Sunday, Jul 21 2019 | Time 10:34 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • खास है सुगंधित अप्पेमिडी आम का अचार
  • खास है सुगंधित अप्पेमिडी आम का अचार
  • निजी जिंदगी में बेहद संवेदनशील इंसान थे मुकेश
  • निजी जिंदगी में बेहद संवेदनशील इंसान थे मुकेश
  • रणबीर के साथ फिर जोड़ी जमायेंगी दीपिका!
  • रणबीर के साथ फिर जोड़ी जमायेंगी दीपिका!
  • रणबीर के साथ फिर जोड़ी जमायेंगी दीपिका!
  • ‘जजमेंटल है क्या’ जैसे किरदार से न्याय कर सकती हैं कंगना
  • ‘जजमेंटल है क्या’ जैसे किरदार से न्याय कर सकती हैं कंगना
  • ‘जजमेंटल है क्या’ जैसे किरदार से न्याय कर सकती हैं कंगना
  • पाकिस्तान को अपनी नीतियों में बदलाव करना होगा : अमेरिका
  • टैंकर जब्ती मामले में रूस की भागीदारी की जांच कर रहा है ब्रिटेन
  • जापान में ऊपरी सदन के लिए मतदान शुरू
  • भाजपा नेता मांगे राम गर्ग का निधन
  • न्यूजीलैंड में भूकंप के तेज झटके
राज्य


हार्दिक अस्पताल से डिस्चार्ज, अनशन का 16वां दिन

हार्दिक अस्पताल से डिस्चार्ज, अनशन का 16वां दिन

अहमदाबाद, 09 सितंबर (वार्ता) आमरण अनशन के दौरान तबीयत बिगड़ने पर शनिवार से अस्पताल में भर्ती पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति (पास) के नेता हार्दिक पटेल को रविवार को अस्पताल से छुट्टी दे दी गयी। आज उनके अनशन का 16वां दिन है।

एसजीवीपी अस्पताल से आज छुट्टी मिलने के बाद हार्दिक पटेल ने अपने घर पहुंच कर अनशन जारी रखा है। उन्होंने फेसबुक पर कहा है कि तीनों मांगे पूरी होने तक अनशन जारी रहेगा।

पास के प्रवक्ता मनोज पनारा ने बताया कि हार्दिक ने डाक्टरों की सलाह पर पानी लेना शुरू किया है। उन्होंने कहा कि सरकार ने बातचीत के लिए अब तक कोई प्रस्ताव उन्हें नहीं दिया है। उनका अनशन जारी रहेगा।

हार्दिक ने गत 25 अगस्त से किसानों की ऋण माफी, पाटीदार समुदाय को आरक्षण और राजद्रोह के मामले में गिरफ्तार उनके साथी अल्पेश कथिरिया की रिहाई की मांग को लेकर यहां अपने ग्रीनवुड रिसार्ट आवास में अनशन शुरू किया था। कल 14 वें दिन उन्हें तबीयत बिगड़ने पर सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। सारे रिपोर्ट सामान्य आने पर उनके समर्थकों ने सरकारी अस्पताल पर संदेह जताते हुए देर रात उन्हें निजी क्षेत्र के एसजीवीपी अस्पताल में भर्ती कराया था। उन्होंने इससे पहले 30 और 31 अगस्त को भी पानी पीना बंद किया था पर एक सितंबर को फिर से पानी पीना शुरू कर दिया था।

राज्य में सत्तारूढ़ भाजपा का कहना है कि खुलेआम कांग्रेस का समर्थन करने वाले हार्दिक और उनके साथी राजनीतिक कारणों से और अगले लोकसभा चुनाव के मद्देनजर यह सब कर रहे हैं। हालांकि राज्य सरकार किसी से भी बातचीत के लिए तैयार है।

image