Monday, Sep 27 2021 | Time 15:57 Hrs(IST)
image
राज्य » अन्य राज्य


हाई कोर्ट ने ममता बनर्जी पर लगाया पांच लाख का जुर्माना

हाई कोर्ट ने ममता बनर्जी पर लगाया पांच लाख का जुर्माना

कोलकाता, 07 जुलाई (वार्ता) कलकत्ता उच्च न्यायालय ने बुधवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी को बड़ा झटका देते हुए उन पर पांच लाख रुपये का जुर्माना लगाया।

सुश्री बनर्जी पर यह जुर्माना उनकी चुनाव याचिका की सुनवाई से न्यायमूर्ति कौशिक चंदा की पीठ को हटाने की मांग के बाद लगाया गया है। सुश्री बनर्जी ने न्यायमूर्ति चंदा पर भाजपा से संबंधों का आरोप लगाया है।

अदालत ने मामले में टिप्पणी करते हुए यह भी कहा कि सुश्री ममता बनर्जी ने न्यायपालिका की छवि धूमिल करने की कोशिश की है। इससे पहले याचिका दायर करते समय सुश्री बनर्जी की ओर से कहा गया था कि न्यायमूर्ति चंदा की कथित फोटो सामने आई है, जिसमें वह भाजपा नेताओं के साथ दिखाई दे रहे हैं। ऐसे में उन्हें इस केस से हट जाना चाहिए।

न्यायमूर्ति चंदा ने सुश्री बनर्जी की अर्जी खारिज कर दी और पांच लाख रुपये का जुर्माना लगाने से पहले खुद को केस से अलग भी कर लिया। न्यायमूर्ति चंदा ने कहा कि पांच लाख रुपये की जुर्माना राशि कलकत्ता हाई कोर्ट बार काउंसिल एसोसिएशन के खाते में जमा करनी होगी और इसे कोविड -19 से प्रभावित एसोसिएशन के सदस्यों के कल्याण के लिए खर्च किया जाएगा।

सुश्री बनर्जी के वकील ने पक्षपात का हवाला देते हुए मामले को न्यायमूर्ति चंदा की पीठ से स्थानांतरित करने की अपील की। उन्होंने दावा किया कि न्यायमूर्ति चंद्रा को अक्सर भाजपा नेताओं के साथ देखा गया है।

न्यायमूर्ति चंदा ने कहा,“सुश्री बनर्जी न्यायपालिका की छवि धूमिल करने का प्रयास कर रही हैं।” उन्होंने कहा,“मामले की सुनवाई से पहले ही मेरे फैसले को प्रभावित करने के लिए एक जानबूझकर और सुनियोजित प्रयास किया गया।”

न्यायमूर्ति चंदा ने कहा,“यह सुझाव बेतुका है कि एक न्यायाधीश जिसका किसी मामले के लिए किसी राजनीतिक दल के साथ संबंध है, वादी के दृष्टिकोण के कारण एक न्यायाधीश को पक्षपाती नहीं देखा जा सकता है।”

बार और बेंच के अनुसार न्यायमूर्ति चंदा ने कलकत्ता उच्च न्यायालय की पीठ में पदोन्नत होने से पहले भारतीय जनता पार्टी सरकार के लिए अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल के रूप में कार्य किया था।

न्यायमूर्ति चंदा ने कहा,“18 जून की सुनवाई के तुरंत बाद, तृणमूल नेता मेरी तस्वीरों के साथ तैयार थे और भाजपा के साथ मेरे जुड़ाव संबंधी फोटो ट्वीट किए।”

दरअसल इस विवाद के मूल में दो मई को बंगाल समेत देश के चार राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश में हुए विधानसभा चुनावों के नतीजे आए थे। बंगाल में तृणमूल को जीत जरूर मिली लेकिन सुश्री बनर्जी नंदीग्राम सीट पर ‌भाजपा के शुभेंदु अधिकारी से 1956 वोटों से हार गईं। नतीजे के दिन ही ममता ने वोटों की दोबारा गिनती की मांग की, जिसे चुनाव आयोग ने नहीं माना।

इसके बाद चुनावी नतीजों के खिलाफ ममता कलकत्ता उच्च न्यायालय चली गईं। इस याचिका में उन्होंने शुभेंदु अधिकारी पर चुनाव में रिश्वतखोरी, भ्रष्टाचार और धर्म के आधार पर वोट मांगने के आरोप लगाए और चुनाव रद्द करने की मांग की। इस मामले की सुनवाई कौशिक चंदा की बेंच कर रही थी। इस पर सुश्री बनर्जी ने उन्हें केस से अलग किए जाने की मांग की थी। उनका कहना था कि कौशिक चंदा के भाजपा से रिश्ते रहे हैं। उनकी इस मांग पर अदालत ने 5 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है।

संजय जितेन्द्र

वार्ता

More News
सेल्वगणपति राज्य सभा के लिए ‘निर्विरोध’ निर्वाचित घोषित

सेल्वगणपति राज्य सभा के लिए ‘निर्विरोध’ निर्वाचित घोषित

27 Sep 2021 | 3:13 PM

पुड्डुचेरी, 27 सितंबर (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उम्मीदवार एस सेल्वगणपति केन्द्र शासित प्रदेश पुड्डुचेरी से राज्य सभा के सदस्य के रूप में निर्विरोध घोषित किये गये।

see more..
चक्रवाती तूफान गुलाब: आंध्र के तटवर्ती जिलों में भारी बारिश

चक्रवाती तूफान गुलाब: आंध्र के तटवर्ती जिलों में भारी बारिश

27 Sep 2021 | 3:01 PM

विजयवाड़ा, 27 सितंबर (वार्ता) चक्रवाती तूफान गुलाब के असर से आंध्र प्रदेश के तटवर्ती जिलों भारी बारिश हुई है जिससे कई आवासीय कॉलोनियां पानी में डूब गयी हैं, हजारों एकड़ में लगी फसल बारिश के पानी में डूब चुकी है तथा कई गांवों के सड़क संपर्क टूट चुके हैं।

see more..
चक्रवाती तूफान गुलाब के असर तेलंगाना में भारी वर्षा

चक्रवाती तूफान गुलाब के असर तेलंगाना में भारी वर्षा

27 Sep 2021 | 2:18 PM

हैदराबाद, 27 सितंबर (वार्ता) चक्रवाती तूफान ‘गुलाब’ का असर सोमवार तड़के से तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद सहित राज्य के कई हिस्सों में दिखा जहां भारी बारिश हो रही है।

see more..
image