Wednesday, Feb 20 2019 | Time 18:38 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मंत्री ने धार्मिक,पुरातात्विक,ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक स्थलों की मांगी जानकारी
  • गडकरी ने किया मुरादाबाद और मेरठ में करोड़ों की परियोजनाओं का शिलान्यास
  • टेलर ने फ्लेमिंग को पीछे छोड़ा
  • आरपीएफ को विशेष अभियान में 922 लावारिस बच्चे मिले
  • नामवर पंचतत्व में विलीन, साहित्य में शोक की लहर
  • श्रम कार्ड के लम्बित आवेदनों का 15 दिन में होगा निस्तारण - डहरिया
  • जोशी ने दिये शहीद के आश्रित के लिए डेढ़ लाख
  • देश को गर्त में धकेलने का प्रयास कर रहे हैं विपक्षी दल-शर्मा
  • पाकिस्तान के खिलाफ भड़काऊ बयान देकर करतारपुर कॉरीडोर को नुकसान पहुंचा रहे : खेहरा
  • 73 साल की सुनीता के लिए उम्र सिर्फ एक नंबर
  • राष्ट्रीय ग्रिड से बिजली उपलब्ध कराना हुआ आसान : राजकुमार
  • चौथी भारत-आसियान प्रदर्शनी एवं सम्मेलन कल से
  • छत्तीसगढ़ सरकार पंचायतों से रेत खदाने लेंगी वापस – भूपेश
  • भारत से जाने वाले हाजियों का काेटा बढ़ा
  • अमेरिका आईएनएफ संधि से हटने को लेकर गंभीर नहीं : पुतिन
राज्य Share

प्रदेश में महिलाओं के उच्च शिक्षा का प्रतिशत बढा है:नाईक

प्रदेश में महिलाओं के उच्च शिक्षा का प्रतिशत बढा है:नाईक

फैजाबाद, 06 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि प्रदेश में महिलाओं के उच्च शिक्षा का प्रतिशत बढ़ा है जो एक शुभ संकेत है।

श्री नाईक ने गुरूवार को नरेन्द्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज के बीसवें दीक्षांत समारोह में गत वर्ष प्रदेश के पच्चीस विश्वविद्यालयों के दीक्षान्त समारोह के आंकड़े पेश करते हुए कहा कि प्रदेश में कुल पन्द्रह लाख साठ हजार उपाधियां विद्यार्थियों को प्रदान की गयी थीं जिसमें 51 प्रतिशत छात्रायें शामिल हैं। वहीं 1653 पदक प्रदान किये गये जिनमें 66 प्रतिशत पदक छात्राओं को प्राप्त हुए हैं। इससे लगता है कि प्रदेश में महिलाओं के उच्च शिक्षा का प्रतिशत बढ़ा है। उन्होंने उपाधि प्राप्तकर्ता विद्यार्थियों का आवाहन करते हुए कहा कि वे निष्ठा, कड़ी मेहनत और निरन्तर प्रयास से अपना लक्ष्य को पूरा करने में लग जाये। उन्होंने कहा कि पुरुषों से महिलायें निरन्तर आगे बढ़ रही हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में उच्च शिक्षा का अनुशासित कैलेंडर के पालन को विश्वविद्यालयों द्वारा सुनिश्चित किये जाने का परिणाम है कि इस वर्ष 26 विश्वविद्यालयों में दीक्षांत समारोह 84 दिनों की अवधि में 26 अगस्त से प्रारम्भ होकर 15 नवम्बर के बीच सम्पन्न हो जाएंगे। उन्होंने उपाधि प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को शुभकामनाएं देते हुए उन्हें जीवन के नए आकाश में उड़ान की चुनौतियों के लिए तैयार रहने का संदेश दिया।

इससे पूर्व समारोह केंद्रीय विश्वविद्यालय झांसी के चांसलर तथा भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद नई दिल्ली के पूर्व महानिदेशक डॉ पंजाब सिंह ने कहा कि भारतीय कृषि क्षेत्र की विषमताओं को दूर करते हुए हमें कृषि क्षेत्र की विकास दर में बढ़ोत्तरी के लिए प्रयास करना होगा। उन्होंने कहा कि गांव से शहरों की ओर युवाओं का पलायन रोकना चुनौती है। युवा वैज्ञानिकों का आह्वान करते हुए कहा कि हमारे वैज्ञानिकों को छोटी जोत के किसानों के लिए हल्के व सस्ते कृषि यंत्र विकसित करने होंगे साथ ही गुणवत्ता युक्त बीज, पौध सामग्री व तकनीकों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के लिए पूरे मनोयोग से योगदान करना होगा।

डॉ सिंह ने कहा कि बढ़ते रासायनिक पदार्थों के उपयोग से भूमि व फसलों में जैविक असन्तुलन को बचाना होगा। उन्होंने कहा कि कृषि विश्वविद्यालयों को शिक्षा प्रणाली में राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर तेजी से विकसित हो रही तकनीकी तथा आर्थिक व सामाजिक विकास की दृष्टि से गति देना होगा। कार्यक्रम को शिक्षाविद तथा कृषि वैज्ञानिक डॉ प्रेमलाल गौतम ने भी सम्बोधित किया। श्री नाईक ने डॉ गौतम को मानद उपाधि प्रदान की।

दीक्षांत समारोह में कुल 588 छात्र-छात्राओं को विभिन्न पाठ्यक्रमों की उपाधियां तथा 42 मेधावियों को स्वर्ण पदक प्रदान किये गए।

सं तेज

वार्ता

image