Wednesday, Jun 26 2019 | Time 19:36 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आकाश विजयवर्गीय को अदालत ने जेल भेजने के आदेश दिए
  • स्टर्लिंग बॉयोटेक मामले में 9778 करोड़ की विदेशी संपत्ति जब्त
  • हरवीन सराओ ने जीता 10 मीटर एयर पिस्टल का स्वर्ण
  • हरवीन सराओ ने जीता 10 मीटर एयर पिस्टल का स्वर्ण
  • सैप्टिक टैंक की सफाई करने उतरे चार लोगों की दम घुटने से मौत
  • मथुरा में युवक का अपहरण,20 लाख फिरौती की मांग
  • त्रिपुरा के प्रमुख सचिव और शिक्षा निदेशक को न्यायालय का नोटिस
  • शिकायत निवारण नियमावली से सरकारी सेवकों को काफी फायदा होगा: नीतीश
  • बिट्टू की हत्या के पीछे गहरी साजिश : बादल
  • गर्मी-उमस के कारण पंजाब-हरियाणा में बिजली मांग में रिकार्ड तोड़ वृद्धि
  • सशक्त टीम के रुप में उभर रही है महिला फुटबॉल टीम : एंब्रोस
  • सशक्त टीम के रुप में उभर रही है महिला फुटबॉल टीम : एंब्रोस
  • व्यापारिक अड़चनों को दरकिनार कर रणनीतिक साझीदारी मजबूत करेंगे भारत और अमेरिका
  • इनेलो का एकमात्र राज्यसभा सांसद भाजपा में शामिल
  • हैंडबाल की इंटरनेशनल चैंपियनशिप की मेजबानी का दावा करेगा भारत
लोकरुचि


शिराज-ए-हिन्द के मोहर्रम में हिन्दू भी करते हैं मजलिस

शिराज-ए-हिन्द के मोहर्रम में हिन्दू भी करते हैं मजलिस

जौनपुर, 09 सितम्बर (वार्ता) शिराज-ए-हिन्द जौनपुर के मोहर्रम में सिर्फ शिया मुसलमान ही नहीं बल्कि हिन्दू भी मजलिस और मातम में शामिल होकर गंगा जमुनी संस्कृति की अनूठी मिसाल पेश करते हैं।


        हैदराबाद और लखनऊ के बाद शिराज-ए-हिन्द जौनपुर का स्थान मुहर्रम में आता है। यहां के विश्व प्रसिद्ध इस्लाम के चेहल्लुम होता है, जहां तुर्बत की जियारत करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं।

       शिराज-ए-हिन्द जौनपुर मरकजी मुहर्रम कमेटी के अध्यक्ष सैय्यद शहन्शाह हुसैन रिजवी ने रविवार को ‘यूनीवार्ता को बताया कि जौनपुर की अजादारी देश में विशिष्ट स्थान रखती है, इसलिए शिराज-ए-हिन्द जौनपुर को अजादारी का मरकज कहा जाता है। 

      उन्होंने कहा कि मुहर्रम माह का चांद दिखते ही पूरी शिया जमात के मुसलमान गमगीन हो जाते हैं, सभी लोग काला वस्त्र धारण कर लेते हैं। वहीं महिलायें अपनी चूड़ियां तोड़ देती हैं। दो माह आठ दिन तक चलने वाले मुहर्रम के दौरान जौनपुर में सौ से अधिक जुलूस निकाले जाते हैं। चांद दिखते ही इमाम हुसैन के गम में लोग डूब जाते हैं। उनका कहना है कि अगर 10 सितम्बर को चांद दिखा तो 11 सितम्बर से  मुहर्रम शुरू हो जायेगा, नहीं तो 12 सितम्बर से होगा।

श्री रिजवी ने बताया कि शिराज-ए-हिन्द जौनपुर में पहली मुहर्रम को मुफ्ती मुहल्ले में अंगार-ए-मातम (जलते अंगारों पर चलकर मातम करना) होता है और बाजार भुआ से जुलूस अलम निकलता है। दूसरी मुहर्रम को हमाम दरवाजा से जुलजनाह व अलम का जुलूस निकलता है। तीसरी मुहर्रम को कई जगहों पर जुलूस निकलता है।

      चार मुहर्रम को मखदमूशाह अढ़न से जुलूस जुलजनाह आैर तुर्बत निकलता है जो कल्लू मरहूम इमामबाड़े से होता हुआ ताड़तला ईमामबाड़ा पर जाकर समाप्त होता है। वहां एक ताबूत निकलता है जिसे जुलजनाह से मिलाया जाता है। पाँचवीं मुहर्रम को चहारसू इमामबाड़ा से जुलुस अलम निकलता है, जो कल्लू मरहूम के इमामबाड़े पर जाकर समाप्त होता है। इसके साथ ही छतरीघाट (पुरानी बाजार) ईमामबाड़े से जुलूस जुलजनाह निकलता है जो इमामबाड़ा दालान कोठियाबीर सदर इमामबाड़ा होते हुए पुनः छतरीघाट पर जाकर समाप्त होता है और नकी फाटक तथा मुफ्ती मोंहल्ला से तुर्बत और अलम निकलता है।

       उन्होंने कहा कि मोहर्रम की छठी तारीख को कटघरे से जुलूस-ए-अलम उठता है जो ओलन्दगंज, शाहीपुल, चहारसू होता हुआ हमाम दरवाजे के इमामबाड़ा पर समाप्त हेाता है। इसके साथ ही कल्लू इमामबाड़ा के पास से तुरबत निकलती है और तकरीर होती है, और तुुरबत को अलम से मिलाया जाता है। सातवीं मोहर्रम को हर मुहल्ले से जुलूस निकलता है।

श्री रिजवी ने बताया कि आठवीं मोहर्रम को देश में मशहूर जंजीरों का मातम ऐतिहासिक अटाला मस्जिद पर होता है। इसमें जुलूस जुलजनाह व झूला अली असगर इमामबाड़ा नाजिम अली से निकल कर अटाला मस्जिद से हेाता हुआ राजा बाजार के इमामबाड़ा में समाप्त होता है, इसमें पूरे शहर की अंजुमने नौहा व मातम करती है। नौंवीं मोहर्रम की रात शहर व देहात में ताजिया इमाम चैक पर रखा जाता है, रात भर मजलिस व मातम होता है। इसे शब—ए आशूर कहा जाता है।

      दस मोहर्रम को ताजियों को सदर इमामबाड़ा लाकर गमगीन माहौल में दफन किया जाता है , इस दिन लोग भूखे रहते हैं और सायंकाल सदर इमामबाड़े में मजलिसे शामे गरीबां होती है।

     श्री रिजवी ने बताया कि मोहर्रम महीने में प्रतिदिन हर मुहल्ले में जुलजनाह अलम का जुलूस निकलता रहता है। मोहर्रम के जुलूस के बाद जौनपुर का प्रसिद्ध ऐतिहासिक अलम नौचन्दी व जुलूस-ए-अमारी इमामबाड़ा स्व. मीर बहादुर अली दालान पुरानी बाजार से निकलता है। इस वर्ष 11 अक्टूबर 2018 को अलम नौचन्दी व जुलूस-ए-अमारी है। इसमें देश और प्रदेश के कोने-कोने से लोग आते हैं और धर्म गुरू मौलान सैय्यद कल्वे जौव्वाद साहब मजलिस को सम्बोधित करते हैं।

       शिराज-ए-हिन्द जौनपुर के मोहर्रम में सिर्फ शिया मुसलमान ही नहीं बल्कि हिन्दू भी मजलिस व मातम में शामिल  होते है। फिदा हुसैन अंजुमन अहियापुर में डढ़े दर्जन से अधिक हिन्दू शामिल है जो हर वर्ष मोहर्रम में ताजिया रखते है और मातम भी करते है। इसके अलावा यहां पर कई शब्बेदारियां होती हैं। जहां 24 घंटे लगातार नौहाख्वानी और सीनाजनी का सिलसिला चलता है।

More News
समाजवादी आंदोलन के पहले अनुयायी थे कमांडर

समाजवादी आंदोलन के पहले अनुयायी थे कमांडर

24 Jun 2019 | 1:38 PM

इटावा, 24 जून (वार्ता) आजादी की लड़ाई में अपनी जुझारू प्रवृत्ति और हौसले के बूते अंग्रेजी हुकूमत का बखिया उधड़ने वाले अर्जुन सिंह भदौरिया को स्वतंत्रता सेनानियों ने कमांडर की उपाधि से नवाजा। कमांडर ने इसी जज्बे से आजाद भारत में आपातकाल का जमकर विरोध किया।

see more..
बदहाली का दंश झेलने का मजबूर पतंजलि की जन्मस्थली

बदहाली का दंश झेलने का मजबूर पतंजलि की जन्मस्थली

19 Jun 2019 | 2:02 PM

गोण्डा 19 जून (वार्ता) समूची दुनिया 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने की तैयारी में जुटी हैं वहीं योग के जनक माने जाने वाले महायोगी महर्षि पतंजलि की जन्मस्थली आज भी बदहाली का दंश झेलने को मजबूर है

see more..
मां यशोदा के हाथों बादाम का हलवा खाकर कान्हा हुये स्वस्थ

मां यशोदा के हाथों बादाम का हलवा खाकर कान्हा हुये स्वस्थ

18 Jun 2019 | 12:49 PM

मथुरा, 18 जून (वार्ता) हर पल भक्तिरस में सराबोर रहने वाली कान्हा नगरी के वृन्दावन स्थित प्राचीन राधारमण मंदिर में चल रहे निकुंज उत्सव में जलयात्रा के दौरान शीतल जल से अधिक स्नान करने से राधारमण लाल ज्वर से पीड़ित हो गए।

see more..
राधारमण मंदिर में श्रद्धा, भक्ति एवं संगीत की त्रिवेणी

राधारमण मंदिर में श्रद्धा, भक्ति एवं संगीत की त्रिवेणी

16 Jun 2019 | 4:37 PM

मथुरा, 16 जून (वार्ता) वृन्दावन के सप्त देवालयों में मशहूर प्राचीन राधारमण मंदिर में दिव्य ग्रीष्मकालीन निकुंज सेवा में श्रद्धा, भक्ति एवं संगीत की त्रिवेणी बह रही है।

see more..
असीम संभावानाओं वाला पचनद स्थल उपेक्षा का है शिकार

असीम संभावानाओं वाला पचनद स्थल उपेक्षा का है शिकार

15 Jun 2019 | 11:38 PM

जालौन 15 जून (वार्ता) उत्तर प्रदेश की सूखाग्रस्त बुंदेलखंड की धरती पर जालौन जिला मुख्यालय से महज 55 किलोमीटर की दूरी पर हरे भरे जंगलों और ग्रामीण अंचल के बीच एक ऐसा मनोहारी दर्शनीय स्थल मौजूद है जो एकबार बुंदेलखंड में होने का एहसास ही भुला देता है और वह स्थान है पांच नदियों के संगम से बना “ पचनद स्थल ” ।

see more..
image