Wednesday, Sep 26 2018 | Time 02:30 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • तेलंगाना में रिश्वत लेने के मामले अधिकारी समेत दो गिरफ्तार
  • टाई रहा भारत और अफगानिस्तान का रोमांचक मुकाबला
  • जम्मू निकाय चुनाव के लिए 815 उम्मीदवारों ने भरे पर्चे
  • पश्चिमी पाकिस्तान का शरणार्थी एक प्रतिनिधि मंडल जितेंद्र सिंह से मिला
मनोरंजन Share

भावपूर्ण गीतों से श्रोताओं को दीवाना बनाया गुलशन बावरा ने

भावपूर्ण गीतों से श्रोताओं को दीवाना बनाया गुलशन बावरा ने

..पुण्यतिथि 07 अगस्त के अवसर पर ..

मुंबई 06 अगस्त(वार्ता) बॉलीवुड में गुलशन बावरा को एक ऐसे गीतकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपने भावपूर्ण गीतों से लगभग तीन दशकों तक श्रोताओं को अपना दीवाना बनाया।

हिन्दी भाषा और साहित्य के करिश्माई व्यक्तित्व वाले गुलशन कुमार मेहता उर्फ गुलशन बावरा का जन्म 12 अप्रैल 1937 को लाहौर शहर के निकट शेखपुरा में हुआ था। महज छह वर्ष की उम्र से ही गुलशन बावरा का रूझान कविता लिखने की ओर था । उनकी मां विद्यावती धार्मिक कार्यकलापों के साथ साथ संगीत मे भी काफी रूचि रखती थी । गुलशन बावरा अक्सर मां के साथ भजन.कीर्तन जैसे धार्मिक कार्यक्रमों में जाया करते थे ।

देश के विभाजन के बाद हुये सांप्रदायिक दंगों में उनके माता-पिता की पिता की हत्या उनकी नजरों के सामने ही हो गयी । इसके बाद वह अपनी बड़ी बहन के पास दिल्ली आ गये । गुलशन बावरा ने अपनी स्नातक की पढ़ाई दिल्ली

विश्वविद्यालय से पूरी की। कॉलेज की पढ़ाई के दौरान उनकी रूचि कविता लिखने में हो गयी। अपने परिवार की घिसी पिटी परंपरा को निभाते हुये गुलशन मेहता ने वर्ष 1955 में अपने कैरियर की शुरूआत मुंबई में एक लिपिक की नौकरी से की । उनका मानना था कि सरकारी नौकरी करने से उनका भविष्य सुरक्षित रहेगा । लिपिक की नौकरी उनके स्वभाव के अनुकूल नहीं थी । गुलशन मेहता ने रेलवे में लिपिक की नौकरी छोड़ दी और अपना ध्यान फिल्म इंडस्ट्री की ओर लगाना शुरू कर दिया । फिल्म इंडस्ट्री में उन्हें कई कठिनाइयो का सामना करना पड़ा । उन्होंने अपना संघर्ष जारी रखा और कई छोटे बजट की फिल्में भी की जिनसे उन्हें कुछ खास फायदा नही हुआ।

इस बीच गुलशन की मुलाकात संगीतकार जोड़ी कल्याण जी- आनंद जी से हुयी जिनके संगीत निर्देशन में लिये गुलशन मेहता ने फिल्म सट्टा -बाजार के लिये ..तुम्हे याद होगा कभी हम मिले थे .. गीत लिखा लेकिन इस फिल्म

के जरिये वह कुछ खास पहचान नही बना पाये। फिल्म ..सट्टा बाजार.. मे उनके गीत को सुनकर फिल्म के वितरक

शांतिभाई दबे काफी खुश हुये । उन्हें विश्वास नही हुआ कि इतनी छोटी सी उम्र में कोई व्यक्ति इस गीत को इतनी गहराई के साथ लिख सकता है ।

          शांति भाई ने गुलशन मेहता को ..बावरा .. कहकर संबोधित किया। इसके बाद से गुलशन मेहता ..गुलशन बावरा .. के रूप में फिल्म इंडस्ट्री में प्रसिद्ध हो गये । लगभग आठ वर्ष तक मायानगरी मुंबई में गुलशन बावरा ने अथक परिश्रम किया। आखिरकार उनकी मेहनत रंग लाई और उन्हें कल्याण जी-आनंद जी के संगीत निर्देशन में निर्माता-निर्देशक मनोज कुमार की फिल्म ..उपकार .. में गीत लिखने का मौका मिला । मनोज कुमार ने गुलशन बावरा के साथ फिल्म इंडस्ट्री में संघर्ष किया था और दोनों में काफी घनिष्ठता थी।

मनोज कुमार ने गुलशन बावरा से गीत की कोई पंक्ति सुनाने के लिए कहा। तब गुलशन बावरा ने ..मेरे देश की धरती सोना उगले ..गाकर सुनाया । गीत के बोल सुनने के बाद मनोज कुमार बहुत खुश हुये और उन्होंने गुलशन बावरा से फिल्म ..उपकार .. में गीत लिखने की पेशकश की । फिल्म उपकार मे अपने गीत ..मेरे देश की धरती सोना उगले .. की सफलता के बाद गुलशन बावरा ने कभी पीछे मुड़कर नही देखा । गुलशन बावरा को इसके बाद कई अच्छी फिल्मों के प्रस्ताव मिलने शुरू हो गये । वर्ष 1969 में प्रदर्शित फिल्म ..विश्वास .. में कल्याण जी आनंद जी के हीं संगीत निर्देशन में गुलशन बावरा ने .. चांदी की दीवार ना तोड़ी जैसे भावपूर्ण गीत की रचना कर अपना अलग ही समां बांधा।

इसके बाद गुलशन बावरा ने सफलता की नयी बुलंदियों को छुआ और एक से बढ़कर एक गीत लिखे। बहुमुखी प्रतिभा के धनी गुलशन बावरा ने कई फिल्मों मे अभिनय भी किया है । इन फिल्मों मे उपकार विश्वास .पवित्र पापी.

बेइमान.जंजीर.अगर तुम ना होते.बीवी हो तो ऐसी . इंद्रजीत आदि प्रमुख है। इसके अलावा गुलशन बावरा ने पुकार. सत्ते पे सत्ता मे पार्श्वगायन किया।

गुलशन बावरा को दो बार फिल्म फेयर के सर्वश्रेष्ठ गीतकार से नवाजा गया । इनमें वर्ष 1967 में प्रदर्शित फिल्म ..उपकार ..का गीत ..मेरे देश की धरती सोना उगले ..वर्ष 1973 मे प्रदर्शित फिल्म जंजीर का गीत ..यारी है ईमान मेरा यार मेरी जिंदगी ..शामिल है। अपने रचित गीतों से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करने वाले गुलशन बावरा 07 अगस्त 2009 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

वार्ता

More News
देवानंद को भी करना पड़ा था संघर्ष

देवानंद को भी करना पड़ा था संघर्ष

25 Sep 2018 | 11:57 AM

मुंबई 25 सितंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में लगभग छह दशक से दर्शकों के दिलों पर राज करने वाले सदाबहार अभिनेता देवानंद को अदाकार बनने के ख्वाब को हकीकत में बदलने के लिए कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

 Sharesee more..
अक्षय के बाद अर्जुन कहेंगे सिंह इज किंग !

अक्षय के बाद अर्जुन कहेंगे सिंह इज किंग !

25 Sep 2018 | 11:45 AM

मुंबई 25 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन कपूर सुपरहिट फिल्म सिंह इज किंग के सीक्वल में काम करते नजर आ सकते हैं।

 Sharesee more..
साहिर का किरदार निभाने के लिये बेताब हैं अभिषेक बच्चन

साहिर का किरदार निभाने के लिये बेताब हैं अभिषेक बच्चन

25 Sep 2018 | 11:30 AM

मुंबई 25 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड के जूनियर बी अभिषेक बच्चन सिल्वर स्क्रीन पर दिवंगत गीतकार-शायर साहिर लुधियानवी का किरदार निभाने के लिये बेताब हैं।

 Sharesee more..

25 Sep 2018 | 11:24 AM

 Sharesee more..

25 Sep 2018 | 11:21 AM

 Sharesee more..
image