Saturday, Dec 15 2018 | Time 10:32 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • वाहनों में तोड़फोड़ के मामले पुलिस कर सकती है खुलासा
  • पुलवामा में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों की मुठभेड़ में दो आतंकवादी ढेर
  • शाह ने पटेल को दी श्रद्धांजलि
  • राजधानी में वाहनों में तोड़फोड़ में मामले में जल्द खुलासे की उम्मीद
  • हवाई सीमा के उल्लंघन को लेकर इराक ने तुर्की राजदूत को किया तलब
  • मुलवाने व्हाइट हाऊस के कार्यकारी चीफ ऑफ स्टॉफ नियुक्त
  • इक्वाडोर में सड़क दुर्घटना में चार मरे , 20 घायल
  • मोदी ने दी पटेल को दी श्रद्धांजलि
  • पुर्तगाल में ट्राम पलटने से दो बच्चों सहित 28 लोग घायल
  • हंगरी में सरकार विरोधी प्रदर्शन के दौरान झड़प, 14 पुलिसकर्मी घायल
  • अमेरिकी ओलंपिक समिति के पूर्व सीईओ ब्लैकमुन की जांच करेगी एफबीआई
  • पुर्तगाल में ट्राम पलटने से दो बच्चों सहित 28 लोग घायल
  • अमेरिका ने दक्षिण सूडान में तीन लोगों, छह कंपनियों पर लगाई पाबंदी
  • सीरिया के आफ्रिन में तुर्की के पांच सैनिकों की हत्या
  • नेपाल में मिनी ट्रक खाई में गिरी, 16 मरे, पांच घायल
मनोरंजन Share

बहुमुखी प्रतिभा के जरिये पहचान बनायी गुलजार ने

बहुमुखी प्रतिभा के जरिये पहचान बनायी गुलजार ने

..जन्मदिन 18 अगस्त के अवसर पर ..

मुबई 17 अगस्त(वार्ता)मुशायरों और महफिलों से मिली शोहरत तथा कामयाबी ने कभी मोटर मैकेनिक का काम करने वाले ..गुलजार .. को पिछले चार दशक में फिल्म जगत का एक अजीम शायर और गीतकार बना दिया।

पंजाब अब पाकिस्तान के झेलम जिले के एक छोटे से कस्बे दीना में कालरा अरोरा सिख परिवार में 18 अगस्त 1936 को जन्मे संपूर्ण सिंह कालरा 'गुलजार' को स्कूल के दिनों से ही शेरो, शायरी और वाद्य संगीत का शौक था। कालेज के दिनों में उनका यह शौक परवान चढने लगा और वह अक्सर मशहूर सितार वादक रविशंकर और सरोद वादक अली अकबर खान के कार्यक्रमों में जाया करते थे।

भारत विभाजन के बाद गुलजार का परिवार अमृतसर में बस गया लेकिन गुलजार ने अपने सपनों को पूरा करने के लिए मुंबई का रूख किया और वर्ली में एक गैराज में कार मकैनिक का काम करने लगे । फुर्सत के वक्त में वह कविताएं लिखा करते थे। इसी दौरान वह फिल्म से जुड़े लोगों के संपर्क में आए और निर्देशक बिमल राय के सहायक बन गए । बाद में उन्होंने निर्देशक ऋषिकेश मुखर्जी और हेमन्त कुमार के सहायक रूप में भी काम किया ।

इसके बाद कवि के रूप मे गुलजार प्रोग्रेसिव रायर्टस एसोसिऐशन पी.डब्लू.ए से जुड़ गये । उन्होंने अपने सिने कैरियर की शुरूआत वर्ष 1961 मे बिमल राय के सहायक के रूप में की। गुलजार ने ऋषिकेश मुखर्जी और हेमन्त कुमार के सहायक के तौर पर भी काम किया। गीतकार के रूप मे गुलजार ने पहला गाना ...मेरा गोरा अंग लेई ले..वर्ष 1963 में प्रदर्शित विमल राय की फिल्म बंदिनी के लिये लिखा। गुलजार ने वर्ष 1971 मे फिल्म ..मेरे अपने.. के जरिये निर्देशन के क्षेत्र में भी कदम रखा। इस फिल्म की सफलता के बाद गुलजार ने कोशिश, परिचय, अचानक, खूशबू,आंधी,

मौसम, किनारा,किताब,नमकीन, अंगूर, इजाजत, लिबास, लेकिन, माचिस और हू तू तू जैसी कई फिल्में निदेर्शित भी की।

प्रारंभिक दिनों में गुलजार का झुकाव वामपंथी विचारधारा की तरफ था। जो मेरे अपने और आंधी जैसी उनकी शुरआती फिल्मों में दिखाई देता है । आंधी में भारतीय राजनीतिक व्यवस्था की परोक्ष आलोचना की गई थी। हालांकि इस फिल्म पर कुछ समय के लिए पाबंदी भी लगा दी गई थी। गुलजार साहित्यिक कहानियों और विचारों को फिल्मों में ढालने की कला में भी सिद्धहस्त हैं । उनकी फिल्म अंगूर शेक्सपीयर की कहानी

..कामेडी आफ एरर्स.. मौसम .ए जे क्रोनिन्स के ..जूडास ट्री.. और परिचय हालीवुड की क्लासिक फिल्म ..द साउंड आफ म्यूजिक.. पर आधारित थी ।

       राहुल देव बर्मन के संगीत निर्देशन में गीतकार के रूप में गुलजार की प्रतिभा निखरी और उन्होंन दर्शकों और श्रोताओं को मुसाफिर हूं यारों, तेरे बिना जिन्दगी से कोई शिकवा तो नहीं, घर जाएगी..खुशबू.. मेरा कुछ सामान..इजाजत.. तुझसे नाराज नहीं जिन्दगी..मासूम.. जैसे साहित्यिक अंदाज वाले गीत दिए। संजीव कुमार, जीतेन्द्र और जया भादुड़ी के अभिनय को निखारने में गुलजार ने अहम भूमिका निभायी थी।

निर्देशन के अलावा गुलजार ने कई फिल्मों की पटकथा और संवाद भी लिखे। इसके अलावा गुलजार ने वर्ष 1977 में किताब और किनारा फिल्मों का निर्माण भी किया।गुलजार को अपने गीतों के लिये अब तक 11 बार फिल्म फेयर अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है। गुलजार को तीन बार राष्ट्रीय पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है। गुलजार के चमकदार कैरियर में एक गौरवपूर्ण नया अध्याय तब जुड़ गया जब वर्ष 2009 में फिल्म.स्लमडॉग मिलियनेयर.. में उनके गीत ..जय हो ..को आस्कर अवार्ड से सम्मानित किया गया। भारतीय सिनेमा में उनके योगदान को देखते हुये वर्ष 2004 में उन्हें देश के तीसरे बडे नागरिक सम्मान पदभूषण से अलंकृत किया गया।

उर्दू भाषा में गुलजार की लघु कहानी संग्रह..धुआं. को 2002 में साहित्य अकादमी पुरस्कार भी मिल चुका है । गुलजार ने काव्य की एक नयी शैली विकसित की है। जिसे ..त्रिवेणी..कहा जाता है । भारतीय सिनेमा जगत में उल्लेखनीय योगदान को देखते हुये गुलजार फिल्म इंडस्ट्री के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया है।

वार्ता

More News
आलिया कपूर बुलाने पर प्रशंसक को आलिया का जवाब

आलिया कपूर बुलाने पर प्रशंसक को आलिया का जवाब

14 Dec 2018 | 4:56 PM

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री आलिया भट्ट ने प्रशंसक को आलिया कपूर बुलाने पर जवाब दिया है।

 Sharesee more..
मणिकर्णिका में कंगना ने 150 साल पुराने हथियार किये इस्तेमाल

मणिकर्णिका में कंगना ने 150 साल पुराने हथियार किये इस्तेमाल

14 Dec 2018 | 4:43 PM

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने आने वाली फिल्म ‘मणिकर्णिका’ में 150 साल पुराने हथियार इस्तेमाल किया है।

 Sharesee more..
समानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी श्याम बेनेगल ने

समानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी श्याम बेनेगल ने

14 Dec 2018 | 4:28 PM

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में श्याम बेनेगल का नाम एक ऐसे फिल्मकार के रूप में शुमार किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ समानान्तर सिनेमा को पहचान दिलायी बल्कि स्मिता पाटिल, शबाना आजमी और नसीरुद्दीन शाह समेत कई सितारों को स्थापित किया।

 Sharesee more..

14 Dec 2018 | 12:04 PM

 Sharesee more..
जीवन के हर फलसफे पर गीत लिखने में माहिर थे शैलेन्द्र

जीवन के हर फलसफे पर गीत लिखने में माहिर थे शैलेन्द्र

13 Dec 2018 | 1:38 PM

मुंबई 13 दिसंबर (वार्ता) दो दशक से अधिक समय तक करीब 170 फिल्मों में जिंदगी के हर फलसफे और जीवन के हर रंग पर गीत लिखने वाले शैलेन्द्र के गीतों में हर व्यक्ति स्वयं को ऐसे समाहित सा महसूस करता है जैसे वह गीत उसी के लिए लिखा गया हो।

 Sharesee more..
image