Monday, Jul 22 2019 | Time 17:52 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कर्नाटक विस में सोमवार शाम तक विश्वास प्रस्ताव पर होगा मतदान: रमेश कुमार
  • चांद पर उतरने की भारत की ऐतिहासिक यात्रा की शुरुआत: सिवन
  • पाँच वर्षों में प्रोटीन बार उद्योग 1000 करोड़ रुपये का
  • एशेज के लिये ख्वाजा के फिट होने की उम्मीद: पेन
  • एशेज के लिये ख्वाजा के फिट होने की उम्मीद: पेन
  • कर्नाटक विस में सोमवार शाम तक विश्वास प्रस्ताव पर होगा मतदान: रमेश कुमार
  • बठिंडा थर्मल प्लांट फिर से शुरू किया जाए : आप
  • ले जनरल नरवाने नये सेना उप प्रमुख नियुक्त
  • सेल ने चन्द्रयान -2 के लिए मुहैया करायी विशेष स्टील
  • मैंने भ्रष्टाचारियों को मारने की बात गुस्से में कही: मलिक
  • हापुड़ में भीषण सड़क हादसे में नौ बच्चों समेत दस बरातियों की मृृत्यु,17 घायल
  • मध्यप्रदेश के कई जिलों में बिजली गिरने की चेतवानी
  • इनेलो ने कीं अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ अध्यक्षों के नियुक्तियां
  • मानवाधिकार आयोग में महिला सदस्य के शामिल करने का स्वागत
Parliament


सरकार ने बजट को चुनावी हथियार बनाया: विपक्ष

सरकार ने बजट को चुनावी हथियार बनाया: विपक्ष

नयी दिल्ली, 11 फरवरी (वार्ता) विपक्षी दलों ने अंतरिम बजट को सरकार का चुनावी बजट करार दिया और आरोप लगाया कि उसकी नियत सही होती तो इस बजट की लोकप्रिय घोषणाओं को पिछले पांच बजटों में शामिल किया जा सकता था।
लोकसभा में सोमवार को वर्ष 2019-20 के लिए अंतरिम बजट पर चर्चा की शुरुआत करते हुए अन्नाद्रमुक के थम्बी दुरई ने कहा कि बजट में घोषणाएं बहुत की गयी हैं लेकिन सरकार ने पिछले पांच साल के दौरान उन मुद्दों पर ध्यान नहीं दिया है जिनके जरिए इस बजट को लोकप्रिय बनाने का प्रयास किया गया है। उन्होंने कहा कि इस सरकार ने अब तक पांच बजट पेश किए हैं लेकिन किसी को इस तरह से लोकप्रिय बनाने का काम नहीं हुआ है। इसमें की गयी घोषणाओं का मतलब है कि चुनाव को ध्यान में रखते हुए यह बजट तैयार किया गया है।
उन्होंने कहा कि बजट में निश्चितरूप से सुधार के लिए कदम उठाए गए हैं लेकिन सच्चाई इसके ठीक विपरीत है। देश में बेरोजगारी चरम पर है और मोदी सरकार में बेरोजगारी का 45 साल में सबसे ज्यादा हुई है। कृषि क्षेत्र के लिए भी सरकार ने बजट में कदम उठाए हैं लेकिन देश में तीन लाख किसानों ने आत्महत्या की है उसे रोकने के लिए कुछ नहीं किया गया है। बजट में किसानों को छह हजार रुपए हर साल देने की घोषणा की गयी है लेकिन यह राशि बहुत कम है और इसको कम से कम दोगुना किया जाना चाहिए था।
अन्नाद्रमुक नेता ने कहा कि गांव में लोगों को रोजगार देने के लिए मनरेगा एक महत्वपूर्ण योजना थी लेकिन उसको ठीक तरह से क्रियान्वित नहीं किया जा रहा है। उसका पौसा ठेकेदार खा रहे हैं और लोग पूछ रहे हैं कि इसे रोकने के लिए कदम क्यों नहीं उठाए जा रहे हैं। सरकार ने मेक ‘इन इंडिया’ जैसे कार्यक्रम शुरू किए हैं लेकिन चीन और बंगलादेश में निर्मित सामान से बाजार पटा पड़ा है। उसके रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाए जा रहे हैं।
अभिनव सत्या
जारी वार्ता

More News
सूचना के अधिकार को कमजोर कर रही सरकार: विपक्ष

सूचना के अधिकार को कमजोर कर रही सरकार: विपक्ष

22 Jul 2019 | 5:12 PM

नयी दिल्ली, 22 जुलाई (वार्ता) कांग्रेस सहित विपक्षी दलों ने सरकार पर सूचना का अधिकार कानून को कमजोर करने का आरोप लगाते हुए सोमवार को कहा कि उसकी मंशा मनमाने तरीके से काम करने की है ताकि सरकार के काम की सूचना किसी को नहीं मिल सके।

see more..
राज्यसभा में विपक्ष का हंगामा, कार्यवाही तीन बजे तक स्थगित

राज्यसभा में विपक्ष का हंगामा, कार्यवाही तीन बजे तक स्थगित

22 Jul 2019 | 3:20 PM

नयी दिल्ली 22 जनवरी (वार्ता) कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस , समाजवादी पार्टी और वाम दलों के सदस्यों ने कर्नाटक के घटनाक्रम, सोनभद्र में हिंसा और मानवाधिकारों के मुद्दे पर आज राज्यसभा में जोरदार हंगामा किया जिससे सदन की कार्यवाही दो बार के स्थगन के बाद तीसरी बार तीन बजे तक स्थगित करनी पड़ी।

see more..
image