Friday, Apr 26 2019 | Time 19:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पूर्व आबकारी अधिकारी के ठिकानों पर ईओडब्ल्यू ने मारे छापे
  • राजकोट में महिला ने किया आत्मदाह
  • वीर चंद्र सिंह गढ़वाली योजना घोटाले में सरकार एवं मंत्री को नोटिस जारी
  • जेट एयरवेज ने रखरखाव कर्मचारियों से की काम पर लौटने की अपील
  • पंजाब, हिमाचल प्रदेश और चंडीगढ़ में 27-28 अप्रैल को नामांकन नहीं
  • मकान मालिक सहित चार ने किया किशोरी पर दुष्कर्म
  • भाजपा सरकार के दिन अब लदने वाले हैं: किरण चौधरी
  • मंदिर न जाकर,हिंदुत्व की भावना को प्रियंका ने किया आहत:अनुराग
  • मोदी के पास दो करोड़ 51 लाख की चल-अचल सम्पत्ति
  • भट्टू में नाके पर तलाशी के दौरान 12 लाख की नकदी बरामद
  • भाजपा के पास काम के नाम पर कुछ नहीं दिखाने को: रमेश पायलट
  • उप्र में छठवें चरण के लिए लोकसभा की 14 सीटों पर प्रेक्षक नियुक्त
  • राज्यपाल ने चौधरी विद्या सागर के निधन पर शोक व्यक्त किया
  • छह दिन पूर्व अपहृत बच्चे को पुलिस ने सकुशल किया बरामद
  • चुनाव में कर्मचारियों की नाराजगी का सामना करना पड़ेगा हरियाणा सरकार को: महासंघ
लोकरुचि


यहां मर्यादा पुरूषोत्तम को पुलिस देती है सलामी

यहां मर्यादा पुरूषोत्तम को पुलिस देती है सलामी

ललितपुर 12 अप्रैल (वार्ता) बुंदेलखंड की अयोध्या के नाम से विख्यात ओरछा दुनिया का संभवत: इकलौता ऐसा देव स्थान है जहां सूर्योदय और सूर्यास्त के समय पुलिस बाकायदा राजा रामचन्द्र को सलामी देकर सम्मान का इजहार करती है।

मध्यप्रदेश की सीमा पर बुंदेलखंड के ललितपुर से 70 किलोमीटर और झाँसी से महज 20 किमी की दूरी पर स्थित ओरछा विश्व का एक अकेला मंदिर है जहां राम की पूजा राजा के रूप में होती है। ओरछा धाम को दूसरी अयोध्या के रूप में मान्यता प्राप्त है। यहां पर रामराजा अपने बाल रूप में विराजमान हैं, यह जनश्रुति है कि श्रीराम दिन में यहां तो रात्रि में अयोध्या में विश्राम करते हैं। शयन आरती के पश्चात उनकी ज्योति भगवान हनुमानजी को सौंपी जाती है, जो रात्रि विश्राम के लिए उन्हें अयोध्या ले जाते हैं।

शास्त्रों में वर्णित है कि आदि मनु सतरूपा ने हजारों वर्षों तक शेषशायी भगवान विष्णु को बालरूप में प्राप्त करने के लिए तपस्या की। भगवान विष्णु ने उन्हें प्रसन्न होकर आशीष दिया और त्रेता में श्रीराम, द्वापर में श्रीकृष्ण और कलियुग में ओरछा के श्रीरामराजा के रूप में अवतार लिया। इस प्रकार मधुकर शाह और उनकी पत्नी गणेशकुंवर साक्षात दशरथ और कौशल्या के अवतार थे। त्रेता में दशरथ अपने पुत्र का राज्याभिषेक न कर सके थे, उनकी यह इच्छा भी कलियुग में पूर्ण हुई।

श्रीरामराजा के अयोध्या से ओरछा आने की एक मनोहारी कथा है। एक दिन ओरछा नरेश मधुकरशाह ने अपनी पत्नी गणेशकुंवर से श्रीकृष्ण की उपासना के इरादे से वृंदावन चलने को कहा, लेकिन रानी राम भक्त थीं। उन्होंने वृंदावन जाने से मना कर दिया। क्रोध में आकर राजा ने उनसे यह कहा कि अगर तुम इतनी राम भक्त हो तो जाकर अपने श्रीराम को ओरछा ले आओ। इस पर रानी ने अयोध्या पहुंचकर सरयू नदी के किनारे लक्ष्मण किले के पास अपनी कुटी बनाकर साधना आरंभ की। इन्हीं दिनों संत शिरोमणि तुलसीदास भी अयोध्या में साधना रत थे। संत से आशीर्वाद पाकर रानी की आराधना दृढ से दृढतर होती चली गई, लेकिन रानी को कई महीनों तक रामराजा के दर्शन नहीं हुए। अंतत: वह निराश होकर अपने प्राण त्यागने के उद्देश्य से सरयू की मझधार में कूद पडी। यहीं जल की अतल गहराइयों में उन्हें रामराजा के दर्शन हुए। रानी ने उन्हें अपना मंतव्य बताया। चतुर्भुज मंदिर का निर्माण रामराजा ने ओरछा चलना स्वीकार किया लेकिन उन्होंने तीन शर्तें रखीं, एक- यह यात्रा पैदल होगी, दूसरी, यात्रा केवल पुख्य नक्षत्र में होगी, तीसरी, रामराजा की मूर्ति जिस जगह रखी जाएगी वहां से पुन: नहीं उठेगी। खुशी से प्रफुल्लि होकर रानी गणेशकुंवर ने राजा नरेश मधुकरशाह को संदेश भेजा कि वो रामराजा को लेकर ओरछा आ रहीं हैं।

राजा मधुकरशाह ने रामराजा के विग्रह को स्थापित करने के लिए करोडो की लागत से चतुर्भुज मंदिर का निर्माण कराया। जब रानी ओरछा पहुंची तो उन्होंने यह मूर्ति अपने महल में रख दी। यह निश्चित हुआ था कि शुभ मुर्हूत में मूर्ति को चतुर्भुज मंदिर में रखकर इसकी प्राण प्रतिष्ठा की जाएगी। लेकिन राम के इस विग्रह ने चतुर्भुज जाने से मना कर दिया। कहते हैं कि राम यहां बाल रूप में आए और अपनी मां का महल छोडकर वो मंदिर में कैसे जा सकते थे। भगवान श्रीराम आज भी इसी महल में विराजमान हैं और उनके लिए बना करोडो का चतुर्भुज मंदिर आज भी वीरान पडा है।

यह मंदिर आज भी मूर्ति विहीन है। यह भी एक संयोग है कि जिस संवत 1631 को रामराजा का ओरछा में आगमन हुआ, उसी दिन रामचरित मानस का लेखन भी पूर्ण हुआ, जो मूर्ति ओरछा में विद्यमान है उसके बारे में बताया जाता है कि जब राम वनवास जा रहे थे तो उन्होंने अपनी एक बाल मूर्ति मां कौशल्या को दी थी। मां कौशल्या उसी को बाल भोग लगाया करती थीं।

जब राम अयोध्या लौटे तो कौशल्या ने यह मूर्ति सरयू नदी में विसर्जित कर दी थी। यही मूर्ति गणेशकुंवर को सरयू की मझधार में मिली थी। यहां राम ओरछाधीश के रूप में मान्य हैं। रामराजा मंदिर के चारों तरफ भगवान हनुमान जी के मंदिर हैं। छडदारी हनुमान, बजरिया के हनुमान, लंका हनुमान के मंदिर एक सुरक्षा चक्र के रूप में चारों तरफ हैं। ओरछा की अन्य बहुमूल्य धरोहरों में लक्ष्मी मंदिर, पंचमुखी महादेव, राधिका बिहारी मंदिर, राजामहल, रायप्रवीण महल, हरदौल की बैठक, हरदौल की समाधि, जहांगीर महल और उसकी चित्रकारी प्रमुख है।

सं प्रदीप

वार्ता

 

More News
विश्व प्रसिद्ध 84 कोसी परिक्रमा दल श्रृंगी ऋषि आश्रम के लिए रवाना

विश्व प्रसिद्ध 84 कोसी परिक्रमा दल श्रृंगी ऋषि आश्रम के लिए रवाना

22 Apr 2019 | 12:09 PM

बस्ती 22 अप्रैल (वार्ता)उत्तर प्रदेश में बस्ती के मखौड़ा धाम से 20 अप्रैल को शुरू हुये 84 कोसी परिक्रमा दल अपने तीसरे पड़ाव के लिए सोमवार तड़के हनुमान बाग चकोही से अयोध्या के श्रृंगी ऋषि आश्रम के लिए रवाना हो गया।

see more..
विश्व प्रसिद्ध चौरासी कोसी परिक्रमा पहुंची दूसरे पड़ाव पर

विश्व प्रसिद्ध चौरासी कोसी परिक्रमा पहुंची दूसरे पड़ाव पर

21 Apr 2019 | 12:47 PM

बस्ती 21 अप्रैल, (वार्ता) उत्तर प्रदेश में बस्ती के मखौड़ा धाम से शुरू हुए अयोध्या के विश्व प्रसिद्ध चौरासी कोसी परिक्रमा मे सामिल साधू, सन्त और धर्म प्रेमी प्रथम पड़ाव राम रेखा मंदिर छावनी से रविवार के भोर में धर्म ध्वजा फहराते भजन कीर्तन गाते हुए परिक्रमा के दूसरे पड़ाव हनुमान बाग चकोही के लिए रवाना हुये।

see more..
नैसर्गिक सुंदरता से भरपूर बखिरा झील को नहीं मिल सका पर्यटन स्थल का रूतबा

नैसर्गिक सुंदरता से भरपूर बखिरा झील को नहीं मिल सका पर्यटन स्थल का रूतबा

19 Apr 2019 | 2:40 PM

संतकबीरनगर 19 अप्रैल (वार्ता) पर्यटन उद्योग की तमाम संभावनाओं को समेटे पूर्वी उत्तर प्रदेश में संतकबीरनगर जिले में स्थित बखिरा झील में प्रकृति ने चार चांद लगाये है लेकिन इसे पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित करने के प्रयास किसी सरकार ने नहीं किये।

see more..
गीता प्रेस की पुस्तके अब आन लाइन उपलब्ध

गीता प्रेस की पुस्तके अब आन लाइन उपलब्ध

17 Apr 2019 | 12:33 PM

गोरखपुर 17 अप्रैल (वार्ता) विश्व में धार्मिक पुस्तकों के विख्यात प्रकाशक गीता प्रेस गोरखपुर की प्रमुख पुस्तकें अब आन लाइन उपलब्ध रहेगीं।

see more..
image