Wednesday, Apr 8 2020 | Time 13:01 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कोरोना वायरस से जंग में अजीत ने किया 1 25 करोड़ दान
  • छत्तीसगढ़ में पिछले चार दिनों कोरोना संक्रमण का एक भी नया मामला नहीं
  • गृह मंत्रालय ने राज्यों से आवश्यक वस्तु अधिनियम लागू करने को कहा
  • 60 हजार दिहाड़ी मजदूर की मदद करेंगे अर्जुन कपूर
  • 1 2 लाख लोगों को खाना मुहैया करवाएंगे ऋतिक रौशन
  • स्मार्ट शहरों में कोरोना से निपटने में प्रौद्योगिकी का प्रयोग
  • प्रेमी युगल ने गले में फंदा लगाकर आत्महत्या की
  • गुजरात में कोरोना के चार नए मामले, दो की मौत
  • कश्मीर में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ शुरू
  • कोरोना को लेकर भारत की नीति सही दिशा में: यूएनइस्केप
  • भोपाल में आज कोरोना संक्रमित 8 नए मरीज मिले, प्रभावितों की संख्या 91 हुयी
  • उत्तराखंड में कोरोना संक्रमितों की संख्या 32 हुई
  • द कोरिया में 10384 कोरोना संक्रमित,200 की मौत
  • मोदी, शाह, राजनाथ ने हनुमान जयंती पर दी बधाई
  • बैजल ने शब-ए-बारात पर लॉकडाउन के पालन की अपील की
मनोरंजन


लाजवाब अभिनय से दर्शकों को दीवाना बनाया फारूख शेख ने

लाजवाब अभिनय से दर्शकों को दीवाना बनाया फारूख शेख ने

..जन्मदिन 25 मार्च  ..

मुंबई 24 मार्च (वार्ता) बॉलीवुड में फारूख शेख को एक ऐसे अभिनेता के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने समानांतर सिनेमा के साथ ही व्यावसायिक सिनेमा में भी अपने लाजवाब अभिनय से दर्शको के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

फारूख शेख का जन्म 25 मार्च 1948 को जमींदार घराने में हुआ। उनके पिता मुस्तफा शेख मुंबई में जाने माने वकील थे। फारूख शेख ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा मुंबई के सेंट मैरी स्कूल से पूरी की। इसके बाद उन्होंने मुंबई के ही सेंट जेवियर्स कॉलेज से आगे की पढ़ाई पूरी की। इस बीच फारूख शेख ने सिद्धार्थ कॉलेज से वकालत की और पुणे फिल्म इंस्टीट्यूट में दाखिला ले लिया। इसके बाद वह भारतीय जन नाटय् संघ:इप्टा:से जुड़ गये और सागर सरहदी के निर्देशन में बनी कई नाटकों में अभिनय किया।

सत्तर के दशक में बतौर अभिनेता फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने के लिये फारूख शेख ने मुंबई में कदम रख दिया। वर्ष 1973 में प्रदर्शित फिल्म ..गरम हवा ..से उन्होंने अपने सिने करियर की शुरूआत की। यूं तो पूरी फिल्म अभिनेता बलराज साहनी पर आधारित थी लेकिन फारूख शेख ने दर्शकों के बीच अपनी पहचान बनाने में सफल रहे। फारूख शेख मुंबई में लगभग छह साल तक संघर्ष करते रहे। आश्वसन तो सभी देते लेकिन उन्हें काम करने का अवसर कोई नहीं देता था। हांलाकि इस बीच उन्हें महान निर्देशक सत्यजीत रे की फिल्म ..शतरंज के खिलाड़ी ..में काम करने का अवसर मिला लेकिन उन्हें कुछ खास फायदा नहीं हुआ।

फारूख शेख की किस्मत का सितारा निर्माता-निर्देशक यश चोपड़ा की 1979 में प्रदर्शित फिल्म ..नूरी ..से चमका। बेहतरीन गीत-संगीत और अभिनय से सजी इस फिल्म की कामयाबी ने न सिर्फ उन्हें बल्कि अभिनेत्री पूनम ढिल्लों को भी .स्टार. के रूप में स्थापित कर दिया। फिल्म में लता मंगेशकर की आवाज में ..आजा रे आजा रे मेरे दिलबर आजा गीत.. आज भी श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर देता हैं।

वर्ष 1981 में फारूख शेख के सिने कैरियर की एक और महत्वपूर्ण फिल्म ..उमराव जान .. प्रदर्शित हुयी। मिर्जा हादी रूसवा के मशहूर उर्दू उपन्यास पर आधारित इस फिल्म में उन्होंने नवाब सुल्तान का किरदार निभाया जो उमराव जान से प्यार करता है। अपने इस किरदार को फारूख शेख ने इतनी संजीदगी से निभाया कि सिने दर्शक आज भी उसे भूल नहीं पाये है । इस फिल्म के सदाबहार गीत आज भी दर्शकों और श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर देते हैं।

वर्ष 1981 में फारूख शेख के सिने कैरियर की एक और सुपरहिट फिल्म ..चश्मेबद्दूर ..प्रदर्शित हुयी। परांजपे निर्देशित इस फिल्म में फारूख शेख के अभिनय का नया रंग देखने को मिला ।इस फिल्म से पहले उनके बारे में यह धारणा थी कि वह केवल संजीदा भूमिकाएं निभाने में ही सक्षम है लेकिन इस फिल्म उन्होंने अपने जबरदस्त हास्य अभिनय से दर्शको को मंत्रमुग्ध कर दिया ।

वर्ष 1982 में फारूख शेख के सिने कैरियर की एक और महत्वपूर्ण फिल्म ..बाजार ..प्रदर्शित हुयी। सागर सरहदी के निर्देशन में बनी इस फिल्म में उनके सामने सामने कला फिल्मों के दिग्गज स्मिता पाटिल और नसीरूद्दीन शाह जैसे अभिनेता थे। इसके बावजूद वह अपने किरदार के जरिये दर्शको का ध्यान आकर्षित करने में सफल रहे।वर्ष 1983 में फारूख शेख को एक बार फिर से सई परांजपे की फिल्म ..कथा ..में काम करने का अवसर मिला। इस फिल्म में फारूख शेख ने कुछ हद तक नकारात्मक किरदार निभाया । इसके बावजूद वह दर्शको का दिल जीतने में सफल रहे।

वर्ष 1987 में प्रदर्शित फिल्म ..बीबी हो तो ऐसी .. नायक के रूप में फारूख शेख के सिने कैरियर की अंतिम फिल्म थी इस फिल्म में उन्होंने अभिनेत्री रेखा के साथ काम किया ।नब्बे के दशक में उन्होंने शेख ने अच्छी भूमिकाएं नही मिलने पर फिल्मों में काम करना काफी हद तक कम कर दिया।

90 के दशक में फारूख शेख ने दर्शको की पसंद को देखते हुये छोटे पर्दे का भी रूख किया और कई धारावाहिको में हास्य अभिनय से दर्शको का मनोरंजन किया। इन सबके साथ ही ..जीना इसी का नाम है ..में बतौर होस्ट उन्होंने दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया। वर्ष 1997 में प्रदर्शित फिल्म ..मोहब्बत .. के बाद उन्होंने ने लगभग दस वर्ष तक फिल्म इंडस्ट्री से किनारा कर लिया।

फारूख शेख के सिने कैरियर में उनकी जोड़ी अभिनेत्री दीप्ति नवल के साथ काफी पसंद की गयी है। वर्ष 1981 में प्रदर्शित फिल्म चश्मेबद्दूर में सबसे पहले यह जोड़ी रूपहले पर्दे पर एक साथ नजर आई। इसके बाद इस जोड़ी ने साथ साथ किसी से ना कहना .कथा . एक बार चले आओ. रंग बिरंगी और फासले में भी दर्शको का मनोरंजन किया। अपने लाजवाब अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुग्ध करने वाले फारूख शेख 27 दिसंबर 2013 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

फारूख शेख की उल्लेखनीय फिल्मों में कुछ अन्य हैं.. गमन, साथ-साथ, किसी से ना कहना, रंग बिरंगी, लाखो की बात, अब आयेगा मजा, सलमा, फासले, पीछा करो, तूफान, माया मेम साहब, मोहब्बत, सास बहु और सेन्सेक्स, ये जवानी है दीवानी आदि

More News
आशा ने की पीएम केयर्स फंड में 100 रुपये डोनेट करने की अपील

आशा ने की पीएम केयर्स फंड में 100 रुपये डोनेट करने की अपील

07 Apr 2020 | 5:09 PM

मुंबई 07 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड की मशहूर पार्श्वगायिका आशा भोंसले ने लोगों से कोरोना के खिलाफ जंग के लिए प्रधानमंत्री (पीएम) केयर्स फंड में 100 रुपये डोनेट करने की अपील की है।

see more..
सारा ने भोर भयो पनघट पे किया कत्थक डांस

सारा ने भोर भयो पनघट पे किया कत्थक डांस

07 Apr 2020 | 12:02 PM

मुंबई 07 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री सारा अली खान ने जीनत अमान अभिनीत फिल्म सत्यम शिवम सुंदरम के एक सुपरहिट गाने ‘भोर भयो पनघट पे’ कत्थक डांस किया है, जो लोगों को बेहद पसंद आ रहा है।

see more..
image