Friday, Sep 21 2018 | Time 20:05 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मोदी सरकार का कौशल विकास बन गया घोटाला : कांग्रेस
  • भारत ने जीते 3 स्वर्ण सहित 7 पदक
  • सर्जिकल स्ट्राइक दिवस पर उठा विवाद,सरकार ने किया बचाव
  • एससी एसटी एक्ट के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे सवर्णों पर लाठीचार्ज
  • जम्मू कश्मीर में हाल की घटनाओं ने राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फिर तूल पकड़ा
  • यूनान में हवाई अड्डा बनायेगी जीएमआर
  • फोटो कैप्शन-दूसरा सेट
  • भारत ने राफेल सौदे के लिए दिया था केवल रिलायंस का नाम: ओलांद
  • थर्ड जेनेरेशन ईवीएम मशीन में गड़बड़ी ना के बराबर: रावत
  • प्रधानमंत्री मोदी कल छत्तीसगढ़ के एक दिवसीय दौरे पर
  • भारत अंडर-16 लड़कियों को मंगोलिया से मिली हार
  • चीफ खालसा दीवान के प्रधान संतोख सिंह को पांच साल की कैद
  • भारत-पाकिस्तान विदेश मंत्रियों की बैठक रद्द
  • भाजपा की छत्तीसगढ़ सहित तीन राज्यों में सत्ता में वापसी तय – शाह
  • अकाली दल अपनी हार देख बौखलाई : अमरिंदर
राज्य Share

हार्दिक अस्पताल से डिस्चार्ज, अनशन का 16वां दिन

हार्दिक अस्पताल से डिस्चार्ज, अनशन का 16वां दिन

अहमदाबाद, 09 सितंबर (वार्ता) आमरण अनशन के दौरान तबीयत बिगड़ने पर शुक्रवार रिपीट शुक्रवार से अस्पताल में भर्ती पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति (पास) के नेता हार्दिक पटेल को रविवार को अस्पताल से छुट्टी दे दी गयी। आज उनके अनशन का 16वां दिन है।

एसजीवीपी अस्पताल से आज छुट्टी मिलने के बाद हार्दिक पटेल ने अपने घर पहुंच कर अनशन जारी रखा है। उन्होंने फेसबुक पर कहा है कि तीनों मांगे पूरी होने तक अनशन जारी रहेगा।

पास के प्रवक्ता मनोज पनारा ने बताया कि हार्दिक ने डाक्टरों की सलाह पर पानी लेना शुरू किया है। उन्होंने कहा कि सरकार ने बातचीत के लिए अब तक कोई प्रस्ताव उन्हें नहीं दिया है। उनका अनशन जारी रहेगा।

हार्दिक ने गत 25 अगस्त से किसानों की ऋण माफी, पाटीदार समुदाय को आरक्षण और राजद्रोह के मामले में गिरफ्तार उनके साथी अल्पेश कथिरिया की रिहाई की मांग को लेकर यहां अपने ग्रीनवुड रिसार्ट आवास में अनशन शुरू किया था। कल 14 वें दिन उन्हें तबीयत बिगड़ने पर सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। सारे रिपोर्ट सामान्य आने पर उनके समर्थकों ने सरकारी अस्पताल पर संदेह जताते हुए देर रात उन्हें निजी क्षेत्र के एसजीवीपी अस्पताल में भर्ती कराया था। उन्होंने इससे पहले 30 और 31 अगस्त को भी पानी पीना बंद किया था पर एक सितंबर को फिर से पानी पीना शुरू कर दिया था।

राज्य में सत्तारूढ़ भाजपा का कहना है कि खुलेआम कांग्रेस का समर्थन करने वाले हार्दिक और उनके साथी राजनीतिक कारणों से और अगले लोकसभा चुनाव के मद्देनजर यह सब कर रहे हैं। हालांकि राज्य सरकार किसी से भी बातचीत के लिए तैयार है।

अनिल, टंडन

वार्ता

image