Tuesday, Feb 19 2019 | Time 08:31 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 20 फरवरी)
  • अमेरिका में तीन बच्चे सहित मृत पायी गयी महिला
  • अमेरिका में आपातकाल की घोषणा के विरोध में देश व्यापी प्रदर्शन
  • अल अजहर ने की नाइजीरिया में हुए आत्मघाती हमले की निंदा
  • मिस्र: बम विस्फोट में दो पुलिसकर्मी, एक आतंकवादी की मौत
  • सीरिया में आतंकवादी हमले में दो लोगों की मौत
  • तुर्की में यिल्दिरिम ने की इस्तीफा देने की घोषणा
  • इराक में आतंकवादियों ने की एक की हत्या और सात का अपहरण
  • यमन में सुरक्षा बलों के साथ झड़प में 10 हौती विद्रोही मारे गए
  • पुड्डुचेरी में बेदी से बातचीत के बाद नारायणसामी का धरना समाप्त
  • बिहार में 17 आईएएस अधिकारियों का तबादला
  • बेकाबू ट्रक की चपेट में आने से नौ लोगों की मौत, 22 घायल
  • भाजपा-शिवसेना गठबंधन ही महाराष्ट्र में ‘केवल विकल्प’: मोदी
भारत Share

राहुल की नासमझी का सरकार के पास कोई उपाय नहीं: जेटली

राहुल की नासमझी का सरकार के पास कोई उपाय नहीं: जेटली

नयी दिल्ली 05 सितम्बर (वार्ता) वित्त मंत्री अरूण जेटली ने राफेल सौदे पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के आरोपों को जानकारी का अभाव अौर उनकी नासमझी करार देते हुए कहा है कि उनके अहम को तुष्ट करने का सरकार के पास कोई उपाय नहीं है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक के बाद संवाददाताओं के सवालों के जवाब में श्री जेटली ने कहा कि यह कांग्रेस की विडंबना है कि उसके मुखिया को यदि किसी चीज की जानकारी नहीं है तो पूरी पार्टी बिना जानकारी के एक ही लाइन पर चल पड़ती है। उन्होंने कहा कि जिस सज्जन को मामले की जानकारी ही नहीं है उसके अहम को तुष्ट करने का कोई उपाय नहीं हो सकता।

वित्त मंत्री ने कहा कि इस सौदे की सबसे बड़ी खासयित यह है कि इसमें सभी 36 विमान फ्रांस से बने बनाये आयेंगे और इनका एक भी पेंच या पुर्जा भारत में नहीं लगाया जायेगा। इसमें निजी या सार्वजनिक क्षेत्र किसी की भी कोई भागीदारी नहीं है। यह दो सरकारों के बीच का सौदा है इसलिए इसमें भ्रष्टाचार की गुंजाइश नहीं है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस की यह पिछडी सोच रही है कि रक्षा उपकरणों और हथियारों की खरीद विदेश से ही करनी है और देश में कुछ नहीं बनाना है। हम कांग्रेस की इस सोच से मतभेद रखते हैं। वित्त मंत्री ने कहा कि भाजपा नीत सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के समय में रक्षा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की सीमा 26 प्रतिशत की थी । यह एक प्रयोग था और बाद में इसे 49 फीसदी किया गया। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार की नीतियों के चलते अब दुनिया की बड़ी कंपनियां भारतीय कंपनियों के साथ साझेदारी कर रही हैं जिससे देश में रक्षा उत्पादन की संभावना बढी है। अब रक्षा क्षेत्र की महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकी भी भारतीय कंपनियों को मिलेगी। इससे बाद में देश के निजी क्षेत्र को भी फायदा मिलेगा।

संजीव उनियाल

वार्ता

More News
महिला सुरक्षा के लिए कई योजनाओं की शुरूआत करेंगे राजनाथ

महिला सुरक्षा के लिए कई योजनाओं की शुरूआत करेंगे राजनाथ

18 Feb 2019 | 11:46 PM

नयी दिल्ली 18 फरवरी (वार्ता ) केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह मंगलवार को यहां महिलाओं की सुरक्षा के लिए अनेक योजनाओं की शुरूआत करेंगे।

 Sharesee more..
स्वच्छ यमुना के लिए 1387.71 करोड़ की परियोजनाएं स्वीकृत

स्वच्छ यमुना के लिए 1387.71 करोड़ की परियोजनाएं स्वीकृत

18 Feb 2019 | 11:36 PM

नयी दिल्ली, 18 फरवरी (वार्ता) सरकार ने गंगा को निर्मल बनाने के अपने महत्वाकांक्षी ‘नमामि गंगे’ कार्यक्रम के तहत यमुना तट पर बसे शहरों की गंदगी इसमें जाने से रोकने और इसे स्वच्छ बनाने के लिए 1387.71 करोड़ रुपये की परियोजनाएं स्वीकृत की है।

 Sharesee more..
जिला स्तर पर कारोबार के अनुकूल माहौल बनाने की योजना: प्रभु

जिला स्तर पर कारोबार के अनुकूल माहौल बनाने की योजना: प्रभु

18 Feb 2019 | 11:25 PM

नयी दिल्ली, 18 फरवरी (वार्ता) केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु ने सोमवार को कहा कि सरकार ने जिला स्तर पर कारोबार के अनुकूल माहौल बनाने के लिए एक योजना तैयार की है।

 Sharesee more..
image