Wednesday, Jul 26 2017 | Time 16:05 Hrs(IST)
image
  • देशी की सुरक्षा के लिए सेना पूरी तरह सक्षम-मेजर जनरल रावत
  • जहर खाने से दम्पति की मौत , एक अन्य बीमार
  • बयान वापस लें गेहलाते वर्ना अहमद पटेल को वोट नहीं दूंगा - वाघेला
  • विपक्ष के हंगामे के कारण लोकसभा की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित
  • नमस्ते कनाडा में काम करने को रोमांचित हैं परिणीति
  • नमस्ते कनाडा में काम करने को रोमांचित हैं परिणीति
  • भाई-भतीजावाद पर राय नही रखना चाहती हैं विद्या
  • भाई-भतीजावाद पर राय नही रखना चाहती हैं विद्या
  • ....
  • एएफसी ने कतर को क्वालिफायर की दी अनुमति
  • नमस्ते कनाडा में काम करने को रोमांचित हैं परिणीति
  • अमेरिका के नये प्रतिबंध का जवाब देगा ईरान
  • भाई-भतीजावाद पर राय नही रखना चाहती हैं विद्या
  • 56 अंक चढ़कर पहली बार 10 हजार अंक के पार बंद हुआ निफ्टी, सेंसेक्स 154 अंक उछलकर नये रिकॉर्ड स्तर पर
  • गोल्फ क्लब मामले में प्राथमिकी दर्ज होने पर ही कार्रवाई: रिजिजू
फीचर्स Share

गांधी ने सिखाया था राजेन्द्र बाबू, कृपलानी और अनुग्रह बाबू को भोजन बनाना

गांधी ने सिखाया था राजेन्द्र बाबू, कृपलानी और अनुग्रह बाबू को भोजन बनाना

(चंपारण सत्याग्रह के सौ साल पर विशेष)

नयी दिल्ली 14 अप्रैल (वार्ता) आजादी के आंदोलन को नयी दिशा एवं गति देने के लिए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के ऐतिहासिक चंपारण सत्याग्रह की एक विशेषता यह भी है कि राष्ट्रपिता ने राजेंद्र बाबू,आचार्य कृपलानी और अनुग्रह बाबू को इस दौरान भोजन बनाना भी सिखा दिया था। गांधी जी ने उस इलाके में दस महीने रहकर ऐतिहासिक चंपारण आन्दोलन की शुरुआत की जो देश की आज़ादी का पहला सत्याग्रह साबित हुआ। इस दौरान गांधी जी ने राजेंद्र बाबू, आचार्य कृपलानी और अनुग्रह बाबू जैसे नेताओं को अपना काम नौकरों से करवाने की आदत छुड़वा दी और उन्हें खाना बनाना, अपने कपड़े खुद धोना एवं घर के अन्य काम खुद करना सीखा दिया। चंपारण आन्दोलन के दौरान गांधी जी ने चार स्कूल खोले और एक गोशाला भी खोली। यह कहना है चंपारण आन्दोलन की अध्येता, लेखिका एवं समाजसेविका डॉ सुजाता चौधरी का,जिन्होंने चंपारण के आन्दोलन का न केवल इतिहास लिखा है बल्कि गांधी जी से जुड़ी सात किताबें भी लिखीं है और हाल ही में राजकुमार शुक्ल पर उनका एक उपन्यास ‘सौ साल’ भी आया है। रासबिहारी मिशन ट्रस्ट की संचालिका डॉ चौधरी ने आज यूनीवार्ता को बताया कि जब गांधी जी दक्षिण अफ्रीका से लौटकर स्वदेश आये तो राजकुमार शुक्ल की लखनऊ कांग्रेस में गांधी जी से मुलाकात हुई थी। वहां गांधी जी से ब्रज किशोरे बाबू भी मिले जो बाद में राजेंद्र बाबू के समधि और जय प्रकाश नारायण के ससुर बने । राजकुमार शुक्ल ने ही गांधी जी को चंपारण में निलहें किसानों पर अंग्रेजो के अत्याचार की दर्दनाक कथा सुनायी थी तभी गांधी जी ने राजकुमार शुक्ल को चंपारण आने का वादा किया था। इसलिए उन्होंने शुक्ल जी को टेलीग्राम किया कि आप कोलकत्ता आ जाएँ वहां से हम आपके साथ चंपारण चलेंगे। कोलकाता में गांधी जी राजेंद्र बाबू से मिले लेकिन राजेंद्र बाबू को पुरी जाना था इसलिए वे पटना नहीं आये। गांधी जी के बेटे हरिलाल गांधी ने दो टिकट पटना के लिए करायी थी। गांधी जी का टिकट नंबर का पता नहीं लेकिन शुक्ल जी ने अपनी डायरी में अपना टिकट नंबर 3950 लिखा। दोनों नौ अप्रैल को कोलकत्ता से चले ट्रेन तीन बजकर 26 मिनट पर रवाना हुई। गांधी जी जब 10 अप्रैल 1917 को पटना स्टेशन पर बिहार के किसान राजकुमार शुक्ल जी के साथ आये थे तो वहां कोई व्यक्ति उनके स्वागत में नहीं आया था। किसी को उनके आने की जानकारी भी नहीं थी। उन्होंने बताया कि शुक्ल जी गांधी जी को ठहराने के लिए उन्हें लेकर राजेंद्र बाबू की अनुपस्थिति में उनके घर ले आये जो उन दिनों किराये के एक मकान में रहते थे, लेकिन राजेंद्र बाबू के नौकर ने उन्हें कमरे में ठहरने और गुसलखाने का इस्तेमाल करने से मना कर दिया क्योंकि गांधी जी जाति के बनिया थे। तब शुक्ल जी मौलाना मज्ररुल हक के पास गए और उन्हें यह बात बताई तब मौलाना साहब खुद अपनी मोटर गाडी से गांधी जी को लेकर अपने घर आये। गांधी जी ने लिखा है कि इस तरह का अपमान उनके जीवन की पहली घटना नहीं थी। बाद में राजेंद्र बाबू को इसकी जानकारी मिली तो उन्होंने गांधी जी से इसके लिए माफी माँगी। उन्होंने बताया कि मौलाना साहब ने 10 अप्रैल को गांधी जी को पटना में घुमाया और गंगा नदी भी ले गए ।उसी दिन गांधी जी स्टीमर से हाजीपुर गए और फिर वहां से मुजफ्फरपुर पहुंचे । तब आचार्य कृपलानी लंगट सिंह कालेज में शिक्षक थे वे छात्रों के साथ उनका स्वागत करने स्टेशन पर पहुंचे । कृपलानी जी नारियल फोड़कर उनका स्वागत करने के लिए खुद नारियल के पेड़ पर चढ़कर नारियल तोड़ लाये और छात्र स्टेशन से हॉस्टल ले जाने के लिए बैल से चलने वाली फिटन ले आये और बैलों को हटाकर खुद फिटन खींचने लगे तब गांधी जी ने उन्हें इस तरह भावुक होकर काम करने से मना कर दिया।

डॉ चौधरी ने बताया कि गांधी जी 11,12,13 अप्रैल को मुज़फ्फरपुर रहकर कमिश्नर और प्लांट एसोसिएशन के लोगों से मिलकर नील की खेती के बारे में जानकारी लेते रहे और फिर 14 अप्रैल को वहां के गरीब लोगों से मिलते जुलते रहे। वह 15 अप्रैल को तीन बजे मोतिहारी पहुंचे जहां से वह वकील गोरख प्रसाद के घर गए। गांधी जी को 16 अप्रैल को लोमराज़ सिंह के गाँव जसौली पट्टी हाथी पर जा रहे थे तो लेकिन बीच रस्ते में दारोगा ने कमिश्नर का नोटिस गांधी जी को दिया। गांधी बीच रस्ते से मोतिहारी लौट गये। लोमराज़ सिंह पर बहुत अत्याचार हुए थे और उन्होंने आत्महत्या की धमकी भी दी थी। गांधी जे ने मोतिहारी पहुँच कर निलहें किसानों से मिलकर उनका बयान लेना शुरू कर दिया और उनके नाम गिरफ्तारी वारंट जारी हो गया जिसके बाद 18 अप्रैल को उन्हें अदालत में पेश किया गया। अदालत में राजेंद्र बाबू और दीनबंधु एंडरूएज़ भी थे। गांधी जी ने अदालत में कहा कि वह सत्य का पता लगाने आये हैं और अगर सच का पता लगाना अपराध है तो मैं अपराधी हूँ, जज गांधी जी के साहस और बेबाकी को देखकर पानी पानी हो गया और उसे पसीना भी आने लगा, बाद में 20 अप्रैल को मुकदमा ख़ारिज हो गया। गांधी जी ने 20 अप्रैल को सत्याग्रह की पहली विजय मनायी। 18 जून को पत्नी कस्तूबा गांधी अौर पुत्र देवदास गांधी भी चंपारण आये थे। इस दौरान गांधी जी जी ने राजेंद्र बाबू कृपलानी आदि के नौकरों को भगा दिया और सबको अपना काम खुद करने को कहा । कृपलानी रोटी बनाने लगे और राजेंद्र बाबू अनुग्रह बाबू खुद खाना बनाने लगे । इस तरह दस महीने उस इलाके में रहकर गांधी जी ने यह लडाई लड़ी। इस दौरान वह बीच बीच में रांची और पटना जाते रहे और एक बार अहमदाबाद भी गए। गांधी जी ने सात अक्तूबर को बेतिया में गोशाला भी खोली और 14 नवंबर को बडहरवा में स्कूल की नींव भी रखी। अंत में वह 24 जून 1918 को सत्याग्रह समाप्त कर बिहार से चले गए इस दस माह के आन्दोलन से पूरे देश में उनकी ख्याति फ़ैल गयी और वे आज़ादी की लड़ाई के नायक बन गए । इस तरह चंपारण की ऐतिहासिक लडाई लड़ी गयी । जिसे सौ साल बाद पूरा देश याद कर रहा है।

'विस्तृत समाचार के लिए हमारी सेवाएं लें।'
मुख्य समाचार
मोदी ने सैन्य बलों की प्रशंसा की

मोदी ने सैन्य बलों की प्रशंसा की

नयी दिल्ली 26 जुलाई (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने “कारगिल विजय दिवस” के मौके पर सैन्य बलों की देश के लिये त्याग और कौशल की प्रशंसा की है।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 2:25 PM
जेटली के बयान पर विपक्ष का राज्यसभा में हंगामा

जेटली के बयान पर विपक्ष का राज्यसभा में हंगामा

नयी दिल्ली 26 जुलाई (वार्ता) समूचे विपक्ष ने आज राज्यसभा में सदन के नेता अरूण जेटली के विपक्षी नेताओं के बारे में दिये गये एक बयान पर कडी आपत्ति जतायी तथा इसे कार्यवाही से निकाले जाने की मांग की जिससे प्रश्नकाल की कार्यवाही 20 मिनट से भी अधिक समय तक बाधित रही।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 2:24 PM
इराक में लापता 39 भारतीयों की तलाश बंद नहीं होगी -सुषमा

इराक में लापता 39 भारतीयों की तलाश बंद नहीं होगी -सुषमा

नयी दिल्ली 26 जुलाई (वार्ता) विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने संसद को अाज भरोसा दिलाया कि इराक में तीन साल पहले लापता 39 भारतीयों की मृत्यु होने के बारे में जब तक कोई सबूत नहीं मिलता तब तक उनकी फाइल बंद नहीं की जायेगी और ना ही उनकी खोजबीन बंद होगी।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 2:38 PM
कोविंद ने प्रोफेसर यशपाल के निधन पर जताया शोक

कोविंद ने प्रोफेसर यशपाल के निधन पर जताया शोक

नयी दिल्ली 26 जुलाई (वार्ता) राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने प्रख्यात वैज्ञानिक यशपाल के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 12:49 PM
दिल्ली में सड़क हादसे में छह मरे

दिल्ली में सड़क हादसे में छह मरे

नयी दिल्ली.26 जुलाई (वार्ता) पूर्वी दिल्ली से राष्ट्रीय राजमार्ग 24 पर कल्याण पुरी के निकट आज सुबह हुए एक भीषण हादसे में छह लोगों की मौत हो गई और तीन घायल हुए है।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 10:46 AM
जेटली ने कारगिल के शहीदों को दी श्रद्धांजलि

जेटली ने कारगिल के शहीदों को दी श्रद्धांजलि

नयी दिल्ली 26 जुलाई (वार्ता) रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने आज यहां अमर जवान ज्योति पर कारगिल के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 12:49 PM
नायडू पर लगे आरोपों का जवाब दे मोदी : कांग्रेस

नायडू पर लगे आरोपों का जवाब दे मोदी : कांग्रेस

नयी दिल्ली, 26 जुलाई (वार्ता) कांग्रेस ने आज कहा कि तेलंगाना सरकार ने स्वीकार किया है कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन(राजग) के उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार एम वेंकैया नायडू के पुत्र तथा पुत्री को फायदा पहुंचाने के लिए नियमों का उल्लंघन किया गया है इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इसका जवाब देना चाहिए।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 3:05 PM
वाघेला की जगह गुजरात में नये नेता प्रतिपक्ष बने राठवा ने संभाला पदभार

वाघेला की जगह गुजरात में नये नेता प्रतिपक्ष बने राठवा ने संभाला पदभार

गांधीनगर, 26 जुलाई (वार्ता) गुजरात विधानसभा में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के नेता के तौर पर शंकरसिंह वाघेला के इस्तीफे के बाद कांग्रेस के नये नेता प्रतिपक्ष चुने गये मोहनसिंह राठवा ने आज अपना पदभार संभाल लिया।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 1:59 PM
ठाकुर मामले में हंगामा,लोकसभा की कार्यवाही स्थगित

ठाकुर मामले में हंगामा,लोकसभा की कार्यवाही स्थगित

नयी दिल्ली, 26 जुलाई (वार्ता) लोकसभा में भारतीय जनता पार्टी के सांसद अनुराग ठाकुर के कथितरूप से वीडियो बनाने के मामले में विपक्षी सदस्यों ने उनके निलम्बन की मांग करते हुए आज जबरदस्त हंगामा किया जिसके कारण अध्यक्ष सुमित्रा महाजन को सदन की कार्यवाही 12 बजकर 45 तक के लिए स्थगित करनी पड़ी।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 2:45 PM
जम्मू से अमरनाथ यात्रियों का नया जत्था रवाना

जम्मू से अमरनाथ यात्रियों का नया जत्था रवाना

जम्मू 26 जुलाई (वार्ता) दक्षिण कश्मीर में पवित्र गुफा के लिए दर्शन आज यहां यात्री निवास आधार शिविर से 473 श्रद्धालुओं का नया जत्था रवाना हुआ।

   
आगे देखे..26 Jul 2017 | 12:49 PM
सांसद स्‍टार्टअप के लिए सहकार्य स्‍थल स्‍थापित करें: सीतारमण

सांसद स्‍टार्टअप के लिए सहकार्य स्‍थल स्‍थापित करें: सीतारमण

28 Jun 2017 | 7:50 PM

नयी दिल्ली 28 जून (वार्ता) केन्द्रीय वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज सभी सांसदों से अपनी स्‍थानीय क्षेत्रीय विकास निधि (एमपीएलएडीएस) से अपने क्षेत्र में स्‍टार्टअप के लिए सह-कार्यस्‍थल/ इन्‍क्‍यूबेटर स्&zwj

भारतीय एवं विश्व इतिहास में 26 जुलाई की प्रमुख घटनाएं

भारतीय एवं विश्व इतिहास में 26 जुलाई की प्रमुख घटनाएं

26 Jul 2017 | 10:46 AM

नयी दिल्ली 26 जुलाई (वार्ता) भारतीय एवं विश्व इतिहास में 26 जुलाई की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं: 1614- जहाँगीर ने मेवाड़ के राणा का स्वागत किया। 1826- लिथुआनिया की हिंसा में कई यहूदी मरे। 1844 - भारत के एक प्रमुख जाने-माने शिक्षाशास्त्री

अजमेर में साइंस पार्क स्थापना की सैद्धान्तिक मंजूरी

अजमेर में साइंस पार्क स्थापना की सैद्धान्तिक मंजूरी

27 Jun 2017 | 7:44 PM

जयपुर, 27 जून (वार्ता) केंद्र सरकार ने राजस्थान के अजमेर में साइंस पार्क की स्थापना के लिये सैद्धान्तिक मंजूरी दी है। केंद्रीय पर्यटन राज्य मंत्री डॉ. महेश शर्मा ने राज्य के शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी के आज नई दिल्ली में उनसे मिलकर

image