Saturday, May 27 2017 | Time 17:35 Hrs(IST)
image
  • फ्लेगशिप योजनाओं के प्रभावी क्रियान्वयन के निर्देश
  • मिस्र ने आतंकवादियों के प्रशिक्षण शिविरों पर किए हवाई हमले
  • तमिलनाडु में सड़क दुर्घटना, पांच की मौत,25 घायल
  • ....
  • इटावा के फिशर वन मे लगी आग, हजारों पेड जलकर खाक
  • दिव्यांगों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए सरकार कृतसंकल्पित-गहलोत
  • माओवादियों को फांसी की सजा देने वाले न्यायाधीश को जान से मारने की धमकी
  • महेश क्वार्टरफाइनल में हारकर बाहर
  • वाराणसी में छात्र-छात्रों ने किया योगी का विरोध
  • अमेठी में सड़क दुर्घटना में दो लोगों की मृत्यु
  • खुले में शौच मुक्त जिलों में गुजरात आगे ,बिहार का कोई जिला नहीं
  • जम्मू कश्मीर को मिली पहली फुटबॉल अकादमी
  • बाजार भाव दो अंतिम जबलपुर
  • जबलपुर बाजार भााव
  • ....
फीचर्स Share

गांधी ने सिखाया था राजेन्द्र बाबू, कृपलानी और अनुग्रह बाबू को भोजन बनाना

गांधी ने सिखाया था राजेन्द्र बाबू, कृपलानी और अनुग्रह बाबू को भोजन बनाना

(चंपारण सत्याग्रह के सौ साल पर विशेष)

नयी दिल्ली 14 अप्रैल (वार्ता) आजादी के आंदोलन को नयी दिशा एवं गति देने के लिए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के ऐतिहासिक चंपारण सत्याग्रह की एक विशेषता यह भी है कि राष्ट्रपिता ने राजेंद्र बाबू,आचार्य कृपलानी और अनुग्रह बाबू को इस दौरान भोजन बनाना भी सिखा दिया था। गांधी जी ने उस इलाके में दस महीने रहकर ऐतिहासिक चंपारण आन्दोलन की शुरुआत की जो देश की आज़ादी का पहला सत्याग्रह साबित हुआ। इस दौरान गांधी जी ने राजेंद्र बाबू, आचार्य कृपलानी और अनुग्रह बाबू जैसे नेताओं को अपना काम नौकरों से करवाने की आदत छुड़वा दी और उन्हें खाना बनाना, अपने कपड़े खुद धोना एवं घर के अन्य काम खुद करना सीखा दिया। चंपारण आन्दोलन के दौरान गांधी जी ने चार स्कूल खोले और एक गोशाला भी खोली। यह कहना है चंपारण आन्दोलन की अध्येता, लेखिका एवं समाजसेविका डॉ सुजाता चौधरी का,जिन्होंने चंपारण के आन्दोलन का न केवल इतिहास लिखा है बल्कि गांधी जी से जुड़ी सात किताबें भी लिखीं है और हाल ही में राजकुमार शुक्ल पर उनका एक उपन्यास ‘सौ साल’ भी आया है। रासबिहारी मिशन ट्रस्ट की संचालिका डॉ चौधरी ने आज यूनीवार्ता को बताया कि जब गांधी जी दक्षिण अफ्रीका से लौटकर स्वदेश आये तो राजकुमार शुक्ल की लखनऊ कांग्रेस में गांधी जी से मुलाकात हुई थी। वहां गांधी जी से ब्रज किशोरे बाबू भी मिले जो बाद में राजेंद्र बाबू के समधि और जय प्रकाश नारायण के ससुर बने । राजकुमार शुक्ल ने ही गांधी जी को चंपारण में निलहें किसानों पर अंग्रेजो के अत्याचार की दर्दनाक कथा सुनायी थी तभी गांधी जी ने राजकुमार शुक्ल को चंपारण आने का वादा किया था। इसलिए उन्होंने शुक्ल जी को टेलीग्राम किया कि आप कोलकत्ता आ जाएँ वहां से हम आपके साथ चंपारण चलेंगे। कोलकाता में गांधी जी राजेंद्र बाबू से मिले लेकिन राजेंद्र बाबू को पुरी जाना था इसलिए वे पटना नहीं आये। गांधी जी के बेटे हरिलाल गांधी ने दो टिकट पटना के लिए करायी थी। गांधी जी का टिकट नंबर का पता नहीं लेकिन शुक्ल जी ने अपनी डायरी में अपना टिकट नंबर 3950 लिखा। दोनों नौ अप्रैल को कोलकत्ता से चले ट्रेन तीन बजकर 26 मिनट पर रवाना हुई। गांधी जी जब 10 अप्रैल 1917 को पटना स्टेशन पर बिहार के किसान राजकुमार शुक्ल जी के साथ आये थे तो वहां कोई व्यक्ति उनके स्वागत में नहीं आया था। किसी को उनके आने की जानकारी भी नहीं थी। उन्होंने बताया कि शुक्ल जी गांधी जी को ठहराने के लिए उन्हें लेकर राजेंद्र बाबू की अनुपस्थिति में उनके घर ले आये जो उन दिनों किराये के एक मकान में रहते थे, लेकिन राजेंद्र बाबू के नौकर ने उन्हें कमरे में ठहरने और गुसलखाने का इस्तेमाल करने से मना कर दिया क्योंकि गांधी जी जाति के बनिया थे। तब शुक्ल जी मौलाना मज्ररुल हक के पास गए और उन्हें यह बात बताई तब मौलाना साहब खुद अपनी मोटर गाडी से गांधी जी को लेकर अपने घर आये। गांधी जी ने लिखा है कि इस तरह का अपमान उनके जीवन की पहली घटना नहीं थी। बाद में राजेंद्र बाबू को इसकी जानकारी मिली तो उन्होंने गांधी जी से इसके लिए माफी माँगी। उन्होंने बताया कि मौलाना साहब ने 10 अप्रैल को गांधी जी को पटना में घुमाया और गंगा नदी भी ले गए ।उसी दिन गांधी जी स्टीमर से हाजीपुर गए और फिर वहां से मुजफ्फरपुर पहुंचे । तब आचार्य कृपलानी लंगट सिंह कालेज में शिक्षक थे वे छात्रों के साथ उनका स्वागत करने स्टेशन पर पहुंचे । कृपलानी जी नारियल फोड़कर उनका स्वागत करने के लिए खुद नारियल के पेड़ पर चढ़कर नारियल तोड़ लाये और छात्र स्टेशन से हॉस्टल ले जाने के लिए बैल से चलने वाली फिटन ले आये और बैलों को हटाकर खुद फिटन खींचने लगे तब गांधी जी ने उन्हें इस तरह भावुक होकर काम करने से मना कर दिया।

डॉ चौधरी ने बताया कि गांधी जी 11,12,13 अप्रैल को मुज़फ्फरपुर रहकर कमिश्नर और प्लांट एसोसिएशन के लोगों से मिलकर नील की खेती के बारे में जानकारी लेते रहे और फिर 14 अप्रैल को वहां के गरीब लोगों से मिलते जुलते रहे। वह 15 अप्रैल को तीन बजे मोतिहारी पहुंचे जहां से वह वकील गोरख प्रसाद के घर गए। गांधी जी को 16 अप्रैल को लोमराज़ सिंह के गाँव जसौली पट्टी हाथी पर जा रहे थे तो लेकिन बीच रस्ते में दारोगा ने कमिश्नर का नोटिस गांधी जी को दिया। गांधी बीच रस्ते से मोतिहारी लौट गये। लोमराज़ सिंह पर बहुत अत्याचार हुए थे और उन्होंने आत्महत्या की धमकी भी दी थी। गांधी जे ने मोतिहारी पहुँच कर निलहें किसानों से मिलकर उनका बयान लेना शुरू कर दिया और उनके नाम गिरफ्तारी वारंट जारी हो गया जिसके बाद 18 अप्रैल को उन्हें अदालत में पेश किया गया। अदालत में राजेंद्र बाबू और दीनबंधु एंडरूएज़ भी थे। गांधी जी ने अदालत में कहा कि वह सत्य का पता लगाने आये हैं और अगर सच का पता लगाना अपराध है तो मैं अपराधी हूँ, जज गांधी जी के साहस और बेबाकी को देखकर पानी पानी हो गया और उसे पसीना भी आने लगा, बाद में 20 अप्रैल को मुकदमा ख़ारिज हो गया। गांधी जी ने 20 अप्रैल को सत्याग्रह की पहली विजय मनायी। 18 जून को पत्नी कस्तूबा गांधी अौर पुत्र देवदास गांधी भी चंपारण आये थे। इस दौरान गांधी जी जी ने राजेंद्र बाबू कृपलानी आदि के नौकरों को भगा दिया और सबको अपना काम खुद करने को कहा । कृपलानी रोटी बनाने लगे और राजेंद्र बाबू अनुग्रह बाबू खुद खाना बनाने लगे । इस तरह दस महीने उस इलाके में रहकर गांधी जी ने यह लडाई लड़ी। इस दौरान वह बीच बीच में रांची और पटना जाते रहे और एक बार अहमदाबाद भी गए। गांधी जी ने सात अक्तूबर को बेतिया में गोशाला भी खोली और 14 नवंबर को बडहरवा में स्कूल की नींव भी रखी। अंत में वह 24 जून 1918 को सत्याग्रह समाप्त कर बिहार से चले गए इस दस माह के आन्दोलन से पूरे देश में उनकी ख्याति फ़ैल गयी और वे आज़ादी की लड़ाई के नायक बन गए । इस तरह चंपारण की ऐतिहासिक लडाई लड़ी गयी । जिसे सौ साल बाद पूरा देश याद कर रहा है।

'विस्तृत समाचार के लिए हमारी सेवाएं लें।'
मुख्य समाचार
माॅरीशस के प्रधानमंत्री का राष्ट्रपति भवन में रस्मी स्वागत

माॅरीशस के प्रधानमंत्री का राष्ट्रपति भवन में रस्मी स्वागत

नयी दिल्ली, 27 मई (वार्ता) मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद कुमार जगन्नाथ का आज राष्ट्रपति भवन में रस्मी स्वागत किया गया।

   
आगे देखे..27 May 2017 | 11:10 AM
नीतीश शरीक हुए मोदी के भोज में

नीतीश शरीक हुए मोदी के भोज में

नयी दिल्ली, 27 मई (वार्ता) बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल (यूनाइटेड):जदयू: के प्रमुख नीतीश कुमार आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रवीन्द्र कुमार जगन्नाथ के सम्मान में दिये गये भोज में शरीक हुये, पटना से आज यहां पंहुचे श्री कुमार ने संवाददाताओं से कहा कि श्री मोदी ने इस भोज में शामिल होने के लिए उन्हें आमंत्रित किया है।

   
आगे देखे..27 May 2017 | 4:06 PM
सेना किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार: जेटली

सेना किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार: जेटली

यी दिल्ली 27 मई (वार्ता) रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने पाकिस्तान को कड़ी चेतावनी देते हुए आज कहा कि सेना किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है और पाकिस्तान ने जो किया है, उसका परिणाम उसे भुगतना पड़ेगा।

   
आगे देखे..27 May 2017 | 4:34 PM
देश ने पंडित नेहरू को दी श्रद्धांजलि

देश ने पंडित नेहरू को दी श्रद्धांजलि

नयी दिल्ली, 27 मई (वार्ता) राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी, उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह तथा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को उनकी 53वीं पुण्यतिथि पर आज श्रद्धांजलि अर्पित की।

   
आगे देखे..27 May 2017 | 4:06 PM
कश्मीर में घुसपैठ का प्रयास विफल, छह आतंकवादी मारे गये

कश्मीर में घुसपैठ का प्रयास विफल, छह आतंकवादी मारे गये

श्रीनगर, 27 मई (वार्ता) जम्मू-कश्मीर में बारामूला जिले के उरी क्षेत्र में सुरक्षा बलों ने नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ के एक और प्रयास को विफल करते हुए छह सशस्त्र आतंकवादियों को मार गिराया है।

   
आगे देखे..27 May 2017 | 1:49 PM
शब्बीरपुर में राहुल की ‘नो एंट्री’

शब्बीरपुर में राहुल की ‘नो एंट्री’

सहारनपुर 27 मई (वार्ता) जातीय हिंसा का दंश झेल रहे उत्तर प्रदेश में सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में व्याप्त तनाव के मद्देनजर सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुये जिला प्रशासन ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को आज गांव जाने से रोक दिया, श्री गांधी ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बबलू कुमार से पूछा, “मुझे किस कानून के तहत रोका गया।

   
आगे देखे..27 May 2017 | 4:14 PM
कपिल का दवा खरीद में 300 करोड़ रुपये घोटाले का आरोप

कपिल का दवा खरीद में 300 करोड़ रुपये घोटाले का आरोप

नयी दिल्ली, 27 मई (वार्ता) मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर लगातार आरोप लगा रहे दिल्ली के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने राज्य सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय में दवाइयों की खरीद में 300 करोड़ रुपये का घोटाला होने का आरोप लगाया है।

   
आगे देखे..27 May 2017 | 1:16 PM
मुठभेड़ में हिजबुल कमांडर समेत तीन आतंकवादी ढेर

मुठभेड़ में हिजबुल कमांडर समेत तीन आतंकवादी ढेर

श्रीनगर, 27 मई (वार्ता) जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले के एक गांव में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ में हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर सब्जार भट समेत तीन आतंकवादी मारे गये हैं, सब्जार को पिछले वर्ष जुलाई में अनंतनाग में मारे गये हिजबुल कमांडर बुरहान वानी की जगह कमांडर बनाया गया था।

   
आगे देखे..27 May 2017 | 4:06 PM

अफगानिस्तान में बम विस्फोट और मुठभेड में 50 लोगों की मौत

काबुल, 27 मई (रायटर) अफगानिस्तान में आज रमजान के पहले दिन एक आत्मघाती हमले में 14 लोग और सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में 22 आतंकवादियों समेत कम से कम 36 लोग मारे गये।

   
आगे देखे..27 May 2017 | 1:56 PM
हत्या के लिए मवेशियों के खरीद-फरोख्त पर रोक

हत्या के लिए मवेशियों के खरीद-फरोख्त पर रोक

नयी दिल्ली 27 मई (वार्ता) केन्द्र सरकार ने मांस कारोबार के लिये गाय और भैंस की हत्या और बिक्री पर रोक लगा दी है।

   
आगे देखे..27 May 2017 | 10:26 AM
उत्तरप्रदेश में औद्योगिक क्षेत्रों के लिए तैयार होगा कुशल कार्यबल

उत्तरप्रदेश में औद्योगिक क्षेत्रों के लिए तैयार होगा कुशल कार्यबल

13 May 2017 | 4:28 PM

नयी दिल्ली 13 मई (वार्ता) कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री राजीव प्रताप रूडी से उत्तरप्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने आज यहां मुलाकात की और राज्य में कौशल विकास से संबंधित गतिविधियों पर चर्चा की। दोनों मंत्रियों ने

भारतीय एवं विश्व इतिहास में 27 मई की प्रमुख घटनाएं

भारतीय एवं विश्व इतिहास में 27 मई की प्रमुख घटनाएं

27 May 2017 | 8:35 AM

नयी दिल्ली, 26 मई (वार्ता) भारतीय एवं विश्व इतिहास में 27 मई की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं: 1538 - जेनेवा में धर्मसुधार आंदोलन के प्रणेता जाॅन केल्विन और उनके शिष्यों को शहर से निकाला गया। 1805 - नेपोलियन बोनापार्ट इटली के सम्राट बने। 1896 -

घर बैठे जानिए कैंसर के बारे में

घर बैठे जानिए कैंसर के बारे में

14 May 2017 | 12:34 PM

नयी दिल्ली,14 मई (वार्ता) अगर आप घर बैठे यह जानना चाहते हैं कि कैंसर से पीड़ित हैं या नहीं और अगर कैंसर है तो किस अवस्था में हैं तो उसका पता आप 24 घंटे के भीतर लगा सकते हैं। मुम्बई के मशहूर टाटा कैंसर हॉस्पिटल ने नव्या विशेषज्ञ सलाह

image