Wednesday, Jan 23 2019 | Time 14:36 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • प्रियंका-सिंधिया बदलेंगे उत्तर प्रदेश की राजनीतिक तस्वीर :कांग्रेस
  • कांग्रेस सरकार चुनावों में किए सभी वादे करेंगी पूरा- महंत
  • कर्नाटक में लागू होगीं औराडकर समिति की सिफारिशें
  • कर्जमाफी के मुद्दे पर विपक्ष का सदन से बहिर्गमन
  • छत्तीसगढ़ के 16 बच्चे परीक्षा में तनाव पर मोदी से करेंगे चर्चा
  • अचानक रौशनी कम होने से विमानों की आवाजाही प्रभावित
  • लोस चुनावों में निश्चित हार देख कर ईवीएम पर सवाल उठा रही है कांग्रेस: चुग
  • नेपियर में भी बजा भारत का डंका, न्यूजीलैंड को धो डाला
  • नेपियर में भी बजा भारत का डंका, न्यूजीलैंड को धो डाला
  • शोपियां में दूसरे दिन भी जनजीवन प्रभावित
  • दो दिवसीय दौरे पर अमेठी पहुंचे राहुल
  • शोपियां में दूसरे दिन भी जनजीवन प्रभावित
  • अफगानिस्तान में हवाई हमलों में 10 आतंकवादी ढ़ेर
लोकरुचि Share

शिराज-ए-हिन्द के मोहर्रम में हिन्दू भी करते हैं मजलिस

शिराज-ए-हिन्द के मोहर्रम में हिन्दू भी करते हैं मजलिस

जौनपुर, 09 सितम्बर (वार्ता) शिराज-ए-हिन्द जौनपुर के मोहर्रम में सिर्फ शिया मुसलमान ही नहीं बल्कि हिन्दू भी मजलिस और मातम में शामिल होकर गंगा जमुनी संस्कृति की अनूठी मिसाल पेश करते हैं।


        हैदराबाद और लखनऊ के बाद शिराज-ए-हिन्द जौनपुर का स्थान मुहर्रम में आता है। यहां के विश्व प्रसिद्ध इस्लाम के चेहल्लुम होता है, जहां तुर्बत की जियारत करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं।

       शिराज-ए-हिन्द जौनपुर मरकजी मुहर्रम कमेटी के अध्यक्ष सैय्यद शहन्शाह हुसैन रिजवी ने रविवार को ‘यूनीवार्ता को बताया कि जौनपुर की अजादारी देश में विशिष्ट स्थान रखती है, इसलिए शिराज-ए-हिन्द जौनपुर को अजादारी का मरकज कहा जाता है। 

      उन्होंने कहा कि मुहर्रम माह का चांद दिखते ही पूरी शिया जमात के मुसलमान गमगीन हो जाते हैं, सभी लोग काला वस्त्र धारण कर लेते हैं। वहीं महिलायें अपनी चूड़ियां तोड़ देती हैं। दो माह आठ दिन तक चलने वाले मुहर्रम के दौरान जौनपुर में सौ से अधिक जुलूस निकाले जाते हैं। चांद दिखते ही इमाम हुसैन के गम में लोग डूब जाते हैं। उनका कहना है कि अगर 10 सितम्बर को चांद दिखा तो 11 सितम्बर से  मुहर्रम शुरू हो जायेगा, नहीं तो 12 सितम्बर से होगा।

श्री रिजवी ने बताया कि शिराज-ए-हिन्द जौनपुर में पहली मुहर्रम को मुफ्ती मुहल्ले में अंगार-ए-मातम (जलते अंगारों पर चलकर मातम करना) होता है और बाजार भुआ से जुलूस अलम निकलता है। दूसरी मुहर्रम को हमाम दरवाजा से जुलजनाह व अलम का जुलूस निकलता है। तीसरी मुहर्रम को कई जगहों पर जुलूस निकलता है।

      चार मुहर्रम को मखदमूशाह अढ़न से जुलूस जुलजनाह आैर तुर्बत निकलता है जो कल्लू मरहूम इमामबाड़े से होता हुआ ताड़तला ईमामबाड़ा पर जाकर समाप्त होता है। वहां एक ताबूत निकलता है जिसे जुलजनाह से मिलाया जाता है। पाँचवीं मुहर्रम को चहारसू इमामबाड़ा से जुलुस अलम निकलता है, जो कल्लू मरहूम के इमामबाड़े पर जाकर समाप्त होता है। इसके साथ ही छतरीघाट (पुरानी बाजार) ईमामबाड़े से जुलूस जुलजनाह निकलता है जो इमामबाड़ा दालान कोठियाबीर सदर इमामबाड़ा होते हुए पुनः छतरीघाट पर जाकर समाप्त होता है और नकी फाटक तथा मुफ्ती मोंहल्ला से तुर्बत और अलम निकलता है।

       उन्होंने कहा कि मोहर्रम की छठी तारीख को कटघरे से जुलूस-ए-अलम उठता है जो ओलन्दगंज, शाहीपुल, चहारसू होता हुआ हमाम दरवाजे के इमामबाड़ा पर समाप्त हेाता है। इसके साथ ही कल्लू इमामबाड़ा के पास से तुरबत निकलती है और तकरीर होती है, और तुुरबत को अलम से मिलाया जाता है। सातवीं मोहर्रम को हर मुहल्ले से जुलूस निकलता है।

श्री रिजवी ने बताया कि आठवीं मोहर्रम को देश में मशहूर जंजीरों का मातम ऐतिहासिक अटाला मस्जिद पर होता है। इसमें जुलूस जुलजनाह व झूला अली असगर इमामबाड़ा नाजिम अली से निकल कर अटाला मस्जिद से हेाता हुआ राजा बाजार के इमामबाड़ा में समाप्त होता है, इसमें पूरे शहर की अंजुमने नौहा व मातम करती है। नौंवीं मोहर्रम की रात शहर व देहात में ताजिया इमाम चैक पर रखा जाता है, रात भर मजलिस व मातम होता है। इसे शब—ए आशूर कहा जाता है।

      दस मोहर्रम को ताजियों को सदर इमामबाड़ा लाकर गमगीन माहौल में दफन किया जाता है , इस दिन लोग भूखे रहते हैं और सायंकाल सदर इमामबाड़े में मजलिसे शामे गरीबां होती है।

     श्री रिजवी ने बताया कि मोहर्रम महीने में प्रतिदिन हर मुहल्ले में जुलजनाह अलम का जुलूस निकलता रहता है। मोहर्रम के जुलूस के बाद जौनपुर का प्रसिद्ध ऐतिहासिक अलम नौचन्दी व जुलूस-ए-अमारी इमामबाड़ा स्व. मीर बहादुर अली दालान पुरानी बाजार से निकलता है। इस वर्ष 11 अक्टूबर 2018 को अलम नौचन्दी व जुलूस-ए-अमारी है। इसमें देश और प्रदेश के कोने-कोने से लोग आते हैं और धर्म गुरू मौलान सैय्यद कल्वे जौव्वाद साहब मजलिस को सम्बोधित करते हैं।

       शिराज-ए-हिन्द जौनपुर के मोहर्रम में सिर्फ शिया मुसलमान ही नहीं बल्कि हिन्दू भी मजलिस व मातम में शामिल  होते है। फिदा हुसैन अंजुमन अहियापुर में डढ़े दर्जन से अधिक हिन्दू शामिल है जो हर वर्ष मोहर्रम में ताजिया रखते है और मातम भी करते है। इसके अलावा यहां पर कई शब्बेदारियां होती हैं। जहां 24 घंटे लगातार नौहाख्वानी और सीनाजनी का सिलसिला चलता है।

More News

अनिल और माधुरी ने किये खतरनाक स्टंट

20 Jan 2019 | 12:02 PM

 Sharesee more..
वर्ष का पहला खग्रास चंद्रग्रहण 21 जनवरी

वर्ष का पहला खग्रास चंद्रग्रहण 21 जनवरी

19 Jan 2019 | 8:54 PM

मुक्तसर , 19 जनवरी (वार्ता )इस वर्ष का पहला खग्रास चंन्द्रग्रहण पौष पूर्णिमा को 21 जनवरी सोमवार को प्रात: 9: 04 बजे से दोपहर 12:21 बजे तक दिखाई देगा।

 Sharesee more..
फिल्म ‘कलंक’ में दिखेगी चंदेरी की झलक

फिल्म ‘कलंक’ में दिखेगी चंदेरी की झलक

17 Jan 2019 | 10:22 AM

अशोकनगर, 17 जनवरी (वार्ता) प्रसिद्ध बॉलीवुड अदाकारा सोनाक्षी सिन्हा और आलिया भट्ट अभिनीत फिल्म ‘कलंक’ में दर्शकों को मध्यप्रदेश के अशोकनगर जिले की ऐतिहासिक नगरी चंदेरी की झलक देखने को मिलेगी। बीते कुछ दिनों से चंदेरी में बॉलीवुड फिल्म कलंक की शूटिंग जारी है।

 Sharesee more..
असम, दार्जिलिंग की तरह चाय उत्पादन से बनेगी जशपुर की अलग पहचान

असम, दार्जिलिंग की तरह चाय उत्पादन से बनेगी जशपुर की अलग पहचान

16 Jan 2019 | 7:09 PM

पत्थलगांव, 16 जनवरी (वार्ता) छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले की अनुकूल जलवायु के चलते यहां चाय उत्पादन का रकबा में लगातार वृद्धि हो रही है। असम और दार्जिलिंग की तरह जशपुर की चाय की भी अच्छी क्वालिटी होने से छत्तीसगढ़ सहित पड़ोस के झारखंड और उड़ीसा राज्य के लोगों को इस चाय का स्वाद खूब रास आ रहा है।

 Sharesee more..
image