Wednesday, Feb 20 2019 | Time 00:33 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
India Share

सीबीआई निदेशक की याचिका पर सुनवाई पूरी, फैसला सुरक्षित

सीबीआई निदेशक की याचिका पर सुनवाई पूरी, फैसला सुरक्षित

नयी दिल्ली, 06 दिसम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) निदशेक आलोक वर्मा से अधिकार वापस लेने और उन्हें छुट्टी पर भेजे जाने के केंद्र के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर फैसला सुरक्षित रख लिया है।
मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अगुआई वाली खंडपीठ ने गुरुवार को श्री वर्मा और स्वयंसेवी संगठन ‘काॅमन काॅज’ की श्री वर्मा से अधिकार वापस लेने और छुट्टी पर भेजे जाने वाली याचिकाओं पर सुनवाई पूरी की और फैसला सुरक्षित रख लिया।
श्री वर्मा को सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के साथ हुए विवाद के बाद सरकार ने 23 अक्टूबर को छुट्टी पर भेज दिया था। दोनों ने एक दूसरे पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाये थे।
मुख्य न्यायाधीश और न्यायमूर्ति एस के कौल और न्यायाधीश के एम जोसेफ की खंड पीठ ने सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार के फैसले पर कड़ा रुख दिखाया। खंडपीठ ने सवाल किया कि सीबीआई के दो उच्च पदस्थ अधिकारियों के बीच लड़ाई रातोंरात सामने नहीं आयी थी। न्यायालय ने कहा कि यह ऐसा मामला नहीं था कि सरकार को चयन समिति से बातचीत किए बिना सीबीआई निदेशक की शक्तियों को तुरंत खत्म करने का निर्णय लेना पड़ा।
श्री गोगोई ने कहा कि सरकार ने स्वयं यह स्वीकार किया है कि ऐसी स्थितियां जुलाई से ही उत्पन्न हो रही थी। खंडपीठ ने कहा कि यदि केंद्र सरकार निदेशक के अधिकारों पर रोक लगाने से पहले चयन समिति से इसकी मंजूरी ले लेती तो कानून का बेहतन पालन होता।
खंडपीठ ने कहा कि सरकार की कार्रवाई की भावना संस्थान के हित में होनी चाहिए। मुख्य न्यायाधीश ने सवाल किया कि “जब श्री वर्मा कुछ माह में सेवानिवृत्त होने वाले थे तो कुछ और माह का इंतजार तथा चयन समिति से परामर्श क्याें नहीं किया गया ।’’
बुधवार को इस मामले पर सुनवाई के दौरान महाधिवक्ता के के वेणुगोपाल ने न्यायालय के समक्ष सरकार का पक्ष रखते हुए कहा कि सरकार को सीबीआई निदेशक और श्री अस्थाना के बीच चल रहे विवाद में इसलिए हस्तक्षेप करना पड़ा क्योंकि दोनों बिल्लियों की तरह झगड़ रहे थे। सरकार को प्रमुख जांच एजेंसी की विश्वसनीयता और अखंडता को बनाये रखने के लिए दखल देना पड़ा।
मिश्रा, यामिनी
वार्ता

More News
आतंकवाद मानवाधिकारों का सबसे बड़ा उल्लंघन: आयोग

आतंकवाद मानवाधिकारों का सबसे बड़ा उल्लंघन: आयोग

19 Feb 2019 | 11:08 PM

नयी दिल्ली 19 फरवरी (वार्ता) राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने पुलवामा आतंकवादी हमले को मानवाधिकारों का उल्लंघन करार देते हुए कहा है कि इन हमलों को अंजाम देने वालों को मानवाधिकार उल्लंघन के मामलों में जवाबदेह बनाया जाना चाहिए।

 Sharesee more..
प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण-दूसरे चरण को मंजूरी

प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण-दूसरे चरण को मंजूरी

19 Feb 2019 | 11:00 PM

नयी दिल्ली, 19 फरवरी (वार्ता) सरकार ने इस वर्ष मार्च के बाद प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण - द्वितीय चरण को मंजूरी दे दी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की मंगलवार को यहां हुई बैठक में इस योजना के क्रियान्वयन को मंजूरी दे गयी।

 Sharesee more..
तीन तलाक पर फिर अध्यादेश लायेगी सरकार

तीन तलाक पर फिर अध्यादेश लायेगी सरकार

19 Feb 2019 | 10:41 PM

नयी दिल्ली 19 फरवरी (वार्ता) राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार ने अपने कार्यकाल के अंतिम संसदीय सत्र में भी तीन तलाक से संबंधित विधेयक पारित नहीं हो पाने के कारण एक बार फिर से इसके लिए अध्यादेश लाने का फैसला किया है।

 Sharesee more..
मिड डे मिल योजना में अतिरिक्त राशि का आवंटन

मिड डे मिल योजना में अतिरिक्त राशि का आवंटन

19 Feb 2019 | 10:27 PM

नयी दिल्ली 19 फरवरी (वार्ता) सरकार ने मिड डे मिल की सुविधाओं में बढ़ोत्तरी करने का फैसला किया है और इसके लिए बारह हज़ार 51 करोड़ रुपए अतिरिक्त बजट को मंजूरी दी है।

 Sharesee more..
इमरान की पुलवामा हमले पर सबूत मांगने की बात बेतुकी : जेटली

इमरान की पुलवामा हमले पर सबूत मांगने की बात बेतुकी : जेटली

19 Feb 2019 | 10:10 PM

नयी दिल्ली, 19 फरवरी (वार्ता) सरकार ने आज कहा कि पुलवामा हमले के कर्ताधर्ता पाकिस्तान में ही मौजूद हैं और वहां के प्रधानमंत्री इमरान खान का इस संबंध में भारत से गुप्तचर सूचना के सबूत मांगने की बात बेतुकी है।

 Sharesee more..
image