Wednesday, Jan 22 2020 | Time 23:13 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आईईडी भेजने के आरोप में बीएसएफ जवान गिरफ्तार
  • तुर्की में विफल तख्ता पलट मामलेे में 131 को सजा
  • हवाई अड्डे पर बम रखने का आरोपी मेंगलुरु पुलिस के हवाले
  • ट्रंप के शीघ्र पाकिस्तान दौरे की संभावना : कुरैशी
  • दहेज में बाइक नहीं देने पर विवाहिता की हत्या
  • हेमंत ने सात ग्रामीणों की हत्या की जांच के लिए दिया एसआईटी गठित करने का आदेश
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • महिला सशक्तीकरण पर आधारित फिल्म है ‘छोटकी ठकुराइन’
  • महाराष्ट्र ने 256 पदकों के साथ बरकरार रखा अपना खिताब
  • महाराष्ट्र ने 256 पदकों के साथ बरकरार रखा अपना खिताब
  • मनोरंजन संग संदेश देगी ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ : आयुष्मान
  • राजपथ पर दिखेगी यूपी के सर्वधर्म समभाव की झलक
  • पटना में बनेगा 25 हजार अभ्यर्थियों के बैठने की क्षमता वाला परीक्षा केंद्र
मनोरंजन


भावपूर्ण गीतों से श्रोताओं को दीवाना बनाया गुलशन बावरा ने

भावपूर्ण गीतों से श्रोताओं को दीवाना बनाया गुलशन बावरा ने

..पुण्यतिथि 07 अगस्त  ..

मुंबई 06 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड में गुलशन बावरा को एक ऐसे गीतकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपने भावपूर्ण गीतों से लगभग तीन दशकों तक श्रोताओं को अपना दीवाना बनाया।

हिन्दी भाषा और साहित्य के करिश्मायी व्यक्तित्व गुलशन कुमार मेहता उर्फ गुलशन बावरा का जन्म 12 अप्रैल 1937 को लाहौर शहर के निकट शेखपुरा में हुआ था। महज छह वर्ष की उम्र से ही गुलशन बावरा का रूझान कविता लिखने की ओर था। उनकी मां विधावती धार्मिक क्रियाकलापों के साथ-साथ संगीत में भी काफी रूचि रखती थी। गुलशन बावरा अक्सर मां के साथ भजन.कीर्तन जैसे धार्मिक कार्यक्रमों में जाया करते थे।

देश के विभाजन के बाद हुये सांप्रदायिक दंगो में उनके माता-पिता की हत्या उनकी नजरो के सामने कर दी गयी इसके बाद वह अपनी बड़ी बहन के पास दिल्ली आ गये। गुलशन बावरा ने अपनी स्नातक की पढ़ाई दिल्ली

विश्वविद्यालय से पूरी की। पारिवारिक परंपरा को निभाते हुये गुलशन मेहता ने वर्ष 1955 में अपने करियर की शुरूआत मुंबई में एक लिपिक के तौर पर की। उनका मानना था कि सरकारी नौकरी करने से उनका भविष्य सुरक्षित रहेगा। लिपिक की नौकरी उनके स्वभाव के अनुकूल नहीं थी। इसलिए उन्होंने रेलवे में लिपिक की नौकरी छोड़ दी और अपना ध्यान फिल्म इंडस्ट्री की ओर लगाना शुरू कर दिया। फिल्म इंडस्ट्री में उन्हें कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। उन्होंने अपना संघर्ष जारी रखा और कई छोटे बजट की फिल्में भी की जिनसे उन्हें कुछ खास फायदा नहीं हुआ। इस बीच गुलशन की मुलाकात संगीतकार जोड़ी कल्याण जी- आनंद जी से हुयी और इनके लिए गुलशन मेहता ने फिल्म सट्टा-बाजार के लिये ..तुम्हे याद होगा कभी हम मिले थे .. गीत लिखा लेकिन इस फिल्म के जरिये वह कुछ खास पहचान नहीं बना पाये।

फिल्म ..सट्टा बाजार.. में उनके गीत को सुनकर फिल्म के वितरक शांतिभाई दबे काफी खुश हुये। उन्हें विश्वास नहीं हुआ कि इतनी छोटी सी उम्र में कोई व्यक्ति इस गीत को इतनी गहराई के साथ लिख सकता है। शांति भाई ने गुलशन मेहता को ..बावरा .. कहकर संबोधित किया। इसके बाद से गुलशन मेहता ..गुलशन बावरा .. के रूप में फिल्म इंडस्ट्री में प्रसिद्ध हो गये। लगभग आठ वर्ष तक मायानगरी मुंबई में गुलशन बावरा ने अथक परिश्रम किया। आखिरकार उनकी मेहनत रंग लाई और उन्हें कल्याण जी-आनंद जी के संगीत निर्देशन में निर्माता-निर्देशक मनोज कुमार की फिल्म ..उपकार .. में गीत लिखने का मौका मिला। मनोज कुमार ने गुलशन बावरा के साथ फिल्म इंडस्ट्री में संघर्ष किया था और दोनों में काफी घनिष्ठता थी।

मनोज कुमार ने गुलशन बावरा से गीत की कोई पंक्ति सुनाने के लिए कहा। तब गुलशन बावरा ने ..मेरे देश की धरती सोना उगले ..गाकर सुनाया। गीत के बोल सुनने के बाद मनोज कुमार बहुत खुश हुये और उन्होंने गुलशन बावरा से फिल्म ..उपकार .. में गीत लिखने की पेशकश की। फिल्म उपकार में अपने गीत ..मेरे देश की धरती सोना उगले .. की सफलता के बाद गुलशन बावरा ने कभी पीछे मुड़कर नही देखा। गुलशन बावरा को इसके बाद कई अच्छी फिल्मों के प्रस्ताव मिलने शुरू हो गये। वर्ष 1969 में प्रदर्शित फिल्म ..विश्वास .. में कल्याण जी आनंद जी के ही संगीत निर्देशन में गुलशन बावरा ने .. चांदी की दीवार ना तोड़ी जैसे भावपूर्ण गीत की रचना कर अपना अलग ही समां बांधा।

इसके बाद गुलशन बावरा ने सफलता की नयी बुलंदियों को छुआ और एक से बढ़कर एक गीत लिखे। बहुमुखी प्रतिभा के धनी गुलशन बावरा ने कई फिल्मों में अभिनय भी किया है। इन फिल्मों मे उपकार विश्वास .पवित्र पापी. बेइमान.जंजीर. अगर तुम ना होते.बीवी हो तो ऐसी. इंद्रजीत आदि प्रमुख है। इसके अलावा गुलशन बावरा ने पुकार. सत्ते पे सत्ता मे पार्श्वगायन किया। गुलशन बावरा को दो बार फिल्म फेयर के सर्वश्रेष्ठ गीतकार से नवाजा गया। इनमें वर्ष 1967 में प्रदर्शित फिल्म ..उपकार ..का गीत ..मेरे देश की धरती सोना उगले ..वर्ष 1973 मे प्रदर्शित फिल्म जंजीर का गीत ..यारी है ईमान मेरा यार मेरी जिंदगी ..शामिल है। अपने गीतो से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करने वाले गुलशन बावरा 07 अगस्त 2009 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

 

More News
48 वर्ष की हुईं नम्रता शिरोड़कर

48 वर्ष की हुईं नम्रता शिरोड़कर

22 Jan 2020 | 12:26 PM

मुंबई 22 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड की जानी-मानी अभिनेत्री एवं पूर्व मिस इंडिया नम्रता शिरोड़कर बुधवार को 48 वर्ष की हो गयी।

see more..
लव आजकल में सलमान के सुपरफैन होंगे कार्तिक आर्यन

लव आजकल में सलमान के सुपरफैन होंगे कार्तिक आर्यन

22 Jan 2020 | 12:19 PM

मुंबई 22 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता कार्तिक आर्यन अपनी आने वाली फिल्म लव आजकल में दबंग स्टार सलमान खान के सुपरफैन बने नजर आयेंगे।

see more..
खुद को मीठा खाने से रोकती हैं दिशा पाटनी

खुद को मीठा खाने से रोकती हैं दिशा पाटनी

22 Jan 2020 | 12:12 PM

मुंबई 22 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री दिशा पाटनी खुद को मीठा खाने से रोकती है और इसके लिये उन्होंने स्पेशल ट्रिक अपनायी है।

see more..
प्रियंका दुनिया की सबसे सक्सेसफुल और इंस्पिरेशनल 100 महिलाओं में शामिल

प्रियंका दुनिया की सबसे सक्सेसफुल और इंस्पिरेशनल 100 महिलाओं में शामिल

22 Jan 2020 | 12:07 PM

मुंबई 22 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा दुनिया की सबसे सक्सेसफुल और इंस्पिरेशनल 100 महिलाओं में शामिल की गयी है।

see more..
image