Saturday, Nov 17 2018 | Time 14:20 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ओरेकल चैलेंजर के सेमीफाइनल में हारे पेस
  • अफगानिस्तान में सात आतंकवादी मारे गए, तीन सुरक्षाकर्मियों की मौत
  • प्रदेश महिला कांग्रेस उपाध्यक्ष स्पर्धा चौधरी पार्टी से निष्कासित
  • भाजपा की राजस्थान के लिए तीसरी सूची
  • छह लाख रुपये रिश्वत लेते अपर समाहर्ता गिरफ्तार
  • छियासठ साल से कोटा के किले में कांग्रेस का तिलिस्म बरकरार
  • बिहार में पहली बार ‘सारंग’ का एयर शो 20 नवंबर से, अभ्यास शुरू
  • उज्जैन में जीतने-हारने वालों के अलावा सभी प्रत्याशियों की जमानत होती है जब्त
  • एनआईटी श्रीनगर में दो छात्र समूह के बीच झड़पें
  • टिकट नहीं मिलने पर बगावत जारी
  • राजस्थान में भी उत्तर प्रदेश की राह पर भाजपा, अब तक एक भी मुस्लिम को टिकट नहीं
  • कमलनाथ ने बताया भाजपा के दृष्टि पत्र को झूठ का पुलिंदा
  • कश्मीर राजमार्ग पर एक तरफ यातायात खुला, लेह
  • न्यायमूर्ति एपी साही बने पटना उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश
  • जोकोविच और एंडरसन में सेमीफाइनल मुकाबला
खेल Share

पदक देखकर सारा अपमान भूल गयी: दुती

पदक देखकर सारा अपमान भूल गयी: दुती

जकार्ता , 27 अगस्त (वार्ता) चार साल पहले की बात है जब ओड़िशा की एथलीट दूती चंद को जेंडर विवाद के चलते भारत की ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों की टीम से बाहर कर दिया गया था लेकिन जीवट और हौंसले की धनी इस एथलीट ने 18वें एशियाई खेलों में महिलाओं की 100 मीटर स्पर्धा का रजत जीतकर अपना खोया सम्मान वापिस पा लिया।

दुती ने अपने करियर में एक ऐसा दौर गुजारा था जब उन्हें हर पल अपमान भरे शब्दों से गुजरना पड़ता था। यह ऐसा समय था जो किसी भी खिलाड़ी को मनोवैज्ञानिक रूप से तोड़ सकता था। उनके अपने गांव के लोग पूछते थे कि क्या वह पुरूष हैं। किसी भी महिला एथलीट के लिये यह सबसे अपमानजनक शब्द हो सकते थे लेकिन दुती ने ऐसे प्रतिकूल हालात से निकलकर जो वापसी की और जैसा प्रदर्शन उन्होंने कल जकार्ता में 100 मीटर के फाइनल में किया वह भारतीय खेल इतिहास में स्वर्णाक्षरों में दर्ज हो गया।

22 साल की दुती को लंबे समय तक ऐसी परिस्थितियों में जीना पड़ा था जब स्वभाविक रूप से उनका टेस्टोस्टोरोन स्तर ऊंचा हो जाता था और उनपर पुरूष होने का आरोप लगा था जिसके चलते वह एक साल तक अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रतियोगिताओं में हिस्सा नहीं ले पायी थीं। उनकी अपील पर लुसाने स्थित खेल मध्यस्थता अदालत ने उनपर लगा आईएएएफ का प्रतिबंध हटा दिया था जिससे वह 2016 के रियो ओलंपिक में हिस्सा ले पायी थीं।

दुती ने फाइनल में 11.32 सेकंड का समय लिया और स्वर्ण विजेता एडिडियोंग ओडियोंग के 11.30 सेकंड के समय से मामूली अंतर से पिछड़कर रजत जीता। स्पर्धा समाप्त होने के बाद विजेताओं के लिए फोटो फिनिश का सहारा लिया गया जिसमें दुती का नाम दूसरे स्थान पर आते ही भारतीय एथलीट ने तिरंगा अपने कंधों पर उठा लिया। दुती के लिए यह पदक गौरव का क्षण था।

दुती इस तरह देश की महान एथलीट पी टी उषा के 1986 के सोल एशियाई खेलों में 100 मीटर में रजत पदक जीतने के बाद यह कारनामा करने वाली पहली भारतीय एथलीट बनीं। उन्होंने अपनी स्पर्धा में पदक हासिल करने के बाद कहा,“ मैं अब आपको बता सकती हूं कि मैं कैसा महसूस कर रही हूं। जब मां एक बच्चे को जन्म देती है तो उस समय वह भूल जाती है कि वह कैसी पीड़ा से गुजरी थी। मेरे अंदर भी उसी तरह की अनुभूति है।”

उन्होंने कहा,“ इस पदक से मैं अपने सारे दर्द और अपमान को भूल चुकी हूं। मेरे लिये यह बहुत बड़ा क्षण है। वे कड़वी यादें मुझे इससे पहले तक बहुत परेशान किया करती थीं, लोग पता नहीं क्या क्या कहते थे लेकिन मैंने हर किसी को नज़रअंदाज़ किया और सिर्फ अपने अभ्यास पर ध्यान लगाया। मैंने ईश्वर पर से भरोसा नहीं खोया।”

ओड़िशा की इस एथलीट ने कहा,“ मैं रोजाना छह घंटे अभ्यास करती थी। मैंने स्वर्ण पाने के लिये अपना सबकुछ झोंक दिया लेकिन ईश्वर की मर्जी से मुझे रजत पदक मिला। मैं खुश हूं।” दूती 1980 के बाद से 2016 के रियो ओलंपिक में 100 मीटर में हिस्सा लेने वाली पहली भारतीय महिला एथलीट बनी थीं।

उन्होंने अपनी कानूनी टीम को भी इस पदक के लिये धन्यवाद किया जिन्होंने कैस में उनका मामला लड़ा था।

 

More News
जोकोविच और एंडरसन में सेमीफाइनल मुकाबला

जोकोविच और एंडरसन में सेमीफाइनल मुकाबला

17 Nov 2018 | 1:57 PM

लंदन, 17 नवंबर (वार्ता) सर्बियाई खिलाड़ी नोवाक जोकोविच सत्र के आखिरी टेनिस टूर्नामेंट एटीपी फाइनल्स के सेमीफाइनल में दक्षिण अफ्रीका के केविन एंडरसन की चुनौती का सामना करेंगे जबकि अंतिम चार के अन्य मुकाबले में रोजर फेडरर और एलेक्सांद्र ज्वेरेव भिड़ेंगे।

 Sharesee more..

17 Nov 2018 | 1:35 PM

 Sharesee more..

17 Nov 2018 | 1:35 PM

 Sharesee more..
गुजरात ने बंगाल के वारियर्स को धो डाला

गुजरात ने बंगाल के वारियर्स को धो डाला

16 Nov 2018 | 9:52 PM

अहमदाबाद, 16 नवम्बर (वार्ता) के प्रपंजन (9) और अजय कुमार (6) के शानदार प्रदर्शन से गुजरात फार्च्यूनजायंट्स ने अपना विजय अभियान जारी रखते हुए बंगाल वारियर्स को शुक्रवार को 35-23 से हराकर प्रो कबड्डी के छठे सत्र में अपनी सातवीं जीत दर्ज की।

 Sharesee more..
मनीषा और सरिता के मुक्कों से निकली जीत

मनीषा और सरिता के मुक्कों से निकली जीत

16 Nov 2018 | 9:52 PM

नयी दिल्ली, 16 नवंबर (वार्ता) भारत की 21 वर्षीय मनीषा मौन और अनुभवी मुक्केबाज एल सरिता देवी ने आईजी स्टेडियम स्थित केडी जाधव हाल में चल रही आईबा महिला विश्व मुक्केबाजी प्रतियोगिता में शुक्रवार को विजयी शुरुआत करते हुए दूसरे दौर में प्रवेश कर लिया।

 Sharesee more..
image