें से लेकर आज तक और आगे अनंतकाल तक हॉकी के खिलाडियों के आदर्श रहेंगे।

अंतरराष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी अतार्फुर रहमान ने कहा, “हॉकी में हमारा इतिहास बेहद समृद्ध है आगे इस खेल मे इतना नीचे आने का कारण रहा कि हमारे देश मे स्कूलों से हॉकी खत्म हो गयी। पहले स्कूल से जिला फिर राज्य और फिर राष्ट्रीय स्तर पर आने के लिए नीचे से ही खिलाड़ी मिलते थे लेकिन स्कूल स्तर से हॉकी खत्म होने से अच्छे खिलाडियों का अभाव हो गया और जिसका नतीजा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इस खेल में आयी गिरावट रही लेकिन अब एकबार फिर खेलों के क्षेत्र मे काफी प्रयास किये जा रहे हैं और वर्तमान टीम लगातार अपने प्रदर्शन में सुधार से जीत हासिल कर रही है। जरूरत है कि छोटेे शहरों में भी जो उम्दा खिलाडी हैं उनतक स्तरीय सुविधाएं पहुंचायी जाएं ताकि वह आगे देश के लिए मैडल हासिल कर पायें।

इस अवसर पर मंडल रेल प्रबंधक ए के मिश्र ने सभी मेहमान खिलाडियों को सम्मानित किया।

 

More News
नताशा पल्हा युगल के सेमीफाइनल में

नताशा पल्हा युगल के सेमीफाइनल में

15 Nov 2018 | 9:52 PM

मुजफ्फरनगर, 15 नवम्बर (वार्ता) भारत की नताशा पल्हा ने अपनी जोड़ीदार रूस की अन्ना माखोरकिना के साथ गुरूवार को संघर्षपूर्ण मुकाबले में स्लोवाकिया की नास्तजा कोलार और अमेरिका की एलेक्सांद्रा रिले को 7-6, 3-6, 10-6 से हराकर भावना स्वरूप मनोरियल महिला आईटीएफ टेनिस टूर्नामेंट के युगल सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया।

 Sharesee more..
दक्षिण भारतीय एथलीटों का वर्चस्व कायम, जीते 23 पदक

दक्षिण भारतीय एथलीटों का वर्चस्व कायम, जीते 23 पदक

15 Nov 2018 | 9:28 PM

मुम्बई, 15 नवंबर (वार्ता) रिलायंस फाउंडेशन यूथ स्पोर्ट्स नेशनल एथलेटिक्स चैम्पियनशिप के दूसरे दिन ट्रैक एंड फील्ड इवेंट्स में गुरुवार को दक्षिण भारतीय छात्र एथलीटों का वर्चस्व रहा।

 Sharesee more..

15 Nov 2018 | 9:27 PM

 Sharesee more..

15 Nov 2018 | 9:17 PM

 Sharesee more..
image