Tuesday, Jun 25 2019 | Time 11:32 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दिवगंत सैनी को श्रद्धांजलि के बाद कार्यवाही भोजनवकाश तक स्थगित
  • श्रीनगर में वरिष्ठ पत्रकार गिरफ्तार
  • ‘सुल्तान’ को सबसे चैलेंजिंग फिल्म मानते हैं सलमान
  • घाटी में बस पलटने से पांच यात्रियों की मौत, 45 घायल
  • बच्चों के लिये स्कूल खोलेंगी सनी लियोनी
  • दिवगंत सदस्य मदनलाल सैनी को श्रद्धांजलि देने के बाद राज्यसभा की कार्यवाही भोजनावकाश तक स्थगित।
  • घाटी में बस पलटने से पांच यात्री की मौत, 40 घायल
  • मोदी और शाह ने आपातकाल का विरोध करने वालों को किया नमन
  • यूरोपीय देशों का ईरान-अमेरिका से बातचीत का आग्रह
  • ईरान समेत कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा करेंगे ट्रम्प और पुतिन
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 26 जून)
  • मुजफ्फरनगर मुठभेड़ में सवा लाख का इनामी बदमाश ढेर
  • ईरान के खिलाफ आक्रमण के लिए कांग्रेस की मंजूरी की जरूरत नहीं: ट्रम्प
  • कराची में पुलिस ने तीन आतंकवादियों को मार गिराया
  • अमेरिका की धमकी के आगे नहीं झुकेगा ईरान, नहीं करेगा वार्ता: रवांची
मनोरंजन


भावपूर्ण गीतों से श्रोताओं को दीवाना बनाया गुलशन बावरा ने

भावपूर्ण गीतों से श्रोताओं को दीवाना बनाया गुलशन बावरा ने

..पुण्यतिथि 07 अगस्त के अवसर पर ..

मुंबई 06 अगस्त(वार्ता) बॉलीवुड में गुलशन बावरा को एक ऐसे गीतकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपने भावपूर्ण गीतों से लगभग तीन दशकों तक श्रोताओं को अपना दीवाना बनाया।

हिन्दी भाषा और साहित्य के करिश्माई व्यक्तित्व वाले गुलशन कुमार मेहता उर्फ गुलशन बावरा का जन्म 12 अप्रैल 1937 को लाहौर शहर के निकट शेखपुरा में हुआ था। महज छह वर्ष की उम्र से ही गुलशन बावरा का रूझान कविता लिखने की ओर था । उनकी मां विद्यावती धार्मिक कार्यकलापों के साथ साथ संगीत मे भी काफी रूचि रखती थी । गुलशन बावरा अक्सर मां के साथ भजन.कीर्तन जैसे धार्मिक कार्यक्रमों में जाया करते थे ।

देश के विभाजन के बाद हुये सांप्रदायिक दंगों में उनके माता-पिता की पिता की हत्या उनकी नजरों के सामने ही हो गयी । इसके बाद वह अपनी बड़ी बहन के पास दिल्ली आ गये । गुलशन बावरा ने अपनी स्नातक की पढ़ाई दिल्ली

विश्वविद्यालय से पूरी की। कॉलेज की पढ़ाई के दौरान उनकी रूचि कविता लिखने में हो गयी। अपने परिवार की घिसी पिटी परंपरा को निभाते हुये गुलशन मेहता ने वर्ष 1955 में अपने कैरियर की शुरूआत मुंबई में एक लिपिक की नौकरी से की । उनका मानना था कि सरकारी नौकरी करने से उनका भविष्य सुरक्षित रहेगा । लिपिक की नौकरी उनके स्वभाव के अनुकूल नहीं थी । गुलशन मेहता ने रेलवे में लिपिक की नौकरी छोड़ दी और अपना ध्यान फिल्म इंडस्ट्री की ओर लगाना शुरू कर दिया । फिल्म इंडस्ट्री में उन्हें कई कठिनाइयो का सामना करना पड़ा । उन्होंने अपना संघर्ष जारी रखा और कई छोटे बजट की फिल्में भी की जिनसे उन्हें कुछ खास फायदा नही हुआ।

इस बीच गुलशन की मुलाकात संगीतकार जोड़ी कल्याण जी- आनंद जी से हुयी जिनके संगीत निर्देशन में लिये गुलशन मेहता ने फिल्म सट्टा -बाजार के लिये ..तुम्हे याद होगा कभी हम मिले थे .. गीत लिखा लेकिन इस फिल्म

के जरिये वह कुछ खास पहचान नही बना पाये। फिल्म ..सट्टा बाजार.. मे उनके गीत को सुनकर फिल्म के वितरक

शांतिभाई दबे काफी खुश हुये । उन्हें विश्वास नही हुआ कि इतनी छोटी सी उम्र में कोई व्यक्ति इस गीत को इतनी गहराई के साथ लिख सकता है ।

          शांति भाई ने गुलशन मेहता को ..बावरा .. कहकर संबोधित किया। इसके बाद से गुलशन मेहता ..गुलशन बावरा .. के रूप में फिल्म इंडस्ट्री में प्रसिद्ध हो गये । लगभग आठ वर्ष तक मायानगरी मुंबई में गुलशन बावरा ने अथक परिश्रम किया। आखिरकार उनकी मेहनत रंग लाई और उन्हें कल्याण जी-आनंद जी के संगीत निर्देशन में निर्माता-निर्देशक मनोज कुमार की फिल्म ..उपकार .. में गीत लिखने का मौका मिला । मनोज कुमार ने गुलशन बावरा के साथ फिल्म इंडस्ट्री में संघर्ष किया था और दोनों में काफी घनिष्ठता थी।

मनोज कुमार ने गुलशन बावरा से गीत की कोई पंक्ति सुनाने के लिए कहा। तब गुलशन बावरा ने ..मेरे देश की धरती सोना उगले ..गाकर सुनाया । गीत के बोल सुनने के बाद मनोज कुमार बहुत खुश हुये और उन्होंने गुलशन बावरा से फिल्म ..उपकार .. में गीत लिखने की पेशकश की । फिल्म उपकार मे अपने गीत ..मेरे देश की धरती सोना उगले .. की सफलता के बाद गुलशन बावरा ने कभी पीछे मुड़कर नही देखा । गुलशन बावरा को इसके बाद कई अच्छी फिल्मों के प्रस्ताव मिलने शुरू हो गये । वर्ष 1969 में प्रदर्शित फिल्म ..विश्वास .. में कल्याण जी आनंद जी के हीं संगीत निर्देशन में गुलशन बावरा ने .. चांदी की दीवार ना तोड़ी जैसे भावपूर्ण गीत की रचना कर अपना अलग ही समां बांधा।

इसके बाद गुलशन बावरा ने सफलता की नयी बुलंदियों को छुआ और एक से बढ़कर एक गीत लिखे। बहुमुखी प्रतिभा के धनी गुलशन बावरा ने कई फिल्मों मे अभिनय भी किया है । इन फिल्मों मे उपकार विश्वास .पवित्र पापी.

बेइमान.जंजीर.अगर तुम ना होते.बीवी हो तो ऐसी . इंद्रजीत आदि प्रमुख है। इसके अलावा गुलशन बावरा ने पुकार. सत्ते पे सत्ता मे पार्श्वगायन किया।

गुलशन बावरा को दो बार फिल्म फेयर के सर्वश्रेष्ठ गीतकार से नवाजा गया । इनमें वर्ष 1967 में प्रदर्शित फिल्म ..उपकार ..का गीत ..मेरे देश की धरती सोना उगले ..वर्ष 1973 मे प्रदर्शित फिल्म जंजीर का गीत ..यारी है ईमान मेरा यार मेरी जिंदगी ..शामिल है। अपने रचित गीतों से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करने वाले गुलशन बावरा 07 अगस्त 2009 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

वार्ता

More News
कबीर सिंह ने वीकेंड पर 70 करोड़ की कमाई की

कबीर सिंह ने वीकेंड पर 70 करोड़ की कमाई की

24 Jun 2019 | 2:04 PM

मुंबई 24 जून (वार्ता) बॉलीवुड के चॉकलेटी हीरो शाहिद कपूर की फिल्म ‘कबीर सिंह’ ने पहले वीकेंड के दौरान 70 करोड़ की कमाई कर ली है।

see more..
अभिनेत्रियों को अलग पहचान दिलायी करिश्मा ने

अभिनेत्रियों को अलग पहचान दिलायी करिश्मा ने

24 Jun 2019 | 1:57 PM

.जन्मदिन 25 जून . मुंबई 24 जून (वार्ता)बॉलीवुड में करिश्मा कपूर को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर जाना जाता है जिन्होंने अभिनेत्रियों को फिल्मों में परंपरागत रूप से पेश किये जाने के तरीके को बदलकर अपने बिंदास अभिनय से दर्शको के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

see more..
हॉलीवुड में काम करेंगी श्रुति हासन

हॉलीवुड में काम करेंगी श्रुति हासन

24 Jun 2019 | 1:50 PM

मुंबई 24 जून (वार्ता) जानी-मानी अभिनेत्री श्रुति हासन अब हॉलीवुड में भी काम करने जा रही है।

see more..
image