Tuesday, Aug 11 2020 | Time 12:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ताहिर हुसैन की सदस्यता समाप्त करने की मांग
  • आनंदीबेन ने कृष्ण जन्माष्टमी की बधाई दी
  • राजस्थान में सियासी संकट समाप्त
  • मायावती ने बुलंदशहर में एक छात्रा की मौत पर उठाये सवाल
  • राजस्थान में करीब सवा छह सौ नये मामलों के साथ दस और कोरोना मरीजों की मौत
  • कुपवाड़ा में तीन संदिग्ध आतंकवादी गिरफ्तार
  • बुलंदशहर में एसपी क्राईम और एसपी देहात भी कोरोना पॉजिटिव
  • साक्षी महाराज को फोन पर बम से उड़ाने की धमकी
  • मोदी के जल जीवन मिशन से एक साल में जुड़े पांच करोड़ से ज्यादा परिवार
  • अजमेर में अजमेर जेल में 26 कैदियों में कोरोना
  • विश्व में कोरोना संक्रमितों की संख्या दो करोड़ के पार
  • नवादा में व्यवसायी घर डकैती, पुत्र की हत्या
  • देवरिया में सड़क हादसे में बैंककर्मी सहित तीन की मृत्यु
  • शिवहर में किशोर की तलवार से काटकर हत्या
  • केजरीवाल ने अमर शहीद खुदीराम बोस को किया नमन
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


इस बीच फिल्मकारों ने शत्रुध्न सिंहा की लोकप्रियता को देखते हुये उन्हें बतौर अभिनेता अपनी फिल्मों के लिये साइन करना शुरू कर दिया ।वर्ष 1976 में सुभाष घई के बैनर तले बनी फिल्म ..कालीचरण ..वह पहली फिल्म थी जिसमें शत्रुध्न सिंहा की अदाकारी का जादू दर्शकों के सर चढ़कर बोला 1फिल्म में अपनी जबरदस्त संवाद अदायगी और दोहरी भूमिका में शत्रुध्न सिंहा ने अभिनेता के रूप में भी अपनी पहचान बनाने में कामयाब रहे ।
वर्ष 1978 में शत्रुध्न सिंहा के करियर की एक और सुपरहिट फिल्म ..विश्वनाथ ..प्रदर्शित हुयी ।सुभाष घई के बैनर तले बनी इस फिल्म उन्होंने एक वकील का दमदार किरदार निभाया था ।यूं तो इस फिल्म में शत्रुध्न सिंहा के बोले गये कई संवाद लोकप्रिय हुये लेकिन उनका बोला यह संवाद ..जली को आग कहते है बुझी को खाक कहते है .जिस खाक से बारूद बने उसे विश्वनाथ कहते है ..दर्शकों के बीच खासे लोकप्रिय हुये और आज भी उसी शिद्दत के साथ श्रोताओं के बीच सुने जाते है ।
अस्सी के दशक में शत्रुध्न सिन्हा पर आरोप लगने लगे कि वह वल मारधाड़ और एक्शन से भरपूर किरदार ही निभा सकते है लेकिन उन्होंने वर्ष 1981 में ऋषिकेष मुखर्जी निर्देशित फिल्म ..नरम गरम ..में लाजवाब हास्य अभिनय से दर्शकों को रोमांचित कर दिया ।इस फिल्म से जुड़ा एक रोचक तथ्य यह भी है इस फिल्म मे उन्होंने एक गानें में अपनी आवाज भी दी ।
फिल्मों में कई भूमिकाएं निभाने के बाद शत्रुध्न सिंहा ने समाज सेवा के लिए राजनीति में प्रवेश किया और भारतीय जनता पार्टी के सहयोग से लोकसभा सभा सदस्य बने और स्वास्थ्य और जहाजरानी मंत्रालय का कार्यभार संभाला ।शत्रुध्न सिंहा को हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में उन्हें उनके कद के बराबर वह सम्मान नही मिला जिसके वह हकदार है लेकिन उन्हें इस बात का मलाल नही है और वह आज भी उसी जोशो खरोश के साथ फिल्म इंडस्ट्री को सुशोभित कर रहे है ।
प्रेम,जतिन
वार्ता
More News
महाराष्ट्र में कोरोना के 9,181 नये मामले, 6,711 मरीज हुए स्वस्थ

महाराष्ट्र में कोरोना के 9,181 नये मामले, 6,711 मरीज हुए स्वस्थ

10 Aug 2020 | 8:45 PM

मुंबई, 10 अगस्त (वार्ता) देश में कोरोना महामारी से सबसे गंभीर रूप से प्रभावित महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटों के दौरान 9,198 नये मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या सोमवार की रात बढ़कर 5.25 लाख के करीब पहुंच गयी लेकिन राहत की बात यह है कि इस दौरान 6,711 मरीजों के स्वस्थ होने से संक्रमण से मुक्ति पाने वालों की संख्या भी 3.58 लाख से अधिक हो गयी।

see more..
image