Tuesday, Jun 19 2018 | Time 17:57 Hrs(IST)
image
image
BREAKING NEWS:
  • राजनीति-संपत्ति पंजीकरण-सोनी
  • राजद का धरना चुनावी मौसम में ‘पॉलिटिकल रिहर्सल’ - भाजपा
  • उद्योगों को दो महीनों के भीतर जलशोधन सयंत्र लगाने होंगे:सोनी
  • आयकर विभाग ने कर्नाटक के मंत्री के खिलाफ एक और शिकायत दर्ज की
  • सत्ता के लिए नहीं ,व्यापक नजरिये से किया गया था गठबंधन :महबूबा
  • श्रद्धालुओं पर पथराव नहीं हुआ: पुलिस
  • भाजपा गठबंधन से हटी, खराब हालात का ठीकरा फोड़ा महबूबा के सिर
  • हरियाणा में कुलपतियों की नियुक्तियाें हेतु यूजीसी मानक होंगे लागू
  • रुपया 39 पैसे टूटकर करीब एक माह के निचले स्तर पर
  • फोटो कैप्शन- पहला सेट
  • सरकारी कर्मचारी रिश्वत लेते गिरफ्तार
  • ले जनरल अजीज बंगलादेश के नये सेना प्रमुख बने
  • पेनल्टी पर वार तकनीक को लेकर छिड़ा विवाद
  • सोशल मीडिया में ‘मुबारक’ संदेश की भरमार
  • शिक्षाकर्मी संविलियन के बाद अब जुटे शिक्षा का स्तर सुधारने-रमन
फीचर्स Share

अनपिंग किले, नमक खदान और चीनी मिल में सहेजा ताईवान का इतिहास

अनपिंग किले, नमक खदान और चीनी मिल में सहेजा ताईवान का इतिहास

ताईनेन . नयी दिल्ली 19 फरवरी (वार्ता) पूर्वी एशिया और चीन सागर के द्वीपीय देश ताईवान में डच और जापान के अौपनिवेशिक शासन के इतिहास को अनपिंग किले, नमक संग्रहालय और चीनी मिल में सहेजते हुए इन्हें विश्व पर्यटन के स्थल के रुप में विकसित करने के प्रयास किए जा रहे हैं। लगभग 400 किलोमीटर लंबे और 150 किलोमीटर चौड़े देश ताईवान ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाने के लिए अपना इतिहास स्वतंत्र रुप से लिखना शुरू किया है। इसके लिए चीन से अलग ताईवान ने ऐसे स्थलों को पहचाना और इन्हें अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर रखना शुरू किया है जिनका संबंध केवल ताईवान की भूमि है। गौरतलब है कि चीन में साम्यवादी क्रांति के बाद ताईवान में लोकतांत्रिक व्यवस्था का स्वीकार किया अौर अपने आप के स्वतंत्र और संप्रभु राष्ट्र घोषित कर दिया। ताईनेन शहर के अनपिंग किले का निर्माण वर्ष 1624 में आरंभ किया और इसे बांस की लकडियों से बनाया गया क्योंकि उस समय पक्की ईटें उपलब्ध नहीं हो पायी थी। हालांकि 1627 में इसकी निर्माण पक्की ईंटों से शुरू किया जो 1633 में पूरा गया। किले का मुख्य इस्तेमाल चीन सागर से होने वाली व्यापारिक आैर सामरिक गतिविधियों पर नजर रखना था। यह आयुध भंडार भी था जिसके कारण यह विदेशी आक्रमणकारियों के निशाने पर रहा। इसी किले में ईस्ट इंडिया कंपनी और डच सरकार के बीच एक संधि की प्रति भी रखी गयी है जिसमें डच कंपनियों ने भारत और ईस्ट इंडिया कंपनी ने चीन के साथ व्यापार के अधिकार छोड दिए थे। अनपिंग किले को तीन मंजिल बनाया गया है और इसकी सुरक्षा के लिए 10 मीटर ऊंची दीवारों के तीन घेरे बनाए गए हैं। लगभग 400 वर्ष के इतिहास में अनपिंग किला मिंग और क्विंग सल्तनत और डच तथा जापानी औपनिवेशिक शासन के आधीन रहा। इससे आयुध भंडार, आवास तथा कार्यालय के रुप इस्तेमाल किया गया। बहरहाल इस किले की कुछ पुरानी दीवारें बची है जिन्हें तकनीक का इस्तेमाल करते हुए पर्यटन स्थल के रुप में विकसित किया गया है। सत्या/टंडन जारी वार्ता

More News
सस्ता अनाज भी नहीं राेक पा रहा मजदूरों का पलायन

सस्ता अनाज भी नहीं राेक पा रहा मजदूरों का पलायन

10 Jun 2018 | 11:43 AM

नयी दिल्ली 10 जून (वार्ता) छत्तीसगढ़ में सरकार द्वारा गरीबों को सस्ती दर पर अनाज उपलब्ध कराये जाने के बावजूद जीवन की अन्य जरूरतो को पूरा करने के लिए ग्रामीण इलाकों से मजदूरों और गरीब किसानों का अन्य राज्यों में पलायन बदस्तूर जारी है जिनमें खासी तादाद उन लोगों की भी है जिनके पास पर्याप्त खेतीबाड़ी है।

 Sharesee more..
इटावा में घड़ियालों के जन्में बच्चों से गुलजार हुई चंबल नदी

इटावा में घड़ियालों के जन्में बच्चों से गुलजार हुई चंबल नदी

03 Jun 2018 | 3:25 PM

इटावा, 03 जून (वार्ता) उत्तर प्रदेश के इटावा में पहली बार हजारों की तादात में जन्में घडियालों के बच्चों से चंबल नदी गुलजार हो गयी है।

 Sharesee more..
गीता प्रेस जल्द प्रकाशित करेगा तेलगू भाषा में ‘महाभारत’

गीता प्रेस जल्द प्रकाशित करेगा तेलगू भाषा में ‘महाभारत’

30 May 2018 | 3:41 PM

गोरखपुर, 30 मई (वार्ता) धार्मिक पुस्तकों के प्रकाशन में लगभग एक सदी से लगे उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में स्थित गीता प्रेस ने अपने इतिहास में एक नया अध्याय जोडा है।

 Sharesee more..
लोगाें की राय के बाद गांधी को सूझा था ‘सत्याग्रह’ शब्द

लोगाें की राय के बाद गांधी को सूझा था ‘सत्याग्रह’ शब्द

18 Apr 2018 | 1:34 PM

नयी दिल्ली 18 अप्रैल (वार्ता) देश की आजादी के साथ साथ सांप्रदायिक सद्भाव और सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ गांधी जी ने जिस रास्ते को अपनाया और दुनिया के लोगों के लिये जो विरोध का एक अहिंसक हथियार बन गया उसे ‘सत्याग्रह’ का नाम देने से पहले उन्होंने लोगों की राय ली थी।

 Sharesee more..
नये प्रयोगों ने बढ़ाया बच्चों में स्कूल के प्रति लगाव

नये प्रयोगों ने बढ़ाया बच्चों में स्कूल के प्रति लगाव

13 Apr 2018 | 11:17 AM

नैनीताल 13 अप्रैल (वार्ता) उत्तराखंड के सरकारी स्कूलों के बच्चों में रचनात्मकता और कल्पनाशीलता काे बढ़ाने के लिये शुरु किये अभिनव प्रयोगों से न केवल उनमें नयी उमंग का संचार हुआ है बल्कि नयी नयी चीजें सीखने की जिज्ञासा बढ़ी है।

 Sharesee more..
image