Wednesday, Apr 25 2018 | Time 02:38 Hrs(IST)
image
image image
BREAKING NEWS:
  • अब्दुल हामिद ने ली बंगलादेश के राष्ट्रपति पद की शपथ
  • फर्जी पासपोर्ट मामले में पाकिस्तानी नागरिक को जेल
फीचर्स Share

अनपिंग किले, नमक खदान और चीनी मिल में सहेजा ताईवान का इतिहास

अनपिंग किले, नमक खदान और चीनी मिल में सहेजा ताईवान का इतिहास

ताईनेन . नयी दिल्ली 19 फरवरी (वार्ता) पूर्वी एशिया और चीन सागर के द्वीपीय देश ताईवान में डच और जापान के अौपनिवेशिक शासन के इतिहास को अनपिंग किले, नमक संग्रहालय और चीनी मिल में सहेजते हुए इन्हें विश्व पर्यटन के स्थल के रुप में विकसित करने के प्रयास किए जा रहे हैं। लगभग 400 किलोमीटर लंबे और 150 किलोमीटर चौड़े देश ताईवान ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाने के लिए अपना इतिहास स्वतंत्र रुप से लिखना शुरू किया है। इसके लिए चीन से अलग ताईवान ने ऐसे स्थलों को पहचाना और इन्हें अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर रखना शुरू किया है जिनका संबंध केवल ताईवान की भूमि है। गौरतलब है कि चीन में साम्यवादी क्रांति के बाद ताईवान में लोकतांत्रिक व्यवस्था का स्वीकार किया अौर अपने आप के स्वतंत्र और संप्रभु राष्ट्र घोषित कर दिया। ताईनेन शहर के अनपिंग किले का निर्माण वर्ष 1624 में आरंभ किया और इसे बांस की लकडियों से बनाया गया क्योंकि उस समय पक्की ईटें उपलब्ध नहीं हो पायी थी। हालांकि 1627 में इसकी निर्माण पक्की ईंटों से शुरू किया जो 1633 में पूरा गया। किले का मुख्य इस्तेमाल चीन सागर से होने वाली व्यापारिक आैर सामरिक गतिविधियों पर नजर रखना था। यह आयुध भंडार भी था जिसके कारण यह विदेशी आक्रमणकारियों के निशाने पर रहा। इसी किले में ईस्ट इंडिया कंपनी और डच सरकार के बीच एक संधि की प्रति भी रखी गयी है जिसमें डच कंपनियों ने भारत और ईस्ट इंडिया कंपनी ने चीन के साथ व्यापार के अधिकार छोड दिए थे। अनपिंग किले को तीन मंजिल बनाया गया है और इसकी सुरक्षा के लिए 10 मीटर ऊंची दीवारों के तीन घेरे बनाए गए हैं। लगभग 400 वर्ष के इतिहास में अनपिंग किला मिंग और क्विंग सल्तनत और डच तथा जापानी औपनिवेशिक शासन के आधीन रहा। इससे आयुध भंडार, आवास तथा कार्यालय के रुप इस्तेमाल किया गया। बहरहाल इस किले की कुछ पुरानी दीवारें बची है जिन्हें तकनीक का इस्तेमाल करते हुए पर्यटन स्थल के रुप में विकसित किया गया है। सत्या/टंडन जारी वार्ता

More News
नये प्रयोगों ने बढ़ाया बच्चों में स्कूल के प्रति लगाव

नये प्रयोगों ने बढ़ाया बच्चों में स्कूल के प्रति लगाव

13 Apr 2018 | 11:17 AM

नैनीताल 13 अप्रैल (वार्ता) उत्तराखंड के सरकारी स्कूलों के बच्चों में रचनात्मकता और कल्पनाशीलता काे बढ़ाने के लिये शुरु किये अभिनव प्रयोगों से न केवल उनमें नयी उमंग का संचार हुआ है बल्कि नयी नयी चीजें सीखने की जिज्ञासा बढ़ी है।

 Sharesee more..
गांधी से बहुत कम याद की जाती हैं कस्तूरबा

गांधी से बहुत कम याद की जाती हैं कस्तूरबा

11 Apr 2018 | 10:47 AM

(प्रसून लतांत) नयी दिल्ली, 11 अप्रैल (वार्ता) दक्षिण अफ्रीका और देश में आजादी के आंदोलन के दौरान साए की तरह राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के साथ रहीं और जनसेवा तथा रचनात्मक कार्यों में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेने वाली कस्तूरबा गांधी को बहुत कम ही याद किया जाता है।

 Sharesee more..
एक मुट्ठी नमक बना गांधी ने ललकारा था अंग्रेज हुकुमत को

एक मुट्ठी नमक बना गांधी ने ललकारा था अंग्रेज हुकुमत को

06 Apr 2018 | 12:55 PM

नयी दिल्ली, 06 अप्रैल (वार्ता) राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का नमक सत्याग्रह केवल नमक कर के खात्मे तक सीमित नहीं था बल्कि इसके जरिये उन्होंने ब्रिटिश हुकूमत को सीधी चुनौती दी और उसे यह अहसास कराया कि उसका शासन ज्यादा दिन टिकने वाला नहीं है।

 Sharesee more..
विवाह में देरी बांझपन का मुख्य कारक

विवाह में देरी बांझपन का मुख्य कारक

01 Apr 2018 | 1:13 PM

लखनऊ 01 अप्रैल (वार्ता) आमतौर पर बांझपन की समस्या के लिये महिलाओं को जिम्मेदार ठहराया जाता है लेकिन चिकित्सकों का मानना है कि अनियमित दिनचर्या,खानपान,तनाव,नशे की लत और विवाह में देरी समेत कई कारकों से देश में पुरूषों में बांझपन की समस्या विकराल रूप धारण कर रही है।

 Sharesee more..
गांधी ने चरखे को बनाया आर्थिक स्वावलम्बन का प्रतीक

गांधी ने चरखे को बनाया आर्थिक स्वावलम्बन का प्रतीक

27 Mar 2018 | 2:21 PM

(प्रसून लतांत से) नयी दिल्ली, 27 मार्च (वार्ता) एक सौ साल पहले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की इच्छा पर खोज निकाला गया चरखा आजादी की लड़ाई में आर्थिक स्वावलम्बन का प्रतीक बना लेकिन आज वह देश में सिर्फ प्रदर्शन की वस्तु बन कर रह गया है जबकि विदेशियों के लिये वह चिंतन और ध्यान का आधार बन रहा है।

 Sharesee more..
image