Tuesday, Sep 25 2018 | Time 16:55 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पांच दिनों की गिरावट से उबरा शेयर बाजार
  • चुनावी साल में मोदी का मंत्र, मेरा बूथ सबसे मजबूत
  • कार्यकर्ता सीना चौड़ा कर लोगों के बीच जाएं - अमित शाह
  • पुलिस कर्मी की भाभी ने गोली चलाकर की खुदकुशी
  • इंस्टाग्राम के सह-संस्थापक केवन और माइक ने दिया इस्तीफा
  • चुनाव खर्च में अनियमितताओं पर इमरान सहित 141 को नोटिस
  • दीनदयाल के साथ हमें गांधी-लोहिया भी मंजूर - मोदी
  • मुझे सेवा का मौका दीजिए - मोदी
  • ईरान से व्यापार जारी रखने के लिए नयी भुगतान प्रणाली बनायेंगे कई देश
  • देश में गठबंधन में असफल कांग्रेस अब बाहर खोज रही : मोदी
  • सीलमपुर से लापता दो बहनों के शव अलीपुर में मिले
  • पाकिस्तान और बंगलादेश में होगा सेमीफाइनल
  • सैमसंग का ट्रिपल रियर कैमरा स्मार्टफोन भारतीय बाजार में
  • और तेजी से बढ़ेगी बिजली की माँग : सिंह
भारत Share

राहुल की नासमझी का सरकार के पास कोई उपाय नहीं: जेटली

राहुल की नासमझी का सरकार के पास कोई उपाय नहीं: जेटली

नयी दिल्ली 05 सितम्बर (वार्ता) वित्त मंत्री अरूण जेटली ने राफेल सौदे पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के आरोपों को जानकारी का अभाव अौर उनकी नासमझी करार देते हुए कहा है कि उनके अहम को तुष्ट करने का सरकार के पास कोई उपाय नहीं है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक के बाद संवाददाताओं के सवालों के जवाब में श्री जेटली ने कहा कि यह कांग्रेस की विडंबना है कि उसके मुखिया को यदि किसी चीज की जानकारी नहीं है तो पूरी पार्टी बिना जानकारी के एक ही लाइन पर चल पड़ती है। उन्होंने कहा कि जिस सज्जन को मामले की जानकारी ही नहीं है उसके अहम को तुष्ट करने का कोई उपाय नहीं हो सकता।

वित्त मंत्री ने कहा कि इस सौदे की सबसे बड़ी खासयित यह है कि इसमें सभी 36 विमान फ्रांस से बने बनाये आयेंगे और इनका एक भी पेंच या पुर्जा भारत में नहीं लगाया जायेगा। इसमें निजी या सार्वजनिक क्षेत्र किसी की भी कोई भागीदारी नहीं है। यह दो सरकारों के बीच का सौदा है इसलिए इसमें भ्रष्टाचार की गुंजाइश नहीं है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस की यह पिछडी सोच रही है कि रक्षा उपकरणों और हथियारों की खरीद विदेश से ही करनी है और देश में कुछ नहीं बनाना है। हम कांग्रेस की इस सोच से मतभेद रखते हैं। वित्त मंत्री ने कहा कि भाजपा नीत सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के समय में रक्षा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की सीमा 26 प्रतिशत की थी । यह एक प्रयोग था और बाद में इसे 49 फीसदी किया गया। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार की नीतियों के चलते अब दुनिया की बड़ी कंपनियां भारतीय कंपनियों के साथ साझेदारी कर रही हैं जिससे देश में रक्षा उत्पादन की संभावना बढी है। अब रक्षा क्षेत्र की महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकी भी भारतीय कंपनियों को मिलेगी। इससे बाद में देश के निजी क्षेत्र को भी फायदा मिलेगा।

संजीव उनियाल

वार्ता

More News

25 Sep 2018 | 3:40 PM

 Sharesee more..
पाकिस्तान की आड़ में छिपने की बजाय राफेल पर जवाब दे सरकार : कांग्रेस

पाकिस्तान की आड़ में छिपने की बजाय राफेल पर जवाब दे सरकार : कांग्रेस

25 Sep 2018 | 3:08 PM

नयी दिल्ली, 25 सितम्बर (वार्ता) कांग्रेस ने राफेल लड़ाकू विमान सौदे में मोदी सरकार पर पाकिस्तान की आड़ में छिपने और सच्चाई छिपाने के लिए लगातार झूठ बाेलने का आरोप लगाते हुए कहा है कि इस प्रकरण पर अब गुमराह करने नीति नहीं चलेगी इसलिए देश को असलियत बतायी जानी चाहिए।

 Sharesee more..
नवीकरणीय ऊर्जा में जारी रहेगी रिवर्स बिडिंग प्रक्रिया

नवीकरणीय ऊर्जा में जारी रहेगी रिवर्स बिडिंग प्रक्रिया

25 Sep 2018 | 3:02 PM

नयी दिल्ली 25 सितम्बर (वार्ता) सरकार ने सौर तथा पवन ऊर्जा के क्षेत्र में रिवर्स बिडिंग प्रक्रिया के जरिये आवंटन जारी रखने का फैसला किया है।

 Sharesee more..
image