Sunday, Sep 23 2018 | Time 19:23 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • तीन तलाक का मुद्दा राजनीति का विषय नहीं : रविशंकर
  • एकता, अखंडता और सम्मान के लिए डालें वोट: लू
  • भारत ने छह स्वर्ण के साथ जीता ट्रैक एशिया कप
  • वोट बैंक की राजनीति के कारण गरीबों के स्वास्थ्य की हुई अनदेखी : मोदी
  • फोटो कैप्शन-दूसरा सेट
  • सरकार को आन्दोलनरत कर्मचारियों से करनी चाहिए बात-पायलट
  • पर्रिकर ही गोवा के मुख्यमंत्री बने रहेंगें: अमित शाह
  • हरियाणा ने जम्मू-कश्मीर को तीन विकेट से हराया
  • महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर ‘मुशायरा’
  • हरियाणा, हिमाचल और पंजाब सहित कई राज्यों में मानसून सक्रिय
  • भारत अंडर-16 लड़कियों का दूसरे राउंड का सपना टूटा
  • राफेल कांग्रेस द्वारा प्रायोजित झूठा मुद्दा-माथुर
  • भूटान भारत के परिवार का हिस्सा रहा है: वेंकैया
  • छत्तीसगढ़ के 40 लाख गरीबों को मिलेगी पांच लाख तक मुफ्त इलाज सुविधा
  • यूपी-ओड़िशा का मुकाबला बारिश की भेंट चढा
खेल Share

पदक देखकर सारा अपमान भूल गयी: दुती

पदक देखकर सारा अपमान भूल गयी: दुती

जकार्ता , 27 अगस्त (वार्ता) चार साल पहले की बात है जब ओड़िशा की एथलीट दूती चंद को जेंडर विवाद के चलते भारत की ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों की टीम से बाहर कर दिया गया था लेकिन जीवट और हौंसले की धनी इस एथलीट ने 18वें एशियाई खेलों में महिलाओं की 100 मीटर स्पर्धा का रजत जीतकर अपना खोया सम्मान वापिस पा लिया।

दुती ने अपने करियर में एक ऐसा दौर गुजारा था जब उन्हें हर पल अपमान भरे शब्दों से गुजरना पड़ता था। यह ऐसा समय था जो किसी भी खिलाड़ी को मनोवैज्ञानिक रूप से तोड़ सकता था। उनके अपने गांव के लोग पूछते थे कि क्या वह पुरूष हैं। किसी भी महिला एथलीट के लिये यह सबसे अपमानजनक शब्द हो सकते थे लेकिन दुती ने ऐसे प्रतिकूल हालात से निकलकर जो वापसी की और जैसा प्रदर्शन उन्होंने कल जकार्ता में 100 मीटर के फाइनल में किया वह भारतीय खेल इतिहास में स्वर्णाक्षरों में दर्ज हो गया।

22 साल की दुती को लंबे समय तक ऐसी परिस्थितियों में जीना पड़ा था जब स्वभाविक रूप से उनका टेस्टोस्टोरोन स्तर ऊंचा हो जाता था और उनपर पुरूष होने का आरोप लगा था जिसके चलते वह एक साल तक अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रतियोगिताओं में हिस्सा नहीं ले पायी थीं। उनकी अपील पर लुसाने स्थित खेल मध्यस्थता अदालत ने उनपर लगा आईएएएफ का प्रतिबंध हटा दिया था जिससे वह 2016 के रियो ओलंपिक में हिस्सा ले पायी थीं।

दुती ने फाइनल में 11.32 सेकंड का समय लिया और स्वर्ण विजेता एडिडियोंग ओडियोंग के 11.30 सेकंड के समय से मामूली अंतर से पिछड़कर रजत जीता। स्पर्धा समाप्त होने के बाद विजेताओं के लिए फोटो फिनिश का सहारा लिया गया जिसमें दुती का नाम दूसरे स्थान पर आते ही भारतीय एथलीट ने तिरंगा अपने कंधों पर उठा लिया। दुती के लिए यह पदक गौरव का क्षण था।

दुती इस तरह देश की महान एथलीट पी टी उषा के 1986 के सोल एशियाई खेलों में 100 मीटर में रजत पदक जीतने के बाद यह कारनामा करने वाली पहली भारतीय एथलीट बनीं। उन्होंने अपनी स्पर्धा में पदक हासिल करने के बाद कहा,“ मैं अब आपको बता सकती हूं कि मैं कैसा महसूस कर रही हूं। जब मां एक बच्चे को जन्म देती है तो उस समय वह भूल जाती है कि वह कैसी पीड़ा से गुजरी थी। मेरे अंदर भी उसी तरह की अनुभूति है।”

उन्होंने कहा,“ इस पदक से मैं अपने सारे दर्द और अपमान को भूल चुकी हूं। मेरे लिये यह बहुत बड़ा क्षण है। वे कड़वी यादें मुझे इससे पहले तक बहुत परेशान किया करती थीं, लोग पता नहीं क्या क्या कहते थे लेकिन मैंने हर किसी को नज़रअंदाज़ किया और सिर्फ अपने अभ्यास पर ध्यान लगाया। मैंने ईश्वर पर से भरोसा नहीं खोया।”

ओड़िशा की इस एथलीट ने कहा,“ मैं रोजाना छह घंटे अभ्यास करती थी। मैंने स्वर्ण पाने के लिये अपना सबकुछ झोंक दिया लेकिन ईश्वर की मर्जी से मुझे रजत पदक मिला। मैं खुश हूं।” दूती 1980 के बाद से 2016 के रियो ओलंपिक में 100 मीटर में हिस्सा लेने वाली पहली भारतीय महिला एथलीट बनी थीं।

उन्होंने अपनी कानूनी टीम को भी इस पदक के लिये धन्यवाद किया जिन्होंने कैस में उनका मामला लड़ा था।

 

More News
नवीन को रजत, अब स्वर्ण की उम्मीदें दीपक से

नवीन को रजत, अब स्वर्ण की उम्मीदें दीपक से

23 Sep 2018 | 6:47 PM

नयी दिल्ली, 23 सितम्बर (वार्ता) भारत के नवीन को स्लोवाकिया के ट्रनावा में चल रही जूनियर विश्व कुश्ती प्रतियोगिता में 57 किग्रा फ्री स्टाइल वर्ग के फाइनल में हारकर रजत से संतोष करना पड़ा जबकि दीपक पुनिया ने 86 किग्रा फ्री स्टाइल वर्ग के फाइनल में पहुंचकर देश की इस प्रतियोगिता में 17 वर्षों के बाद स्वर्ण हासिल करने की उम्मीदों को जिन्दा रखा है।

 Sharesee more..
टोक्यो ओलम्पिक में दोहरी पदक संख्या का लक्ष्य रखें: बत्रा

टोक्यो ओलम्पिक में दोहरी पदक संख्या का लक्ष्य रखें: बत्रा

23 Sep 2018 | 6:33 PM

नयी दिल्ली, 23 सितम्बर (वार्ता) भारतीय ओलम्पिक संघ आईओए के अध्यक्ष डॉ नरेंद्र ध्रुव बत्रा ने 18वें एशियाई खेलों में भारत के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के बाद खिलाड़ियों के सामने अब 2020 के टोक्यो ओलम्पिक में दोहरी संख्या में पदक जीतने का लक्ष्य रख दिया है।

 Sharesee more..
image